Top
Aap Ki Khabar

ड्रोन की नजर में रहेगा कश्मीर का ईद

ड्रोन की नजर में रहेगा कश्मीर का ईद
X
श्रीनगर -बकरीद के मौके पर कश्मीर में किसी अप्रिय घटना से बचने के लिए ड्रोन का सहारा लिया जा रहा है । आज बकरीद है और इस मौके पर अशांति न फैले, इसलिए कश्मीर घाटी के सभी 10 ज़िलों में कर्फ्यू लगा दिया गया है. राज्य सरकार ने सभी टेलीकॉम नेटवर्क को इंटरनेट सेवाएं अगले 72 घंटे तक बंद रखने का आदेश कल जारी किया है. कश्मीर में करीब दो महीने से अशांति का माहौल है और अब तक 70 से ज्यादा लोगों की मौत हुई है. कश्मीर में वर्ष 1990 में आतंकवाद शुरू होने के बाद संभवत: यह पहली बार है जब ईद के मौके पर कर्फ्यू लगाया जाएगा. सूत्रों ने कहा कि हेलीकॉप्टर और ड्रोन आसमान से पैनी नजर रखेंगे और कुछ क्षेत्रों में लोगों के एकत्रित होने की स्थिति में सुरक्षाबलों को पूर्व चेतावनी देंगे. आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि सेना से तैयार रहने के लिए कहा गया है और अगर घाटी में हिंसा होती है तो सेना मोर्चा संभालेगी. उन्होंने कहा कि सेना के जवानों की ग्रामीण क्षेत्रों के उन बिन्दुओं पर पहले ही तैनाती की गई है, जिनका हिंसक प्रदर्शनों का इतिहास रहा है. मध्यरात्रि से कर्फ्यू लागू किया जाएगा. आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि बड़ी संख्या में लोगों के एकत्रित होने पर प्रतिबंध लगाने का फैसला कल संयुक्त राष्ट्र के स्थानीय कार्यालयों तक अलगाववादियों के मार्च के आह्वान को ध्यान में रखकर किया गया है. उन्होंने कहा कि अलगाववादी तत्वों द्वारा हिंसा की आशंका को देखते हुए सड़कों पर पर्याप्त संख्या में सुरक्षाबलों को तैनात किया जाएगा. पहली बार नहीं होंगे ईद के मौके पर एक साथ आतंकवाद की शुरुआत से अब तक 26 वर्ष में यह पहली बार है कि ईदगाह और हजरबल धार्मिक स्थलों पर ईद के मौके पर लोगों को एकत्रित होने की अनुमति नहीं होगी. सूत्रों ने कहा कि हालांकि लोगों को स्थानीय मस्जिदों में ईद की नमाज पढ़ने की अनुमति होगी. सरकार ने अगले 72 घंटों के लिए सभी दूरसंचार नेटवर्क की इंटरनेट सेवा और मोबाइल टेलीफोन सेवा को बंद करने का आदेश दे दिया है. केवल बीएसएनएल को इससे बाहर रखा गया है. सूत्रों ने कहा कि राज्य की वर्तमान कानून-व्यवस्था की समीक्षा के बाद इंटरनेट सेवाओं पर पूरी तरह से प्रतिबंध का फैसला किया गया है. उन्होंने कहा कि एयरटेल, एयरसेल, वोडाफोन और रिलायंस टेलीकॉम से तत्काल प्रभाव से 72 घंटे तक सेवाएं बंद करने के लिए कहा गया है. बीएसएनएल से भी इंटरनेट ब्रॉडबैंड सेवाएं बंद करने को कहा गया है. बीएसएनएल पोस्टपेड पर नहीं रहेगा प्रतिबन्ध हालांकि पोस्टपेड बीएसएनएल कनेक्शन को इस दायरे से बाहर किया गया है, क्‍योंकि इसे मुख्य रूप से पुलिस, सेना और सरकारी अधिकारियों द्वारा प्रयोग किया जाता है. इस बीच, सेना ने जम्मू-कश्मीर के रियासी जिले में आतंकवादियों के एक ठिकाने का भंडाफोड़ करते हुए हथियार तथा गोलाबारूद बरामद किए. कश्मीर में शांति बनाये रखने के लिए केंद्र सरकार के प्रयास भी अभी सफल नहीं हुए हैं ।
Next Story
Share it