aapkikhabar aapkikhabar

सिर्फ विज्ञापनों में ही नजर आती है योजनाये नौकरी न मिलने से युवा की रेलवे ट्रैक पर मौत



सिर्फ विज्ञापनों में ही नजर आती है योजनाये नौकरी न मिलने से युवा की रेलवे ट्रैक पर मौत

aapkikhabar.com

कानपुर -सरकारी दावे भले ही लाख दुहाई देते रहें कि युवाओं को रोजगार से जोड़ा गया पूरे प्रदेश मे विज्ञापनों की भरमार है लेकिन हकीकत कुछ और ही है युवा मर रहा है लोगों की भूख से मौत हो रही है लेकिन सरकार गाये जा रही कि बन रहा जय आज संवर रहा है कल सरकारी दावे को कानपूर की घटना एक बार फिर से मुह चिढा रही है ।
उत्तर प्रदेश के कानपुर में कई जगह हाथ पैर मारने के बाद भी नौकरी न मिलने पर डिप्रेशन के कारण एक युवक ने ट्रेन के आगे कूदकर अपनी जान दे दी। घटना की जानकारी पर पहंुची पुलिस ने मृतक की पहचान आधार कार्ड से की और घरवालों को घटना के बारे में बताया। जिसके बाद परिजनों में कोहराम मच गया।घंटाघर सीपीसी गोदाम के पास रहने वाला राजाराम प्राइवेट नौकरी करके अपना व परिवार का जीवन यापन करते थे। उन्होंने बताया कि उनका बेटा राहूल ने इसी साल ग्रेजुएशन कम्पलीट किया। पढ़ाई पूरी करने के बाद वह नौकरी की तलाश के लिए इधर से उधर कंपनियों व आफिस के चक्कर काट रहा था। आज सुबह भी बेटा परिवार को नौकरी तलाश करने की बात कहकर घर से निकला था और घर वापस नहीं लौटा। इधर युवक को नौकरी की तलाश न मिलने पर काफी डिप्रेशन में आ गया और बिठूर मंधना रेलवे स्टेशन पहंुच गया। सामने से आ रही सुपर फास्ट कालिन्द्री ट्रेन को देखते ही उसके आगे कूद गया। ट्रेन की चपेट में आ जाने से युवक की मौके पर ही दर्दनाक मौत हो गई। घटना की जानकारी पर पहंुची पुलिस ने शव को कब्जे में ले लिया और तलाश की दौरान मिले अधार कार्ड से मृतक की पहचान कर ली। पुलिस ने बेटे की मौत की खबर परिवार को देते हुए शव को पोस्टमार्टम भेज दिया। बेटे की मौत की खबर मिलते ही घर में रोना पीटना शुरु कर दिया। बिठूर थानेदार का कहना है कि प्रत्यक्षद्रर्शियों के मुताबिक युवक ट्रेन के आगे कूदकर अपनी जान दी है। त्तर प्रदेश के कानपुर में कई जगह हाथ पैर मारने के बाद भी नौकरी न मिलने पर डिप्रेशन के कारण एक युवक ने ट्रेन के आगे कूदकर अपनी जान दे दी। घटना की जानकारी पर पहंुची पुलिस ने मृतक की पहचान आधार कार्ड से की और घरवालों को घटना के बारे में बताया। जिसके बाद परिजनों में कोहराम मच गया।घंटाघर सीपीसी गोदाम के पास रहने वाला राजाराम प्राइवेट नौकरी करके अपना व परिवार का जीवन यापन करते थे। उन्होंने बताया कि उनका बेटा राहूल ने इसी साल ग्रेजुएशन कम्पलीट किया। पढ़ाई पूरी करने के बाद वह नौकरी की तलाश के लिए इधर से उधर कंपनियों व आफिस के चक्कर काट रहा था। आज सुबह भी बेटा परिवार को नौकरी तलाश करने की बात कहकर घर से निकला था और घर वापस नहीं लौटा। इधर युवक को नौकरी की तलाश न मिलने पर काफी डिप्रेशन में आ गया और बिठूर मंधना रेलवे स्टेशन पहंुच गया। सामने से आ रही सुपर फास्ट कालिन्द्री ट्रेन को देखते ही उसके आगे कूद गया। ट्रेन की चपेट में आ जाने से युवक की मौके पर ही दर्दनाक मौत हो गई। घटना की जानकारी पर पहंुची पुलिस ने शव को कब्जे में ले लिया और तलाश की दौरान मिले अधार कार्ड से मृतक की पहचान कर ली। पुलिस ने बेटे की मौत की खबर परिवार को देते हुए शव को पोस्टमार्टम भेज दिया। बेटे की मौत की खबर मिलते ही घर में रोना पीटना शुरु कर दिया। बिठूर थानेदार का कहना है कि प्रत्यक्षद्रर्शियों के मुताबिक युवक ट्रेन के आगे कूदकर अपनी जान दी है। 


-



सम्बंधित खबरें



खबरें स्लाइड्स में


खबरें ज़रा हट के