aapkikhabar aapkikhabar

जिस बेटे का नौ साल पहले कर दिया था अंतिम संस्कार वो आज भी जिन्दा है पाकिस्तान में



जिस बेटे का नौ साल पहले कर दिया था अंतिम संस्कार वो आज भी जिन्दा है पाकिस्तान में

aapkikhabar.com

धनबाद-- जिस बेटे का नौ साल पहले अंतिम संस्कर कर दिया गया, वह आज पाकिस्तान में जिन्दा है। साल 2006 में नरेश राणा रोजगार की तलाश में सूरत गया था। वहां समुद्र में मछली पकडने का काम मिला। मछली पकडते पकडते एक दिन समुद्री सीमा लांघ गया। पाकिस्तानी नौ-सेना ने उसे गिरफ्तार कर लिया और जेल में बंद कर दिया। 
इधर कई दिनों तक जब नरेश की खोज खबर नहीं मिली तो परिवार वालों ने अपने स्तर पर खोजबीन की। गुजरात से लेकर नरेश के पैतृक निवास जमुई तो परिजन उसे खोजने गए। अंत में मान लिया कि नरेश तूफान का शिकार हो गया। उन्होंने उसका अंतिम संस्कार तक कर दिया पर पिछले महीने अखबार में छपे एक विज्ञापन ने परिवार को जैसे खुशियां लौटा दी। 
विज्ञापन में कुछ मछुआरों की तस्वीर थी जो पाकिस्तान के जेल में बंद हैं। इसमें नरेश की फोटो उसके भाई ने देख कर पहचान ली।  विज्ञापन में लिखा था कि इस बाबत लोहरदगा एसपी ऑफिस की विदेश शाखा से संपर्क करें। परिजनों ने यहां तो संपर्क किया ही, जमुई में एसपी को भी इसकी जानकारी दी। 
इसके बाद प्रधानमंत्री, विदेश मंत्री और गृहमंत्री को भी इसकी जानकारी दी। जानकारी मिलने पर धनबाद के सांसद पीएन सिंह ने कहा था कि नरेश को वापस लाने में परिजनों की मदद करूंगा। वे इसी संबंध में गुरूवार को नरेश के परिवार वालों से मिल रहे हैं 

-



सम्बंधित खबरें



खबरें स्लाइड्स में


खबरें ज़रा हट के