Top
Aap Ki Khabar

"दलितों" के सहारे खोई हुई "जमीन" तलाशने आ रहे हैं राहुल

दलितों के सहारे खोई हुई जमीन तलाशने आ रहे हैं राहुल
X
लखनऊ-मौसम चुनावी है तो कवायद भी चुनावी होंगे सत्ता में रह कर किसानों की पूछ न करने वाली सरकार अब चुनाव के करीब होने के कारण अब दलितों की हितैसी बनने जा रही है यूपी में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले दलित मतदाताओं को अपनी तरफ खींचने की दृष्टि से कांग्रेस पार्टी ने प्रदेश की राजधानी लखनऊ में गुरुवार को यानी (18 फरवरी) को एक दलित सम्मेलन का आयोजन किया है। जिसमें कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी भी शामिल होंगे।'कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी 18 फरवरी को होने वाले दलित सम्मेलन के समापन सत्र में भाग लेंगे, जिसमें दलितों से जुड़ी सभी समस्याओं को सुना जाएगा और उनका समाधान निकाला जाएगा। इसके अलावा दलित मतदाताओं को पार्टी से जोड़ने की रणनीति पर चर्चा होगी। साथ ही उन्होंने कहा कि सम्मेलन में ‘दलितों के सामाजिक, आर्थिक सशक्तीकरण के लिए अम्बेड़कर का मिशन और कांग्रेस का दृष्टिकोण’ विषय पर चर्चा होगी। जिसमें पार्टी के दलित वर्ग से जुड़े वरिष्ठ नेता मुकुल वासनिक, मधुसूदन मिस्त्री और के. राजू समेत लगभग 1000 नेता और कार्यकर्ता शामिल होगें।' जमीन वापस पाने की कवायद इसके बाद उन्होंने बताया कि सम्मेलन में दलितों के हित में कांग्रेस के कार्यों और कांग्रेस के साथ दलित समुदाय के सदा से जुड़े रहने के बारे में वरिष्ठ नेता अपने विचार रखेंगे। दलित पहले कांग्रेस पार्टी से ही जुड़े होते थे जो अब बहुजन समाज पार्टी का जनाधार बन चुके हैं जिसे पार्टी अपने और वापस लाने की कवायद कर रही है। वहीं बीजेपी, सपा, बसपा और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के दलित विरोधी चेहरे को भी उजागर किया जाएगा। त्रिपाठी ने बताया कि लखनऊ में दलित सम्मेलन के समापन सत्र में शामिल होने के बाद पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी यहीं से अपने संसदीय क्षेत्र अमेठी के दौरे पर जाएंगे।
Next Story
Share it