aapkikhabar aapkikhabar

इस गाँव मे" भूत" के डर से कर ली 80 लोगों ने "आत्महत्या "



इस गाँव मे

aapkikhabar.com

नई दिल्ली। मध्यप्रदेश के खरगोन जिले में स्थित बाडी गांव में न सूखा पड़ा है, न किसी तरह की प्राकृतिक आपदा फिर भी यहां के प्रत्येक परिवार से कम से कम एक सदस्य ने आत्महत्या का रास्ता अपना लिया है यहां तक कि गांव के सरपंच ने भी पेड़ से लटक कर जान दे दी। यहां  90 दिनों में लगभग 80 लोगो आत्महत्या का रास्ता अपना चूके है।  इस वर्ष के शुरुआती तीन महीनों के भीतर ही गांव में 80 लोगों ने आत्महत्या कर लिया। गांव के नए सरपंच राजेंद्र सिसोदिया ने गांव पर ‘प्रेतात्मा के साया’ होने की बात कही है।

खरगोन भारत के पिछडे जिलों में--

- खरगोन जिला भारत के पिछड़े जिलों में से एक है यहां गरीबी भी है।
- अंधविश्वास और इस तरह के अन्य बातों पर लोगों का विश्वास है।
- पिछले वर्ष यहां 381 आत्महत्या के मामले दर्ज किए गए थे। 
- पूर्व सरपंच जीवन के आत्महत्या करने के बाद दो माह पहले ही सिसोदिया को नया सरपंच नियुक्त किया गया था।
- सिसोदिया ने कहा, ‘हमारे गांव में 320 परिवार रहते हैं।
- प्रत्येक परिवार से कम से कम एक सदस्य ने खुद की जान ली है।‘

पुलिस सुपरिटेंडेंट के अनुसार--

- 2,500 की जनसंख्या वाले इस गांव में हाल के वर्षों में 350 लोगों ने आत्महत्या कर ली। 
- पुलिस सुपरिटेंडेंट अमित सिंह ने कहा, ‘इस वर्ष के शुरुआती तीन महीनों में बाडी के 80 ग्रामीणों ने आत्महत्या की है।‘

गांव पर प्रेतात्मा--

- हालांकि गांव वालों का विश्वास प्रेतात्मा पर है |
- मनोचिकित्सकों ने  आत्महत्या का कारण डिप्रेशन या साइजोफ्रेनिक बताया है |
- जो खेतों में अधिक कीटनाशकों के प्रयोग के कारण हो सकता है।

चीन में आ चूका है ऐसा मामला--

- कुछ वर्षों पहले चीन के एक क्षेत्र में भी इस तरह का मामला सामने आया था।
- वहां के किसानों ने भी आत्महत्या की थी ।
- इसका कारण था वहां के कीटनाशकों में आर्गनफॉस्फेट की मात्रा।
- यह काफी जहरीला होता है और डिप्रेशन का कारण बनता है।

बाडी गांव में लोग कपास जैसे अनाजों पर निर्भर हैं और यदि फसल के पैदावार में कमी होती है तो लोग आर्थिक रूप से तनाव में आ जाता हैं। अशोक वर्मा ने आत्महत्या के इन मामलों की पड़ताल के लिए कमेटी का गठन किया हे।

courtesy web

-



सम्बंधित खबरें



खबरें स्लाइड्स में


खबरें ज़रा हट के


Latest news with Aapkikhabar

"आज के ताज़े समाचार' के साथ आपकी ख़बर

भारत के सबसे लोकप्रिय समाचार के स्रोत में आपका स्वागत है ताजा समाचार और रोज के ताजा घटनाक्रम के लिए दैनिक समाचार को पढने के लिए हमारी वेबसाइट सही और प्रमाणिक समाचारों को खोजने के लिए सबसे अच्छी जगह है। हम अपने पाठकों को पूरे देश और उसके मुख्य क्षेत्रों में नवीनतम समाचारों के साथ प्रदान करते हैं। हमारा मुख्य लक्ष्य खबरों को एक उद्देश्य के साथ मूल्यांकन भी देना है और इस तरह के क्षेत्रों में राजनीति, अर्थव्यवस्था, अपराध, व्यवसाय, स्वास्थ्य, खेल, धर्म और संस्कृति के रूप में क्या हो रहा है, इस पर भी प्रकाश डालना है। हम सूचना की खोज करते हैं और सबसे महत्वपूर्ण ग्लोबल घटनाओं से संबंधित सामग्री को तुरंत प्रकाशित करते हैं।.

Trusted Source for News

ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए सबसे विश्वसनीय स्रोत है आपकी खबर

आपकी खबर उन लोगों के लिए एक बेहतरीन माध्यम है जिनके कई मुद्दों पर अपनी अलग राय है हम अपने पाठकों को भी एक माध्यम उपलब्ध कराते हैं जो ख़बरों का विश्लेषण कर सकें निर्भीक रूप से पत्रकारिता कर सकें | आपकी खबर का प्रयास रहता है की ख़बरों के तह तक जाएँ पुरी सच्चाई पता करें और रीडर को वह सब कुछ जानकारी दें जो अमूमन उन्हें नहीं मिल पाती है | यह प्रयास मात्र इस लिए है कि रीडर भी अपनी राय को पूरी जानकारी से व्यक्त कर सके |
खबर पढने वाले पाठकों की सुविधा के लिए हमने आपकी खबर में विभिन्न कैटेगरी में बात है जैसे कि विशेष , बड़ी खबर ,फोटो न्यूज़ , ख़बरें मनोरंजन,लाइफस्टाइल, क्राइम ,तकनीकी , स्थानीय ख़बरें , देश की ख़बरें उत्तर प्रदेश , दिल्ली , महाराष्ट्र ,हरियाणा ,राजस्थान , बिहार ,झारखण्ड इत्यादि |

Develop a Habit of Reading

अब अखबार नहीं डिजिटल अखबार पढ़िए “आप की खबर” के साथ

आपकी खबर सामाचार ताजा सामाचारों का एक डिजिटल माध्यम है जो जनता को सच्चाई देने में समाचारों का एक विश्वसनीय स्रोत बनने का प्रयास है। हमारे दर्शकों के पास समाचार पर टिप्पणी करने और अन्य पाठकों के साथ अपनी स्वतंत्र राय साझा करने का अंतिम अधिकार है। हमारी वेबसाइट ब्राउज़ करें और आप की खबर (आज की ताजा खबर) की जाँच करें, साथ ही आपको मिलेगा आपकी खबर के एक्सपर्ट्स की टीम खबरों की तह तक जाने का प्रयास करती है और कोशिस करती है कि सही विश्लेषण के साथ खबर को परोसा जाए जिसमे वीडियो और चित्र की भी प्रमंकिता हो । इसके लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें और भारत में कुछ भी नया घटनाक्रम को घटित होने पर अपने को रखें अपडेट |