aapkikhabar aapkikhabar

आपके मोबाइल में छुपे हैं "यमराज " ले सकते हैं" प्राण"



aapkikhabar
नई दिल्ली- वर्तमान के समय में मोबाइल फोन लोगों की ज़िंदगी में इस कदर बस गया है, कि लोग बिना मोबाइल के एक मिनट भी नहीं रह पाते | लोग हर समय मोबाइल को अपने पास ही रखते हैं, और दिनभर में लगभग 7 से 8 घंटे नज़रें मोबाइल पर ही होती हैं | लेकिन वे शायद इस बात से अनजान हैं कि अधिक समय तक मोबाइल के उपयोग से शरीर पर इसका दुष्प्रभाव पड़ रहा है। विशेषज्ञों के मुताबिक मोबाइल शरीर के विभिन्न अंगों पर घातक प्रभाव पहुंचा रहे हैं। 

मोबाइल से बढ़ रहे बीमारियों के नेटवर्क--

1- नींद में भी दिखता है मोबाइल : डॉक्टर का कहना है कि जो पैसा और समय की टेंशन न लेकर मोबाइल का प्रयोग करते हैं वे अनिद्रा, थकान और चिड़चिड़ेपन का जल्दी शिकार हो जाते हैं। साथ ही शरीर की बॉयोलॉ जिकल क्लॉक बिगड़ जाती है। वे कई तरह की परेशानियों से घिर जाते हैं, उन्हें नींद में भी अहसास होता है कि उनके फोन की घंटी बज रही है। सेहत पर मोबाइल का प्रभाव मानसिक तौर पर अस्पष्टता की स्थिति जैसे चीजें याद रखने में परेशानी, बोलते-बोलते शब्द भूल जाना, कहीं फोकस न कर पाना, किसी की कही गई बात को ठीक से ग्रहण न कर पाना, गणितीय क्षमता का ह्रास, अपनी प्राथमिकताएं तय न कर पाना इत्यादि के रूप में सामने आ रहा है। 

2- कॉन्सन्ट्रेशन पावर पर प्रभाव-- पहले बच्चों की जुबान पर कोई नंबर या पता होता था, अब उसी नंबर को दिमाग में रखने की जगह मोबाइल में फीड कर दिया जाता है। मनोचिकित्सक डॉ. अवंतिका श्रीवास्तव का मानना है कि मोबाइल का ज्यादा इस्तेमाल बच्चों की कॉन्सन्ट्रेशन पावर पर तो प्रभाव डालता ही है, साथ ही उनकी याददाश्त पर भी असर करता है। अब बच्चों के दिमाग की अधिक कसरत ही नहीं हो पाती। हर पल कानों में मोबाइल के इयर फोन लगाकर रखने वाले इन बच्चों की याद रखने व सुनने की शक्ति भी प्रभावित हो रही है।

3- कान के परदों पर दुष्प्रभाव-- ईएनटी स्पेशलिस्ट डॉ. आरके शुक्ला का मानना है कि कान शरीर का संवेदनशील अंग है। आज ज्यादातर लोग मोबाइल वाइब्रेटर पर लगाकर रखते हैं जिसका दुष्प्रभाव कान के परदों पर पड़ता है। इतना ही नहीं लगातार बात करने की वजह से कान की हाई फ्रीक्वेंसी प्रभावित होती है जिससे लोगों को एस, टी, एफ और जेड जैसे शब्द जल्दी नहीं सुनाई देते हैं। इसके अलावा कानों में भारीपन, बंद होना, गरमाहट और झनझनाहट सुनाई देती है। समस्या ज्यादा गंभीर होने पर व्यक्ति को थोड़ी-थोड़ी देर पर घंटी की आवाज सुनाई देती है। युवाओं को लगातार बात करने की बजाय थोड़ी-थोड़ी देर के अंतराल पर बात करनी चाहिए।

4- कमजोर हो रहा है दिल-- युवा मोबाइल की हर दूसरे दिन रिंग टोन बदल देते है। रिंग टोन की मस्त धुन सुनते युवा जाने-अनजाने में अपने दिल को कमजोर बना रहे हैं। जिस प्रकार ईसीजी के दौरान इलेक्ट्रिक मैग्नेटिक सिग्नल कुछ समय के लिए आपके हृदय की गति को नियंत्रित करता है, उसी तरह मोबाइल के रेडिएशन का असर भी आपकी धमनियों पर पड़ता है। हार्ट स्पेशलिस्ट डॉ. आरएस शर्मा कहते हैं कि ऐसे युवा जो मोबाइल अपनी शर्ट की जेब में रखते हैं, उनमें इसका खतरा और अधिक बढ़ जाता है। हृदय की सबसे छोटी वाली आर्टरी इसके प्रभाव में जल्दी आती है और व्यक्ति की अचानक मौत हो सकती है।

5- दिमाग को क्षतिग्रस्त करतीं तरंगें-- न्यूरोफिजिशियन डॉ. अनुपम साहनी बताते हैं कि मोबाइल पर अधिक बात करने की वजह से लगभग 15 प्रतिशत लोगों को मानसिक परेशानियों से जूझना पड़ता है। मोबाइल पर बहुत देर बात करते रहने से उनके कानों पर बुरा असर पड़ता है। 

6- मोबाइल से मौत का खतरा-- कहा जाता है कि किसी भी चीज का हद से ज्यादा इस्तेमाल करना हानिकारक होता है। मोबाइल युवाओं की जीवनशैली का सिर्फ हिस्सा ही नहीं है बल्कि उनका ऐसा साथी है, जिसके बिना वे एक पल भी नहीं रह सकते। वे यात्रा करते समय या इंतजार में या खाली समय में मनोरंजन करना चाहते हैं और इसके लिए कोई भी कीमत चुकाने को तैयार हैं। लेकिन कीमत यदि सेहत है तो सोचना चाहिए। 

भारतीय चिकित्सकों का यह मानना है कि मोबाइल फोन के इस्तेमाल से होने वाली मौतें धूम्रपान से होने वाली मौतों की तुलना में ज्यादा हो सकती हैं|
Source urid

-

Loading...

टिप्पणी करें

Your comment will be visible after approval

सम्बंधित खबरें



खबरें स्लाइड्स में


खबरें ज़रा हट के


Latest news with Aapkikhabar

"आज के ताज़े समाचार' के साथ आपकी ख़बर

भारत के सबसे लोकप्रिय समाचार के स्रोत में आपका स्वागत है ताजा समाचार और रोज के ताजा घटनाक्रम के लिए दैनिक समाचार को पढने के लिए हमारी वेबसाइट सही और प्रमाणिक समाचारों को खोजने के लिए सबसे अच्छी जगह है। हम अपने पाठकों को पूरे देश और उसके मुख्य क्षेत्रों में नवीनतम समाचारों के साथ प्रदान करते हैं। हमारा मुख्य लक्ष्य खबरों को एक उद्देश्य के साथ मूल्यांकन भी देना है और इस तरह के क्षेत्रों में राजनीति, अर्थव्यवस्था, अपराध, व्यवसाय, स्वास्थ्य, खेल, धर्म और संस्कृति के रूप में क्या हो रहा है, इस पर भी प्रकाश डालना है। हम सूचना की खोज करते हैं और सबसे महत्वपूर्ण ग्लोबल घटनाओं से संबंधित सामग्री को तुरंत प्रकाशित करते हैं।.

Trusted Source for News

ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए सबसे विश्वसनीय स्रोत है आपकी खबर

आपकी खबर उन लोगों के लिए एक बेहतरीन माध्यम है जिनके कई मुद्दों पर अपनी अलग राय है हम अपने पाठकों को भी एक माध्यम उपलब्ध कराते हैं जो ख़बरों का विश्लेषण कर सकें निर्भीक रूप से पत्रकारिता कर सकें | आपकी खबर का प्रयास रहता है की ख़बरों के तह तक जाएँ पुरी सच्चाई पता करें और रीडर को वह सब कुछ जानकारी दें जो अमूमन उन्हें नहीं मिल पाती है | यह प्रयास मात्र इस लिए है कि रीडर भी अपनी राय को पूरी जानकारी से व्यक्त कर सके |
खबर पढने वाले पाठकों की सुविधा के लिए हमने आपकी खबर में विभिन्न कैटेगरी में बात है जैसे कि विशेष , बड़ी खबर ,फोटो न्यूज़ , ख़बरें मनोरंजन,लाइफस्टाइल, क्राइम ,तकनीकी , स्थानीय ख़बरें , देश की ख़बरें उत्तर प्रदेश , दिल्ली , महाराष्ट्र ,हरियाणा ,राजस्थान , बिहार ,झारखण्ड इत्यादि |

Develop a Habit of Reading

अब अखबार नहीं डिजिटल अखबार पढ़िए “आप की खबर” के साथ

आपकी खबर सामाचार ताजा सामाचारों का एक डिजिटल माध्यम है जो जनता को सच्चाई देने में समाचारों का एक विश्वसनीय स्रोत बनने का प्रयास है। हमारे दर्शकों के पास समाचार पर टिप्पणी करने और अन्य पाठकों के साथ अपनी स्वतंत्र राय साझा करने का अंतिम अधिकार है। हमारी वेबसाइट ब्राउज़ करें और आप की खबर (आज की ताजा खबर) की जाँच करें, साथ ही आपको मिलेगा आपकी खबर के एक्सपर्ट्स की टीम खबरों की तह तक जाने का प्रयास करती है और कोशिस करती है कि सही विश्लेषण के साथ खबर को परोसा जाए जिसमे वीडियो और चित्र की भी प्रमंकिता हो । इसके लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें और भारत में कुछ भी नया घटनाक्रम को घटित होने पर अपने को रखें अपडेट |