Top
Aap Ki Khabar

नीता अंबानी सबसे शक्तिशाली ,लहराया प्रतिभा का परचम

नीता अंबानी सबसे शक्तिशाली ,लहराया प्रतिभा का परचम
X
न्यूयार्क: रिलायंस फाउंडेशन की प्रमुख नीता अंबानी को फोर्ब्स ने एशियाई की सबसे शक्तिशाली महिला कारोबारी करार दिया है जो इस क्षेत्र की 50 प्रमुख उद्यमियों की सूची में शीर्ष पर हैं। इस सूची में भारतीय आठ महिलाओं ने स्थान बनाया है। एसबीआई की अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक अरंधती भट्टाचार्य को 2016 की ‘एशिया की 50 शक्तिशाली महिला कारोबारी’ की सूची में दूसरा स्थान दिया गया है जिसमें चीन, इंडोनेशिया, आस्ट्रेलिया, वियतनाम, थाइलैंड, हांगकांग, जापान, सिंगापुर, फिलिपीन और न्यूजीलैंड की प्रभावशाली महिलाएं शामिल हैं। अंबानी और भट्टाचार्य के अलावा भारत की छह महिलाओं ने इसमें स्थान बनाया है जिनमें एमयू सिग्मा की मुख्य कार्यकारी अंबिगा धीरज (14), वेलस्पन इंडिया की मुख्य कार्यकारी दिपाली गोयनका (16), ल्यूपिन की मुख्य कार्यकारी विनीता गुप्ता (18), आईसीआईसीआई बैंक की प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्यकारी चंदा कोचर (22), वीएलसीसी हेल्थकेयर की संस्थापक एवं उपाध्यक्ष वंदना लूथरा (25) और बायोकॉन की संस्थापक और चेयरमैन एवं प्रबंधन निदेशक किरण मजूमदार शॉ (28) शामिल हैं। फोर्ब्स ने कहा, इस सूची में स्वीकार किया गया है कि कारोबारी दुनिया में महिलाएं अपनी जगह बना रही हैं लेकिन स्त्री-पुरष असमानता बरकरार है। महिलाएं यह समझने की बेहतर स्थिति में हैं कि उन्हें नेतृत्व की स्थिति में आने और वहां बने रहने के लिए क्या करना होगा। फोब्र्स ने 52 वर्षीय नीता को ‘भारतीय उद्योग जगत की प्रथम महिला’ करार देते हुए कहा कि वह ‘राजगद्दी की सबसे करीबी ताकत’ है और उन्होंने रिलायंस इंडस्ट्रीज में अपनी बढ़ती हैसियत के कारण इस सूची में पहली बार स्थान बनाया है। रिलायंस इंडस्ट्रीज के प्रमुख उनके पति और भारत के सबसे अमीर व्यक्ति मुकेश अंबानी हैं। फोर्ब्स ने 60 वर्षीय अरंधती के बारे में कहा कि वह सबसे चुनौतीपूर्ण परीक्षा से गुजर रही है क्योंकि भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) बढ़ते एनपीए (वसूल न किए जा सकने वाले रिण) से जूझ रहा है जो दिसंबर में 11 अरब डालर पर पहुंच गया था। हालिया तिमाही में बैंक का शुद्ध मुनाफा 60 प्रतिशत से अधिक गिरकर 19 करोड़ डालर रह गया। अंबिगा जब एमयू सिग्मा की मुख्य कार्यकारी बनीं तो वह पहली महिला रहीं जो किसी भारतीय स्वामित्व वाली कंपनी की प्रमुख थीं। इस कंपनी की स्थापना उनके पति धीरज राजाराम ने 2004 में की थी। दिपाली गोयनका ने पांच साल पहले कपड़ा निर्माता वेलस्पन इंडिया का प्रभार संभाला जो उनके परिवार के तीन अरब डालर के वेलस्पन समूह का अंग है। दिपाली ने कहा कि उन्होंने जब पद ग्रहण किया तो पुरुष प्रधान इस उद्योग में धारणा थी कि वेलस्पन पागल हो गई है। फोर्ब्स ने कहा, ‘दिपाली ने इसे दो तरीके से गलत साबित किया। मुनाफा और आय कई गुना बढ़ी। मार्च 2015 में समाप्त वर्ष के दौरान कंपनी का मुनाफा 8.1 करोड़ डालर रहा जबकि आय 79 करोड़ डालर रही।’ चंदा कोचर ने की सूची में लगातार जगह बनाई है और उन्होंने आईवर्कऐटहोम कार्यक्रम शुरू किया है जिससे कर्मचरियों को साल भर घर से काम करने की अनुमति होती है, ताकि महिला कर्मचारियों को कंपनी में बनाए रखा जा सके। फोर्ब्स के मुताबिक 56 वर्षीय वंदना लूथरा ने भारत में सौंदर्य और वेलनेस की श्रृंखला की अवधारणा शुरू की। इधर 63 वर्षीय किरण मजूमदार शॉ अपने दम पर बनी उद्यमी हैं और उन्होंने इंस्यूलिन के क्षेत्र में बायोकॉन को बड़ी कंपनी बना दिया है। Courtesy zee media
Next Story
Share it