aapkikhabar aapkikhabar

पब की कमाई बढ़ाने का ये है अनोखा तरीका



पब की कमाई बढ़ाने का ये है अनोखा तरीका

aapkikhabar.com

 पुणे के पार्टी लाउंज और पबों ने अपनी पॉपुलेरिटी बढ़ाने के लिए एक नया तरीका ढ़ूंढ़ा है। अब इन पबों में रात के वक्त होने वाली पार्टियों की तस्वीरें फेसबुक पर केवल लाइक्स बटोरने के लिए ही नहीं रह गई हैं। बल्कि इनका इस्तेमाल एक मार्केटिंग स्ट्रैटजी की तरह किया जा रहा है। अपनी मार्केंटिंग के लिए ये पार्टी लाउंज सोशल मीडिया पर सक्रिय युवाओं को ऐसा ऑफर दे रहे हैं। जिसे ठुकराना शायद उनके लिए आसान ना हो।
अंग्रेजी अखबार 'टाइम्स ऑफ इंडिया' की रिपोर्ट के मुताबिक, पार्टी लाउंज अपने बारे में जानकारी फैलाने के बदले में वहां आने वाले कॉलेज स्टूडेंट्स को फ्री एक्सेस, ड्रिंक्स और फूड दे रहे हैं। इस तरह के कई आकर्षक ऑफर्स से प्रभावित होकर पब में आने वाले कई नौजवान, अब केवल इनके ग्राहक नहीं रह गए हैं। बल्कि वे पब के ब्रैंड अम्बेसडर बन गए हैं। वे अपने पसंदीदा लाउंज के बारे में कॉलेज में कॉफी के साथ बातचीत करते हुए तो सोशल मीडिया पर टाइम पास करते हुए पब के बारे में प्रचार करते रहते हैं।
पूर्व में पुणे के इस पॉपुलर लाउंज के नाइटलाइफ ब्रैंड अम्बेसडर रह चुके एक शख्स ने बताया कि कुछ लाउंज अपने ग्राहकों को इस काम के लिए पैसे भी देते हैं। इसके अलावा कुछ इन-काइंड प्रिंसिपल पर काम करते हैं। ''जब मैं एक ब्रैंड अम्बेसडर था। हम क्लब मे भीड़ लेकर आते थे। क्लब इसके बदले फ्री शॉटस और फ्री ट्रीटमेंट भी देता था। लेकिन हर कोई इस जगह का ब्रैंड अम्बेसडर नहीं बन सकता। यंगस्टर्स जो लाउंज में काफी समय से आते रहे हैं और ओनर के साथ जिनकी बनती है। उन्हें ही यह जॉब मिलती है।''
पोस्ट 91 के सीईओ नीलेश पी कोलापकर ने बताया, ''यह ट्रेंड पिछले कुछ समय में सामने आया है। ये यंग्सटर्स सोशल मीडिया पर अच्छी तरह से कनेक्टेड हैं। इसके अलावा इनके अच्छी खासी संख्या में फॉलोअर्स हैं। ये लाउंज में हुई वीकेंड पार्टीस के बारे में पोस्ट करते हैं। इसके बाद इसके प्रशंसक की होड़ लग जाती है। इस पार्टी के प्रोमोस भी पोस्ट किए जाते हैं। जितनी संख्या में लोग क्राउड इकट्ठा करते हैं। उतना ज्यादा क्लब की तरफ से इन्हें फ्रीबीज़ (मुफ्त सुविधाएं) दी जाती हैं।''
शहर के एक पॉपुलर रेस्टो-लाउंज ने 9 से 10 कॉलेज स्टूडेंट्स को इस काम में लगा रखा है। ''वे पुणे के कई कॉलेजों से आते हैं। साथ ही सोशल मीडिया, वर्ड-ऑफ-माउथ और टेक्स्ट मैसेजेस के जरिए लाउंज को प्रमोट करते हैं। हम इस सहयोग के लिए उन्हें महीने का फिक्स्ड स्टाइपेंड और फ्री ड्रिंक्स भी देते हैं। उन्हें महीने भर का एक कार्ड भी दिया जाता है। जिससे वे 2,500 रुपए तक की ड्रिंक्स ले सकते हैं।''
इसके अलावा इन ब्रैंड अम्बेसडर्स के जॉब पर प्रदर्शन को काफी गंभीरता से देखा जाता है। उनके प्रदर्शन की समीक्षा लाउंज के अधिकारियों की साप्ताहिक मीटिंग में होती है। यूरिस्का, प्रेम्स और स्विग के पार्टनर सैंडी सिंह ने बताया कि उनके पास करीब 6 ब्रांड अम्बेसडर्स हैं। ये सभी कॉलेज स्टूडेंट्स हैं। जो कई क्षेत्रों में पढ़ाई कर रहे हैं। जिनमें डिजाइन और मैनेजमेंट शामिल हैं। ''उन्हें हर महीने स्टाइपेंड और लाउंज और रेस्त्रां को मैनेज करने की ट्रेनिंग दी जाती है। उन्हें कई प्रोजेक्ट्स और ईवेंट्स भी दिए जाते हैं। जिससे वे सीख सकें कि ऐसी जगहों पर उन्हें कैसे काम करना है। बाद में यह भी तय कर सकते हैं कि उन्हें हमारे साथ काम करना है या नहीं। यह ट्रेंड सनबर्न और एनएच7 फेस्टिवल्स के पॉपुलर होने के साथ शुरू हुआ। आने वाले दिनों में यह और आगे बढ़ेगा।''

-



सम्बंधित खबरें



खबरें स्लाइड्स में


खबरें ज़रा हट के