Top
Aap Ki Khabar

सपा का आरोप: राम नाईक गवर्नर हैं या संघ कार्यकर्ता

सपा का आरोप: राम नाईक गवर्नर हैं या संघ कार्यकर्ता
X
लखनऊ: सोमवार को समाजवादी पार्टी ने उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक पर सीधा हमला बोला व आरोप लगाया कि वह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यकर्ता की तरह बयान दे रहे हैं और बेहतर होगा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उन्हें केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल कर लें ताकि वह साम्प्रदायिक एजेंडा पूरा कर सकें।

एसपी के राष्ट्रीय महासचिव राम गोपाल यादव ने कहा, राज्यपाल कई बार साम्प्रदायिक संगठनों के कार्यक्रमों में जाते है। वह आरएसएस के कार्यकर्ता जैसा बयान देते हैं, जो उचित नहीं है। नाईक के ये क्रियाकलाप राज्यपाल पद की गरिमा के विपरीत है। उन्हें बयान देने का बहुत ज्यादा शौक है। समाजवादी पार्टी केन्द्र सरकार से मांग करती है कि उनको केन्द्र का कोई मंत्री बना दे ताकि फिर वह पूरे देश में बोलते रहें और जो साम्प्रदायिक एजेंडा है, उसे पूरा करें।

यादव ने राज्यपाल नाईक द्वारा रविवार को उरई में एक कार्यक्रम के दौरान प्रदेश की कानून व्यवस्था को लेकर दिए गए बयान पर गंभीर आपत्ति की व कहा कि राज्यपाल ने संविधान की भावना के विपरीत जाकर बयान दिया है। हिन्दुस्तान में उत्तर प्रदेश को छोड जितने भी राज्य हैं, उनके किसी भी राज्यपाल का आप इस तरह का बयान नहीं सुनते होंगे। छत्तीसगढ, झारखंड और पूर्वोत्तर राज्यों में बहुत सी घटनाएं होती हैं, लेकिन कभी वहां के राज्यपालों का बयान कानून व्यवस्था को लेकर नहीं आता। उनका आचरण पद की गरिमा के विपरीत नहीं रहता। राम गोपाल यादव ने कहा कि नाईक इस तरह का बर्ताव कर रहे हैं, मानो वह राज्यपाल ना होकर इस देश के गृहमंत्री हों। उरई में कानून व्यवस्था को लेकर बयान देते हैं, लेकिन दादरी की घटना पर वह पूरी तरह चुप रहे। दुनिया जानती है कि दादरी घटना के लिए कौन जिम्मेदार था। उसे सुनियोजित तरीके से अंजाम दिया गया है।

उन्होंने कहा कि राज्यपाल प्रदेश के संवैधानिक मुखिया होते हैं, लेकिन नाईक सार्वजनिक रूप से और मीडिया के समक्ष तथा कार्यक्रमों में जाकर कई बार बयान दे देते हैं। उन्होंने कहा,संविधान का जानकार होने के बावजूद मुझे विवश होकर राज्यपाल के खिलाफ बयान देना पड रहा है क्योंकि एक सीमा होती है।
Next Story
Share it