देखिए किसने कहा हमारा देश किसी विशेष सम्प्रदाय या वर्ग और नस्ल की जागीर नहीं

सहारनपुर। मुताहिदा मजलिस-ए-अमल के तत्वावधान में आयोजित जनसभा में देश के मौजूदा हालात पर चिंता व्यक्त करते हुए मुसलमानों से अपने अधिकारों की रक्षा के लिए एकजुट होने का आह्वान किया गया तथा राष्ट्रपति को ज्ञापन भेज कर देश में अल्पसंख्यकों के हितों पर किए जा रहे कुठाराघात को रोके जाने की मांग की गई। ईदगाह रोड स्थित इस्लामियां इण्टर कॉलेज में संगठन के अध्यक्ष मौलाना अताउर्रहमान वजदी की अध्यक्षता में आयोजित जनसभा को संबोधित करते हुए वक्ताओं ने कहा कि हमारा देश किसी विशेष सम्प्रदाय या वर्ग और नस्ल की जागीर नहीं है। बल्कि उन सबका देश है, जो यहां के वासी और नागरिक है,जिनमें हिन्दू-मुस्लिम, सिक्ख, इसाई, बौद्ध, पारसी और जैन सब शामिल है। उन्होंने कहा कि एक विशेष मानसिकता के लोगों की तरफ से अपने राजनैतिक लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए इस समय हिन्दुस्तानी जनता को विभाजित करने और लड़ाने का जो सुनियोजित षडयंत्र रचा जा रहा है। वह अत्यंत आपत्तिजनक व दुखद है। केन्द्र में सत्ता के बदलाव के बाद से इन लोगों के हौंसले बुलंद है। सह सार्वजनिक संबंधों को खराब करने मे व्यस्त है। धार्मिक भावनाओं और सामुदायिक भेदभाव को भडक़ाने के लिए तरह-तरह के षडयंत्र रचे जा रहे है।

Share this story