aapkikhabar aapkikhabar

25 नवंबर को है गुरु नानक देव का प्रकाश पर्व



25 नवंबर को है गुरु नानक देव का प्रकाश पर्व

aapkikhabar.com

जयपुर-- कार्तिक मास की पूर्णिमा को गुरु नानक देवजी का प्रकाश पर्व मनाया जाता है। इस वर्ष यह (25 नवम्बर- बुधवार) को है। इस दिन गुरुद्वारों में विशेष पूजा की जाती है और गुरुवाणी का पाठ कर लंगर लगाया जाता है। गुरु नानक देव सिखों के प्रथम गुरु थे। उनका प्राकट्य तलवंडी (वर्तमान पाकिस्तान) में 1469 में हुआ था।उन्होंने अनेक स्थानों की यात्रा की और लोगों को दिव्य ज्ञान दिया। 22 सितंबर 1539 को उन्होंने मानव देह का त्याग किया था। नानक देवजी के उपदेशों का लोगों पर गहरा प्रभाव पड़ा। उनके पास परमात्मा की दिव्य शक्तियां थीं।उनके उपदेश जितने सरल और सीधे हैं, उनका असर उतना ही व्यापक है। नानक देव जितने उच्च कोटि के संत थे, मानव मन के भी उतने ही बड़े जानकार थे। जो काम बड़े से बड़ा विद्वान और राजा उस समय नहीं कर सका, वह उन्होंने अपने प्रवचनों से कर दिखाया। ऐसी ही एक सत्य कथा है, जब नानक देव ने डाकुओं की जिंदगी बदल दी थी।एक बार गुरु नानक देव जगन्नाथ पुरी जा रहे थे। उस जमाने में न तो कोई रेल थी और न ही यात्रा के आज जैसे साधन। पैदल या घोड़ों पर ही यात्रा की जाती थी। नानक देव को पैदल भ्रमण करना पसंद था, क्योंकि इसके जरिए वे सामान्य लोगों की जिंदगी से रूबरू होते थे।वे अपने रास्ते जा रहे थे। तभी उनका सामना डाकुओं से हो गया। डाकुओं के सरदार ने देखा, इस व्यक्ति के चेहरे पर जैसी आभा है, वह आज तक किसी और चेहरे पर दिखाई नहीं दी। संभवतः यह बहुत धनवान व्यक्ति है जिसे लूटकर हम पूरी जिंदगी के अभाव दूर कर लेंगे।वह अपने पूरे गिरोह के साथ आया और गुरु नानक देव से बोला, जो कुछ माल तुम्हारे पास है, सब हमें दे दो। अन्यथा अभी तुम्हारी हत्या कर देंगे।डाकू पूरी तैयारी के साथ आए थे लेकिन नानक पर उनका कोई खौफ नहीं था। वे बोले, ठीक है, जो कुछ लेना चाहते हो, ले सकते हो, लेकिन मेरी एक अंतिम इच्छा भी है।सरदार बोला, आज तक हमसे किसी ने अंतिम इच्छा का जिक्र नहीं किया। फिर भी हम तुम्हारी इच्छा पूरी करेंगे। जल्दी बताओ, क्या है तुम्हारी अंतिम इच्छा?नानक देव ने फरमाया, मेरी अंतिम इच्छा ये है कि जब तुम हमें मार दो तो शव का अंतिम संस्कार जरूर कर देना, ताकि इस मानव देह का अपमान न हो। इसलिए पहले आग जलाने का प्रबंध कर लो।इस अनोखी मांग को सुनकर पहले तो डाकू चकित हुए, लेकिन उन्होंने सोचा, यह कोई ऐसी मांग नहीं जो कि हम पूरी न कर सकें। इसलिए सरदार अपने दो डाकुओं के साथ आग लाने के लिए रवाना हुआ।चलते-चलते उन्हें कहीं दूर धुआं दिखाई दे रहा था। वे उसी दिशा में चल दिए। वहां पहुंचकर देखा कि गांव के लोग एक शव की अंत्येष्टि कर रहे थे। डाकू उन लोगों के पास गए और उनकी बातें सुनने लगे।लोग उस मृतक की निंदा कर रहे थे। एक व्यक्ति कह रहा था, अच्छा हुआ जो यह दुष्ट मर गया। जीवित रहता तो न जाने कितने लोगों को संकट में डालता।दूसरा कह रहा था, भगवान ऐसा पुत्र दे इससे अच्छा तो यही है कि व्यक्ति निसंतान रह जाए। भला वह जीना भी क्या जीना जिसमें इंसान कोई नेक काम न करे। ऐसे लोगों के जीवन पर तो धिक्कार है।डाकुओं ने यह बात सुनी तो वापस आ गए। आज उन्हें यह महसूस हो रहा था कि अब तक बुरे काम कर वे अपने लिए न जाने कितनी गहरी नर्क की खाई खोद चुके हैं। क्या इसका कोई प्रायश्चित भी है?उन्होंने नानक देव के चरण पकड़ लिए और बोले, महाराज, आप कोई साधारण व्यक्ति नहीं हैं। आज तक हमने न जाने कितने लोगों का जीवन उजाड़ा, लेकिन हमें ऐसा उपदेश किसी ने नहीं दिया। अब आप ही बताइए हम क्या करें?नानक बोले, सबसे पहले यह काम छोड़ दो और प्रतिज्ञा करो कि जीवन में कभी किसी का हक नहीं मारोगे, कभी चोरी नहीं करोगे, कभी किसी की हत्या नहीं करोगे। भूलवश तुमने अब तक की जिंदगी पाप के मार्ग पर बिता दी।अब संभल जाओ और परोपकार में लग जाओ। मत भूलो, ये जिंदगी हमेशा नहीं रहेगी और एक दिन तुम्हें हर एक आंसू का हिसाब देना होगा, जो तुम्हारी वजह से किसी दुखी इंसान की आंसू से निकला था। नानक देव के मुख से यह उपदेश सुनकर डाकुओं ने यह घृणित कार्य छोड़ दिया और उनकी जिंदगी बदल गई।
पढ़ना न भूलेंः- धर्म, ज्योतिष और अध्यात्म की अनमोल बातें


-



सम्बंधित खबरें



खबरें स्लाइड्स में


खबरें ज़रा हट के


Latest news with Aapkikhabar

"आज के ताज़े समाचार' के साथ आपकी ख़बर

भारत के सबसे लोकप्रिय समाचार के स्रोत में आपका स्वागत है ताजा समाचार और रोज के ताजा घटनाक्रम के लिए दैनिक समाचार को पढने के लिए हमारी वेबसाइट सही और प्रमाणिक समाचारों को खोजने के लिए सबसे अच्छी जगह है। हम अपने पाठकों को पूरे देश और उसके मुख्य क्षेत्रों में नवीनतम समाचारों के साथ प्रदान करते हैं। हमारा मुख्य लक्ष्य खबरों को एक उद्देश्य के साथ मूल्यांकन भी देना है और इस तरह के क्षेत्रों में राजनीति, अर्थव्यवस्था, अपराध, व्यवसाय, स्वास्थ्य, खेल, धर्म और संस्कृति के रूप में क्या हो रहा है, इस पर भी प्रकाश डालना है। हम सूचना की खोज करते हैं और सबसे महत्वपूर्ण ग्लोबल घटनाओं से संबंधित सामग्री को तुरंत प्रकाशित करते हैं।.

Trusted Source for News

ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए सबसे विश्वसनीय स्रोत है आपकी खबर

आपकी खबर उन लोगों के लिए एक बेहतरीन माध्यम है जिनके कई मुद्दों पर अपनी अलग राय है हम अपने पाठकों को भी एक माध्यम उपलब्ध कराते हैं जो ख़बरों का विश्लेषण कर सकें निर्भीक रूप से पत्रकारिता कर सकें | आपकी खबर का प्रयास रहता है की ख़बरों के तह तक जाएँ पुरी सच्चाई पता करें और रीडर को वह सब कुछ जानकारी दें जो अमूमन उन्हें नहीं मिल पाती है | यह प्रयास मात्र इस लिए है कि रीडर भी अपनी राय को पूरी जानकारी से व्यक्त कर सके |
खबर पढने वाले पाठकों की सुविधा के लिए हमने आपकी खबर में विभिन्न कैटेगरी में बात है जैसे कि विशेष , बड़ी खबर ,फोटो न्यूज़ , ख़बरें मनोरंजन,लाइफस्टाइल, क्राइम ,तकनीकी , स्थानीय ख़बरें , देश की ख़बरें उत्तर प्रदेश , दिल्ली , महाराष्ट्र ,हरियाणा ,राजस्थान , बिहार ,झारखण्ड इत्यादि |

Develop a Habit of Reading

अब अखबार नहीं डिजिटल अखबार पढ़िए “आप की खबर” के साथ

आपकी खबर सामाचार ताजा सामाचारों का एक डिजिटल माध्यम है जो जनता को सच्चाई देने में समाचारों का एक विश्वसनीय स्रोत बनने का प्रयास है। हमारे दर्शकों के पास समाचार पर टिप्पणी करने और अन्य पाठकों के साथ अपनी स्वतंत्र राय साझा करने का अंतिम अधिकार है। हमारी वेबसाइट ब्राउज़ करें और आप की खबर (आज की ताजा खबर) की जाँच करें, साथ ही आपको मिलेगा आपकी खबर के एक्सपर्ट्स की टीम खबरों की तह तक जाने का प्रयास करती है और कोशिस करती है कि सही विश्लेषण के साथ खबर को परोसा जाए जिसमे वीडियो और चित्र की भी प्रमंकिता हो । इसके लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें और भारत में कुछ भी नया घटनाक्रम को घटित होने पर अपने को रखें अपडेट |