योगी आदित्यनाथ का हुआ अपमान हिंदू युवा वाहिनी बीजेपी के खिलाफ मैदान में उतरी

भारतीय जनता पार्टी ने गोरखपुर से पार्टी सांसद योदी आदित्यनाथ को स्टार प्रचारकों की लिस्ट में शामिल किया था. लेकिन भाजपा सहित योगी आदित्यनाथ को भी यह पता नहीं होगा कि अगले कुछ दिनों में उनसे ही जुड़ा संगठन पार्टी को बड़ा झटका देने वाला है.दरअसल, हिंदू युवा वाहिनी ने कुशीनगर और महाराजगंज जिलों की छह सीटों पर उम्मीदवार उतारने का फैसला किया है. इस संगठन की स्थापना योगी आदित्यनाथ के संरक्षण में 2002 में हुई थी. अब हिंदू युवा वाहिनी का कहना है कि भाजपा ने उनके संस्थापक और गोरखनाथ मंदिर के परम पूजनीय संत का 'अपमान' किया है. ऐसे में वह यूपी की 64 विधानसभा सीटों पर चुनाव लड़ेगी.

हिंदू युवा वाहिनी के प्रदेश अध्यक्ष सुनील सिंह ने कहा, 'हमलोग अभी और प्रत्याशियों की सूची जारी करेंगे. पूर्वांचल के लोग चाहते हैं कि योगी आदित्यनाथ ही मुख्यमंत्री के उम्मीदवार हों, लेकिन बीजेपी ने इसे नकार दिया है. साथ ही बीजेपी ने आदित्यनाथ को इलेक्शन मैनेजमेंट कमिटी में भी शामिल नहीं किया है.उन्होंने कहा कि आदित्यनाथजी ने करीब 10 प्रत्याशियों की लिस्ट बीजेपी को सौंपी थी, लेकिन उनमें से केवल दो को ही टिकट दिए गए. अब हमलोग और सहन नहीं कर सकते हैं और इसीलिए हमने अपने उम्मीदवारों को मैदान में उतारने का फैसला किया है. एक अंग्रेजी अखबार के मुताबिक, सुनील सिंह का कहना है कि 2014 के लोकसभा चुनाव में हमने वोटरों से कहा था कि आप केवल योगी आदित्यनाथ को ही वोट नहीं दे रहे हैं, बल्कि एक भावी केंद्रीय मंत्री को चुन रहे हैं, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. यहां तक कि भाजपा ने परिवर्तन यात्रा के दौरान भी उनको तरजीह नहीं दी. परिवर्तन यात्रा के दौरान बैनरों और पोस्टरों पर आदित्यनाथ की जगह राजनाथ सिंह, उमा भारती, केशव प्रसाद मौर्य और कलराज मिश्रा जैसे नेताओं की तस्वीरें थी.

जब सुनील सिंह से यह पूछा गया कि क्या इसके लिए योगी आदित्यनाथ ने अपनी सहमति दी है, हिंदू युवा वाहिनी के नेता ने कहा कि भाजपा ने आदित्यनाथजी पर कोई 'काला जादू' कर रखा है. यूपी के कई जिलों में हमारी यूनिट है और हमने अपने कार्यकर्ताओं से कहा है कि वे बीजेपी के खिलाफ वोट दें. जिन उम्मीदवारों की विचारधारा हमसे मिलती है, हम उन्हें समर्थन करेंगे.हालांकि, हिंदू युवा वाहिनी के इस कदम से बीजेपी चिंतित नहीं दिखती है. यूपी बीजेपी के प्रवक्ता चंद्र मोहन का कहना है कि हिंदू युवा वाहिनी के उम्मीदवार अपना कोई प्रभाव नहीं छोड़ पाएंगे. आम लोगों को भाजपा और उनके नेताओं पर यकीन है. यूपी की जनता समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी से छुटकारा चाहती है और वो जरूर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को वोट देगी.

भाजपा को हो सकता नुकसान
योगी आदित्यनाथ पांच बार गोरखपुर से सांसद रहे हैं और पूर्वांचल में उन्हें भाजपा का कद्दावर नेता माना जाता है. 2014 के लोकसभा चुनाव में आदित्यनाथ ने नरेंद्र मोदी और राजनाथ सिंह के साथ मिलकर जमकर प्रचार किया था. यहां तक कि बीजेपी ने उन्हें प्रचार के लिए हेलीकॉप्टर भी मुहैया कराई थी. 12 विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनावों में भी आदित्यनाथ ने प्रचार किया था. ऐसे में उनकी कथित नाराजगी भाजपा को चुनाव में भारी पर सकती है.




Share this story