Top
Aap Ki Khabar

पत्रकारों पर भडके वी. के. सिंह

पत्रकारों पर भडके वी. के. सिंह
X
नई दिल्ली: पीएम मोदी की नसीहत के बावजूद नेता विवादित बयान देने से बाज नहीं आ रहे है। हरियाणा में दलित बच्चों को जलाए जाने की घटना पर केंद्रीय मंत्री बीजेपी सांसद वीके सिंह ने विवादास्पद बयान तूल पकडता जा रहा है। वीके सिंह ने इस मामले में सफाई देते हुए पहले तो माफी मांग ली फिर पत्रकारों पर भडास निकाली है। सिंह ने पत्रकारों को खरीखोटी सुनाते हुए कहा कि पत्रकारों को पत्रकारिता छोड उन्हें पागलखाने मे इलाज की जरूरत है।
गौरतलब है कि बुधवार को वीके सिंह ने कहा है कि केंद्र सरकार का दलित बच्चों की मौत से कुछ लेना-देना नहीं है। मंत्री ने कहा कि अगर कोई कुत्ते को पत्थर मारे तो सरकार की जिम्मेदारी नहीं है। वीके सिंह ने जब यह पूछा गया कि क्या यह सरकार की नाकामी है। उन्होंने कहा, सरकार को इसके साथ मत जोडिए। यह दो परिवारों का आपसी झगडा था, मामले की जांच की जा रही है। यह प्रशासन की नाकामी है।

ढाई साल के वैभव और 11 महीने के दिव्य की उनके घर में जलाकर हत्या कर दी गई थी। कथित तौर पर इस घटना को ऊंची जाति के लोगों ने अंजाम दिया था। मां रेखा (28) 70 फीसदी जल जाने की वजह से जिंदगी और मौत से संघर्ष कर ही है। पिता भी जलने की वजह से घायल हुआ है। वीके सिंह के बयान पर हमला करते हुए जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने कहा कि मेरे पास कहने के लिए शब्द नहीं हैं।
अब्दुल्ला ने टि्वटर के जरिए अपनी राय रखी है। बुधवार शाम बच्चों का अंतिम संस्कार कर दिया गया। इससे पहले ग्रामीणों ने उनके शवों को हाइवे पर रखकर जाम लगाने की कोशिश की थी। हरियाणा सरकार ने मामले की सीबीआई जांच के आदेश दे दिए हैं। सोशल मीडिया पर इस बयान को लेकर विरोध का सिलसिला तेज हो गया है। यूजर्स वीके सिंह पर हमला बोल रहे हैं।
Next Story
Share it