aapkikhabar aapkikhabar

कानपुर का "शहंशाह "कछुआ "जिसे देखने मात्र से ही बन जाते हैं" बिगड़े "काम



कानपुर का

aapkikhabar.com


कानपुर-आमतौर पर घरों में देखा जाता है कि लोग मछली व कछुआ इसलिए पालते है कि सुबह-सुबह इनको देखने पर पूरा दिन शुभ रहता है लेकिन शहर के 364 साल पुराने तालाब में शहंशाह कछुआ को इसलिए देखने के लिए बेताब रहते है कि बिगड़ा हुआ काम कम बन जाता है ण् हालांकि यह कछुआ बड़ी मिन्नत के बाद ही दिखाई देता है पनकी  थाना क्षेत्र के भाटिया तिराहे के पास पनकी हनुमान मंदिर रोड़ पर बांईं ओर आपको एक बोर्ड दिखायी देगा, बोर्ड पर लिखा है, श्री नागेश्वर मंदिर एवं कछुआ तालाब, जिस पर 355 साल से लेकर 100 साल तक के कछुओं का आशियाना हैण् कछुआ तालाब को 364 साल पहले अंग्रेजो हुकूमत के दौरान देवी दयाल पाठक के पूवँजों ने बनवाया था। तालाब की लंबाई और चैड़ाई करीब 70 फुट है और वह पूरा कच्चा हैण् जब हम लोग वहां पहुंचे तो तालाब के मटमैले पानी में कछुए नहीं दिखाई दिए, पानी एकदम शांत थाण् इस बीच स्थानीय निवासी अजय निगम ने तालाब की सीढि़यों पर पनीर के छोटे-छोटे टुकड़े बिखेर कर कछुओं को आवाज लगाने लगेण् 20 मिनट तक आवाज लगाने के बाद कुछ कछुए पानी की सतह से ऊपर आए और वहां मौजूद लोगों ने कई किलो पनीर के टुकड़े पानी में फेके, जीभर खाया और फिर अपने आशियाने में चले गए ण् कछुए तो काफी है लेकिन लोग शहंशाह को देखने के लिए लालायित रहते है हो भी क्यों न लोगों को विश्वास  है  कि शहंशाह के दर्शन होने से बिगड़े हुए काम बन जाते हैण्जब कछुए पनीर खाकर वापस जाने लगे तो लोगों को लगा कि आज शहंशाह के दर्शन नहीं हो पाएगें इसी बीच गोविन्दपुर निवासी सुभाष ने ब्रेड का पैकेट फाडा और तेजी आवाज में शहंशाह को पुकारने लगा आवाज सुनकर कीचड़ से सना शहंशाह सीढि़यों के पास आया और लोगों ने उसे खूब पनीर खिलाकर दर्शन किए ण्पनकी के अवनीश दुबे ने बताया कि जब भी हम कुछ शुभ कार्य करते हैं तो शहंशाह के दर्शन जरूर करते हैंण्पनीर ब्रेड खाने के बाद शहंशाह के साथ सभी कछुए पानी के अंदर चले गए और पानी की सतह फिर शांत हो गईण्पूजा के बाद मिलता है कछुओं को भोजन सुनील ने बताया कि वह पिछले दो साल से हर मंगलवार को इस तालाब में आ रहा हैंण् पहले मंदिर में पूजा करते हैं और फिर कछुओं को पनीर खिलाते हैंण् वहीं सुधीर तिवारी जो आजाद नगर से हर रोज सुबह कछुओं को देखने के लिए आते हैंण्उनका मानना है कि शंहशाह नाम के कछुए के दर्शन अगर हो जाएं तो समझो सब बिगड़े काम बन जाते हैंण्वहीं तालाब के पास खड़ी रश्मि कुशवाहा का कहना है कि वह एक साल से कछुआ तालाब आती हैं और एक किलो पनीर कछुओं को खिला कर ही घर जाती हैंण् सिंध से आए व्यक्ति ने बनवाया था तालाब मौजूदा दौर में जब तालाब और पानी में रहने वाले जीव समाप्त होते जा रहे हैं, शहर में एक घनी आबादी के बीच कछुए जैसे दुर्लभ प्राणी फल फूल रहें हैं, वह भी बिना किसी सरकारी मदद केण्नागेश्वर मंदिर के पुजारी देवी दयाल पाठक कहते हैं कि इस तालाब और मंदिर की स्थापना उनके पूर्वजों ने की थी, हालांकि ये कब बना इसके बारे में ठीक-ठीक जानकारी नहीं हैण्लेकिन हमें बताया गया है कि ये तालाब 364 साल से अधिक पुराना है देवी दयाल पाठक ने बताया कि उनके पूर्वज पाकिस्तान के सिंध से आकर कानपुर में बस गए थे देवी दयाल कहते हैं कि तालाब में सैकड़ों की तादात में कछुए हैं और उनमें से कुछ की उम्र 355 साल से अधिक हो चुकी है।शहर के अलावा आस-पास जनपद के लोग भी अपनी मुराद पूरी होने के लिए देखने आते है और इन कछुओं को खाना खिलाते हैं ण्पुजारी देवी दयाल ने बताया कि आसपास के जिलों के लोग भी कछुओं आओ-आओ..... की आवाज लगाते हैं तो कछुए पानी के बाहर सीढि़यों में आ जाते हैं। बताते हैं कि दो-तीन बार कुछ लोगों ने तालाब से कछुओं को पकड़ने की कोशिश की थी, लेकिन मोहल्ले वालों ने उन्हें पकड़ कर पीट दिया 364 साल पुराने तालाब की देखभाल कर रहे देवी दयाल पाठक ने बताया कि कछुआ तालाब के रखरखाव के साथ ही समरसेबल पम्प खुद चंदाकर लगवाया और उसे चलाने के लिए बिजली न होने के कारण इलाकाई लोगों द्वारा सोलर लाइट की व्यवस्था की है जिसके जरिए तालाब का पानी कभी सूखने न पाए ण्पुजारी ने बताया कि कल्याण सिंह और राजनाथ सिंह यहां अपने कार्यकाल में आ चुके हैं, उन्होंने कई वादे भी किए, लेकिन सरकारी मदद नहीं मिलीण्उनका कहना है कि हर दिन सैकड़ों की संख्या में लोग कछुआ तालाब को देखने के लिए आते हैं, लेकिन पूरा तालाब कच्चा होने के चलते लोग कुछ देर रुकने के बाद चले जाते हैं।


अवनीश 

-



सम्बंधित खबरें



खबरें स्लाइड्स में


खबरें ज़रा हट के


Latest news with Aapkikhabar

"आज के ताज़े समाचार' के साथ आपकी ख़बर

भारत के सबसे लोकप्रिय समाचार के स्रोत में आपका स्वागत है ताजा समाचार और रोज के ताजा घटनाक्रम के लिए दैनिक समाचार को पढने के लिए हमारी वेबसाइट सही और प्रमाणिक समाचारों को खोजने के लिए सबसे अच्छी जगह है। हम अपने पाठकों को पूरे देश और उसके मुख्य क्षेत्रों में नवीनतम समाचारों के साथ प्रदान करते हैं। हमारा मुख्य लक्ष्य खबरों को एक उद्देश्य के साथ मूल्यांकन भी देना है और इस तरह के क्षेत्रों में राजनीति, अर्थव्यवस्था, अपराध, व्यवसाय, स्वास्थ्य, खेल, धर्म और संस्कृति के रूप में क्या हो रहा है, इस पर भी प्रकाश डालना है। हम सूचना की खोज करते हैं और सबसे महत्वपूर्ण ग्लोबल घटनाओं से संबंधित सामग्री को तुरंत प्रकाशित करते हैं।.

Trusted Source for News

ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए सबसे विश्वसनीय स्रोत है आपकी खबर

आपकी खबर उन लोगों के लिए एक बेहतरीन माध्यम है जिनके कई मुद्दों पर अपनी अलग राय है हम अपने पाठकों को भी एक माध्यम उपलब्ध कराते हैं जो ख़बरों का विश्लेषण कर सकें निर्भीक रूप से पत्रकारिता कर सकें | आपकी खबर का प्रयास रहता है की ख़बरों के तह तक जाएँ पुरी सच्चाई पता करें और रीडर को वह सब कुछ जानकारी दें जो अमूमन उन्हें नहीं मिल पाती है | यह प्रयास मात्र इस लिए है कि रीडर भी अपनी राय को पूरी जानकारी से व्यक्त कर सके |
खबर पढने वाले पाठकों की सुविधा के लिए हमने आपकी खबर में विभिन्न कैटेगरी में बात है जैसे कि विशेष , बड़ी खबर ,फोटो न्यूज़ , ख़बरें मनोरंजन,लाइफस्टाइल, क्राइम ,तकनीकी , स्थानीय ख़बरें , देश की ख़बरें उत्तर प्रदेश , दिल्ली , महाराष्ट्र ,हरियाणा ,राजस्थान , बिहार ,झारखण्ड इत्यादि |

Develop a Habit of Reading

अब अखबार नहीं डिजिटल अखबार पढ़िए “आप की खबर” के साथ

आपकी खबर सामाचार ताजा सामाचारों का एक डिजिटल माध्यम है जो जनता को सच्चाई देने में समाचारों का एक विश्वसनीय स्रोत बनने का प्रयास है। हमारे दर्शकों के पास समाचार पर टिप्पणी करने और अन्य पाठकों के साथ अपनी स्वतंत्र राय साझा करने का अंतिम अधिकार है। हमारी वेबसाइट ब्राउज़ करें और आप की खबर (आज की ताजा खबर) की जाँच करें, साथ ही आपको मिलेगा आपकी खबर के एक्सपर्ट्स की टीम खबरों की तह तक जाने का प्रयास करती है और कोशिस करती है कि सही विश्लेषण के साथ खबर को परोसा जाए जिसमे वीडियो और चित्र की भी प्रमंकिता हो । इसके लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें और भारत में कुछ भी नया घटनाक्रम को घटित होने पर अपने को रखें अपडेट |