Top
Aap Ki Khabar

पिटे पटेल ,हुए हिंसक ,आरक्षण का मामला

पिटे पटेल ,हुए हिंसक ,आरक्षण का मामला
X
महेसाणा : आरक्षण और जेल में बंद अपने नेताओं की रिहाई की मांग को लेकर गुजरात के महेसाणा शहर में आयोजित पटेल समुदाय की विशाल रैली ने रविवार को हिंसक रूप ले लिया। बाद में कथित तौर पर पथराव कर रहे प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज और आंसू गैस के गोलों का इस्तेमाल किया।पटेल समुदाय के लिए ओबीसी आरक्षण की मांग कर रहे प्रमुख समूहों में से एक सरदार पटेल ग्रुप (एसपीजी) के आह्वान पर ‘जेल भरो आंदोलन’ के तहत पटेल प्रदर्शनकारी मोढेरा चौराहे पर एकत्र हुए थे।एसपीजी प्रमुख लालजी पटेल को पुलिस के साथ टकराव के दौरान सिर में चोट लगी। पुलिस ने दावा किया कि उसने लाठीचार्ज का सहारा तब लिया जब कुछ प्रदर्शनकारियों ने पुलिस वाहनों पर पथराव करना शुरू किया जबकि लालजी पटेल ने आरोप लगाया कि पटेल आंदोलनकारियों को बिना किसी उकसावे के निशाना बनाया गया।पटेल ने कहा, ‘‘हमारा प्रदर्शन पहले की तरह शांतिपूर्ण था। हालांकि, पुलिस ने अचानक मुझपर और हमारे कुछ सदस्यों पर उस वक्त हमला किया जब हम जुलूस के साथ आगे बढ़ रहे थे। आप मेरे चेहरे पर रक्त देख सकते हैं। बिना किसी उकसावे के हमारी पिटाई की गई।’’ बाद में पुलिस ने कुछ अन्य प्रदर्शनकारियों के साथ पटेल को हिरासत में ले लिया।
पुलिस से पिटाई के बाद हिंसक हो गए पटेल
गुजरात के प्रभारी डीजीपी पी पी पांडेय ने दावा किया कि हालात तब बिगड़ गए जब कुछ लोगों ने हिंसा का सहारा लिया।पांडेय ने कहा, ‘‘पुलिस हमेशा शांति स्थापित करने के लिए कार्य करती है। शुरूआत में प्रदर्शन शांतिपूर्ण था। हालांकि, हालात तब बिगड़ गए जब कुछ लोगों ने हिंसा का सहारा लिया और संपत्ति को नुकसान पहुंचाया। मैंने हालात से निपटने के लिए पहले ही अतिरिक्त बल को भेजा है।’’
पटेल के संगठनों ने की बंद की अपील
इस बीच, एसपीजी के साथ-साथ हार्दिक पटेल नीत पाटीदार अनामत आंदोलन समिति (पास) ने सोमवार को ‘गुजरात बंद’ का आह्वान किया है।एसपीजी प्रवक्ता पूर्विन पटेल ने कहा, ‘‘हमारे पटेल भाइयों को आज शांतिपूर्ण रैली के दौरान बेरहमी से पीटा गया। लालजी और कुछ अन्य एसपीजी नेताओं को पुलिस लाठीचार्ज में गंभीर चोट आई है। हम पुलिस बल के अत्यधिक इस्तेमाल की निंदा करते हैं और कल गुजरात बंद का आह्वान किया है।’’ पास ने भी कल के बंद का समर्थन किया है।शहर के बाहरी इलाके में स्थित मोढेरा चौराहे पर पटेल समुदाय के हजारों सदस्य आज बड़े पैमाने पर गिरफ्तारी देने, आरक्षण और हार्दिक पटेल तथा उनके तीन सहायकों को रिहा करने के लिए दबाव बनाने के लिए जमा हुए थे।चौराहे पर बड़ी संख्या में पुलिसकर्मियों को पानी के फव्वारे और आंसू गैस के गोलों के साथ तैनात किया गया था।पुलिस नियंत्रण कक्ष के एक अधिकारी ने कहा, ‘‘उग्र भीड़ ने जब कुछ पुलिस वाहनों पर हमला किया तो पुलिस ने पहले भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पानी की बौछारों का इस्तेमाल किया। जब उग्र भीड़ ने पथराव शुरू किया तो आंसू गैस के गोले भी छोड़े गए। उसने कुछ वाहनों में भी आग लगा दी। हालात पर नियंत्रण करने का अभियान अब भी जारी है।’’ स्वास्थ्य मंत्री और गुजरात सरकार के प्रवक्ता नितिन पटेल ने प्रदर्शनकारियों से शांति बनाए रखने की अपील की।मंत्री ने कहा, ‘‘पटेल नेताओं (लालजी पटेल और अन्य) ने पहले वादा किया था कि अगर उन्हें गिरफ्तार किया जाएगा तो अन्य लोग शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन करेंगे। हालांकि, कुछ लोगों के दूसरे लोगों को भड़काने के बाद हिंसा हुई। मैं उनसे शांति बनाए रखने की अपील करता हूं क्योंकि सारी समस्याओं का समाधान बातचीत के जरिए किया जा सकता है।’’
लगी कर्फ्यू इंटरनेट भी बंद
लालजी पटेल के जख्मी होने के बाद महेसाणा में हिंसा और भड़क उठी। देखते ही देखते शहर के मार्केट बंद हो गए।- बता दें कि हार्दिक के बाद अब लालजी पटेल ही आंदोलन को आगे बढ़ा रहे हैं।
- यहां आसपास के जिलों से पुलिस फोर्स भेजी गई है।
- शहर में कर्फ्यू लगाने के साथ ही मोबाइल-इंटरनेट सर्विस बंद कर दी गई है।- वहीं, विसनगर में भी पाटीदारों ने चार सरकारी बसों में तोड़फोड़ के बाद एक बस में आग लगा दी है। पुलिस ने दर्जनों उपद्रवियों को अरेस्ट कर लिया है।- धीरे-धीरे हिंसा राज्य के अन्य शहरों में भी फैल रही है। अहमदाबाद के घाटलोडिया इलाके में भी दो सरकारी बसों में तोड़फोड़ की गई है।- इस आंदोलन के मुखिया हार्दिक के खिलाफ राजद्रोह के मामले चल रहे हैं और वे पिछले 8 महीनों से जेल में हैं।
सौर्स वेब फोटो साभार जागरण


Next Story
Share it