aapkikhabar aapkikhabar

जिस बारादरी में आती थी केवड़े की खुशबू क्या हो गया उसका हाल



जिस बारादरी में आती थी केवड़े की खुशबू क्या हो गया उसका हाल

aapkikhabar.com

डेस्क - स्वर्ग की अनभूति कराने वाले ऐतिहासिक बारादरी पर मंडरा रहा है वीरानगी का सायासींढ़ियों से जुड़े कोंडर झील पर अब नही है प्रवासी पंक्षियों की किलकारियाँनवाब आसफुद्दौला ने 1775 ई0 में कराया था निर्माणगोण्डा स्वर्ग की अनुभूति कराने वाला ऐतिहासिक बारादरी व उसके सीडिंयों को छू कर कलकल बहती कोंडर झील जहां हजारों पंक्षी प्रवास करते थे। आज यहाँ वीरानगी का साया दस्तक दे रहा है। आसमा के दामन को छूने वाला बारादरी जहां नवाबी हैसियत पर दाग लगा रहा है वहीं कोंडर झील के निर्मल जल पर जल कुम्भियों का राज है। यहां देख कर ऐसा लगता है कि वक्त के गर्त में उपेक्षा का दंश झेलते हुए ये दोनों एक दूसरे को देख कर यही कह रहे हैं, वकत ने किया क्या हंसी सितम, तुम रहे न तुम हम रहे न हम।ऐतहासिक बारादरी  मुख्यालय गोण्डा से 26 कि.मी. की दूरी पर स्थित कस्बा वजीरगंज से 1 कि.मी. दूर पश्चिम की ओर कोणार्क मुनि के तपोभूमि कोंडर झील के तट पर स्थित है। जिसका निर्माण नवाब आसफुद्दौला ने 1775 ई0 से 1785 ई0 के मध्य जमशेद बाग के रूप में करवाया था। बताते चलें कि उन दिनों यहां मस्जिद, न्यायालय,व अन्य भवन भी निर्मित हुए थे। बावजूद इसके यहां नवाब ने अपने बेगम की याद में एक मकबरा भी बनवाया था, कहा जाता है कि कालान्तर के 1837-1842 के मध्य नवाब अमजद अली शाह ने इन धरोहरों को अपने मंत्री अमीन उद् दौला व मुंशी बकर अली को सौंप दिया। जो वकत के थपेड़ों को सहकर जमींदोज हो गया। अब यहां शेष इमारतें तो नहीं बची मगर नवाबी हैसियत खोकर भी नवाब का ऐतिहासिक बारादरी अतीत की यादों को अपने आगोश में सिमेटे आज भी अपने बदहाली की दास्तां सुना रहा है। और तो और बारादरी के सींढ़ियों को छूकर कलकल बहती कोंडर झील जहां नवाब अपने बेगम के साथ सैर किया करते थे वो गंदगी के अम्बार तले दब कर सिसकियां भर रहा। अवगत हो कि कुछ दिनों पहले सरकार व पुरातत्व विभाग द्वारा इसकी मुरम्मत कर रंग रोगन करवाया गया था बावजूद इसके इस पर बद रंगी का रंग आज भी बरकरार है। इतना ही नहीं अंग्रेजों के युद्ध से निपटने के लिए बारादरी के पूर्व में निर्मित जो बाउंड्री की दीवारे तोप के गोलों को भी सहने की क्षमता रखती थीं,वो आज रख रखाव के आभाव में किसी आइने के भांति टूट कर बिखर रही हैं। जलकुंभियो के आगोश में सिमटता जा रहा है कोंडर झीलमौसम का रंग बदलते ही जहां वजीरगंज के ही आरंगा पर्वती झील पर प्रवासी पंक्षियों ने डेरा डालकर झील का रौनक बढ़ाया है, वहीं स्वर्ग के मंजर को अनुभूति कराने वाले बारादरी के कोंडर झील पर पर जलकुम्भियों का राज है जो चांद पर धब्बा जैसा मालूम होता है। केवड़े के स्थान पर आ रही है शराब की दुर्गन्धबीते दिनों झील के तट पर हमेशा केवड़ों की खुश्बू  आती थी, जो किसी इतर से कम न था, मगर वक्त के साथ साथ महक बदल गयी। उक्त स्थान को आज शराबियों व जुआरियों ने अपना अड्डा बना लिया जहां केवड़े की खुश्बू के स्थान पर शराब की दुर्गन्ध ने अपना स्थान ले लिया है।जो बात इस जगह, वो कहीं पर नहीअवगत हो जब कुछ दिन पहले तत्कालीन डी. एम. ए.के.उपाध्याय सी. डी. ओ.  के साथ यहाँ पहुंचे तो उन्होंने भी दिल को छू लेने वाले इस स्थान का तारीफ किया। पुरातत्व व पर्यटक विभाग की बेरुखी के बावजूद यह ममोहक स्थान हर दिल अजीज है, जहाँ पहुँच कर इंसान स्वर्ग जैसे दृश्यों का अनभूति करता है,और उसे ये मशहूर पंक्तिया याद आ जाती है, दिल कहे रुक जा रे रुक जा, तू यहीं पर कहीं- जो बात इस जगह वो कहीं पर नहीं।

-



सम्बंधित खबरें



खबरें स्लाइड्स में


खबरें ज़रा हट के


Latest news with Aapkikhabar

"आज के ताज़े समाचार' के साथ आपकी ख़बर

भारत के सबसे लोकप्रिय समाचार के स्रोत में आपका स्वागत है ताजा समाचार और रोज के ताजा घटनाक्रम के लिए दैनिक समाचार को पढने के लिए हमारी वेबसाइट सही और प्रमाणिक समाचारों को खोजने के लिए सबसे अच्छी जगह है। हम अपने पाठकों को पूरे देश और उसके मुख्य क्षेत्रों में नवीनतम समाचारों के साथ प्रदान करते हैं। हमारा मुख्य लक्ष्य खबरों को एक उद्देश्य के साथ मूल्यांकन भी देना है और इस तरह के क्षेत्रों में राजनीति, अर्थव्यवस्था, अपराध, व्यवसाय, स्वास्थ्य, खेल, धर्म और संस्कृति के रूप में क्या हो रहा है, इस पर भी प्रकाश डालना है। हम सूचना की खोज करते हैं और सबसे महत्वपूर्ण ग्लोबल घटनाओं से संबंधित सामग्री को तुरंत प्रकाशित करते हैं।.

Trusted Source for News

ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए सबसे विश्वसनीय स्रोत है आपकी खबर

आपकी खबर उन लोगों के लिए एक बेहतरीन माध्यम है जिनके कई मुद्दों पर अपनी अलग राय है हम अपने पाठकों को भी एक माध्यम उपलब्ध कराते हैं जो ख़बरों का विश्लेषण कर सकें निर्भीक रूप से पत्रकारिता कर सकें | आपकी खबर का प्रयास रहता है की ख़बरों के तह तक जाएँ पुरी सच्चाई पता करें और रीडर को वह सब कुछ जानकारी दें जो अमूमन उन्हें नहीं मिल पाती है | यह प्रयास मात्र इस लिए है कि रीडर भी अपनी राय को पूरी जानकारी से व्यक्त कर सके |
खबर पढने वाले पाठकों की सुविधा के लिए हमने आपकी खबर में विभिन्न कैटेगरी में बात है जैसे कि विशेष , बड़ी खबर ,फोटो न्यूज़ , ख़बरें मनोरंजन,लाइफस्टाइल, क्राइम ,तकनीकी , स्थानीय ख़बरें , देश की ख़बरें उत्तर प्रदेश , दिल्ली , महाराष्ट्र ,हरियाणा ,राजस्थान , बिहार ,झारखण्ड इत्यादि |

Develop a Habit of Reading

अब अखबार नहीं डिजिटल अखबार पढ़िए “आप की खबर” के साथ

आपकी खबर सामाचार ताजा सामाचारों का एक डिजिटल माध्यम है जो जनता को सच्चाई देने में समाचारों का एक विश्वसनीय स्रोत बनने का प्रयास है। हमारे दर्शकों के पास समाचार पर टिप्पणी करने और अन्य पाठकों के साथ अपनी स्वतंत्र राय साझा करने का अंतिम अधिकार है। हमारी वेबसाइट ब्राउज़ करें और आप की खबर (आज की ताजा खबर) की जाँच करें, साथ ही आपको मिलेगा आपकी खबर के एक्सपर्ट्स की टीम खबरों की तह तक जाने का प्रयास करती है और कोशिस करती है कि सही विश्लेषण के साथ खबर को परोसा जाए जिसमे वीडियो और चित्र की भी प्रमंकिता हो । इसके लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें और भारत में कुछ भी नया घटनाक्रम को घटित होने पर अपने को रखें अपडेट |