Top
Aap Ki Khabar

गर्मियों में हो सकती है सस्ती हवाई यात्रा ,599 रूपये में कर सकते हैं सफ़र

गर्मियों में हो सकती है सस्ती हवाई यात्रा ,599 रूपये में कर सकते हैं सफ़र
X
नई दिल्ली-गर्मियों की छुट्टी में घूमने जाने वालों के लिए यह राहत की खबर है घूमने की योजना बना रहे लोगों के लिए इस साल गर्मियों की छुट्टियां काफी आकर्षक हो सकती हैं। एयरलाइंस की तरफ से इस बार गर्मियों में हवाई उड़ानों की संख्या में भारी वृद्धि के प्रस्ताव से किराया कम होने की संभावनाएं बन गई हैं। घरेलू एयरलाइंस कंपनियों ने गर्मी में हर हफ्ते 14800 से भी ज्यादा उड़ानें मुहैया कराने का प्रस्ताव रखा है। एयरलाइंस के इस प्रस्ताव को विमानन मंत्रलय ने भी हरी झंडी दिखा दी है। घरेलू विमानन इतिहास में यह पहला मौका होगा जब गर्मियों में इतनी ज्यादा उड़ानें उपलब्ध होंगी। विमानन क्षेत्र के विशेषज्ञों का मानना है कि अधिक उड़ानें उपलब्ध होने से किराये में भी कमी आएगी। विमानन कंपनियों के लिए गर्मी का मतलब मार्च के आखिरी रविवार से अक्टूबर के आखिरी शनिवार तक का समय होता है। तकनीकी भाषा में इसे समर शिड्यूल कहा जाता है। इस तरह 2016 का यह शिड्यूल 27 मार्च को शुरू होगा और 29 अक्टूबर को खत्म होगा। एलटीसी में केन्द्रीय कर्मियों को हवाई यात्रा की अनुमति 118 फीसद अधिक उड़ानों का प्रस्ताव एविएशन रेगुलेटर नागर विमानन महानिदेशालय यानी डीजीसीए के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया है कि कुल 11 घरेलू एयरलाइंस ने इस बार गर्मियों में हर हफ्ते 14869 उड़ानों का प्रस्ताव रखा है। ये बीते साल की गर्मियों के 12533 उड़ानों के मुकाबले साढ़े 18 फीसदी से भी ज्यादा है। देश में इस समय घरेलू रास्तों पर एयर इंडिया, एयर इंडिया एक्सप्रेस, जेट एयरवेज, जेटलाइट, इंडिगो, स्पाइसजेट, गो, एयर एशिया, विस्तारा, एयर कोस्टा, एयर पिगेसस और ट्रूजेट उड़ानें मुहैया कराती हैं। कम शहरों के लिए उड़ानें मंत्रलय के उक्त अधिकारी के मुताबिक उड़ानों की कुल संख्या भले ही रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गई है, लेकिन पहले के मुकाबले ये उड़ाने कम शहरों के लिए ही उपलब्ध होंगी। 2015 में घरेलू एयरलाइंस ने 81 हवाई अड्डों के लिए सेवा मुहैया कराई थी, जबकि इस साल ये संख्या 77 रहेगी। जिन हवाई अड्डों के लिए एयरलाइन कंपनियां इस साल सेवाएं नहीं दे रहीं हैं उनमें गुजरात के भावनगर और पोरबंदर, महाराष्ट्र के नांदेड़ और कर्नाटक में मैसूर शामिल हैं। इस साल उड़ानों की संख्या बढ़ाने में सबसे आगे विस्तारा है, जबकि दूसरे स्थान पर एयर एशिया है। स्पाइसजेट दे रहा 599 रुपए में हवाई यात्रा करने का बेहतरीन मौका सरकारी विमानन कंपनी एयर इंडिया के साथ क्षेत्रीय एयरलाइन एयर कोस्टा ने उड़ानों की संख्या घटा दी है। अधिकारी का कहना है कि किसी भी शहर के लिए उड़ान शुरू करना या बंद करना एयरलाइन कंपनियों का व्यावसायिक फैसला होता है, इसमें सरकार कोई दखल नहीं देती। हां, उड़ान शुरू करने या संख्या बढ़ाने के लिए डीजीसीए से अनुमति लेनी होती है, जबकि बंद करने की सूचना तय समय ये पहले देनी जरुरी है । साभार जागरण
Next Story
Share it