Top
Aap Ki Khabar

7 वर्षों में सौ पत्र लेकिन फिर भी नहीं मिला "पानी" साहब "इच्छा" मृत्यु ही दे दो

7 वर्षों में सौ पत्र लेकिन फिर भी नहीं मिला पानी साहब इच्छा मृत्यु ही दे दो
X
लखनऊ-प्रदेश सरकार ने भले ही लोक लुभावन नारे देकर किसानों को मुफ्त सिचाई का वादा किया हो लेकिन असलियत यह है कि जनपद फतेहपुर ,पोस्ट -कोड़ा जहानाबाद, ग्राम-मिर्ज़ापुर मकरंदपुर के किसान सरकार आलम ने मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से गुहार लगाई की विगत ३० वर्षो से उसके नहर तक पानी नही पहुच पा रहा जिससे वहा के किसानो की स्थिति आत्महत्या करने की आ गई है पिछले 7 वर्षो में उसने 100 से अधिक पत्र केंद्र व् राज्यसरकार को लिख चुके,लेकिन सरकार की तरफ से कोई प्रतिक्रिया नही मिली, न ही सिस्टम कुछ कर रहा है जिससे हताश होकर वह सरकार से इच्छा मृत्यु की मांग कर रहा है और कहा है की सरकार कम से कम सुकून से मरने दे

विधानसभा छेत्र जहानाबाद,फतेहपुर उत्तर प्रदेश के तीन रज्बहे क्रमश:(अमौली ,बिजौली,सिजौली) का १०० क्यूसेक पानी इस वादे के साथ वर्ष १९८५/१९९२ में दिबियापुर NTPC को दे दिया गया था की छेत्र में नलकूप लगाये जायेंगे,२८ वर्ष हो चुके है न ही नलकूप लगे न ही नहर में पानी आया लाखो किसान भुखमरी की कगार पर आकर गाँव छोड़ने,घुट घुट कर मरने पर मजबूर हो गए है अब किसी प्रकार की न्याय की आशा करना बेईमानी है क्योकि पहले ही २८ वर्ष हो चुके है |
पीड़ित सरकार आलम का कहना है कि मेरी मौत की जिम्मेदार निचली गंगा नहर जनपद कानपूर नगर सिचाई विभाग फतेहपुर ,दिबियापुर NTPC को पानी देने वाले होंगे जिसने किसानो के साथ छल-कपट झूठा वादा किया है एवं परिस्थितिया निर्मित कर मुझे आत्मदाह के लिए उकसाया ,मजबूर किया हमे बर्बाद कर दिया है| मै स्वेच्छा से इच्छा मृत्यु की मांग नही कर रहा हूँ जिम्मेदार लोगो ने मौत के अतिरिक्त कोई विकल्प ही नही छोड़ा है| कोई ठोस कार्यवाही/इच्छा मृत्यु देने का कस्ट करे दिनांक ३१/१०/२०१६ तक इच्छा मृत्यु न मिलने पर मै समय,स्थान,स्थिति से अवगत कर आत्मदाह कर लूँगा|
सिस्टम अपनी नाकामी,विफलता को छिपाने के लिए आत्मदाह करने वाले को गिरफ्तार,प्रताड़ित करता है | सिस्टम इस बात पर ध्यान नही देता की आत्मदाह की परिस्थितिया बनाई किसने? क्योकि नौकरशाह नौकरशाह को बचाता है,अगर मुझे गिरफ्तार ,मुकदमा दर्ज किया गया तो मै न ही जमानत कराऊंगा,और न ही जेल में खाना खाऊंगा जब तक सविधान में नही दिखाया जाता की गरीब किसानो के लिए पानी का मांगना अपराध है|





Next Story
Share it