Top
Aap Ki Khabar

68वां गणतंत्र दिवस: दुनिया ने देखी भारत की संस्कृति और शक्ति

68वां गणतंत्र दिवस: दुनिया ने देखी भारत की संस्कृति और शक्ति
X

देश आज 68वां गणतंत्र दिवस मना रहा है. इस साल के गणतंत्र दिवस की परेड में राजपथ पर मुख्य आकर्षण है यूएई के 149 प्रेसिडेंशियल गार्ड, एयरफोर्स, नेवी, आर्मी और बैंड की टीम. ये टीम राजपथ पर राष्ट्रपति को सलामी देगी. इस साल गणतंत्र दिवस में मुख्य अतिथि भी अबु धाबी के शहजादे मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान हैं.प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर देशवासियों को गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं दी।

देश के 68वें गणतंत्र दिवस पर आज राजपथ पर देश की शान और ताकत दिखाया गया. राष्ट्रगान के साथ पूरे देश ने तिरंगे को सम्मान दिया. इसके फौरन बाद राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने देश की रक्षा में शहीद हुए हवलदार हंगपन दादा को अशोक चक्र से सम्मानित किया.राष्ट्रपति ने दादा की पत्नी को यह सम्मान दिया. इसके बाद राजपथ पर परेड की शुरुआत हुई.

आज परेड की शुरुआत विंग कमांडर रमेश कुमार दूबे के नेतृत्व में हुई. चार एमआई-17 हेलीकॉप्टरों ने आकाश से पुष्प वर्षा की. इनमें से एक हेलीकॉप्टर तिरंगा लेकर उड़ा, जबकि तीन अन्य हेलीकॉप्टरों पर सेना, नौसेना और वायु सेना की पताका फहराया गया. इस बार परेड में सेना और अर्धसैनिक बलों के 15 मार्चिंग दस्तों ने अपने शौर्य और शक्ति का प्रर्दशन किया. इनके सैनिकों का कदमताल और जोश शानदार था.

इस साल पहली बार नेशनल सिक्योरिटी गार्ड जो आमतौर पर ब्लैक कैट कमांडोज कहे जाते हैं राजपथ की परेड में शामिल हुआ. 100 एनएसजी कमांडो का दस्ता पहली बार परेड में शामिल हुआ

परेड में तेजस विमान पहली बार जमीन से मात्र 300 मीटर की ऊंचाई से उड़ान भरते हुए फ्लाई परेड किया. 67 साल से चली आ रही गणतंत्र दिवस को मनाने की परंपरा को आगे बढ़ाते हुए हमारी बीएसएफ की ऊंट रेजिमेंट, मिसाइल दागने की क्षमता रखने वाला भीष्म टैंक, ब्रह्मोस मिसाइल सिस्टम, हथियारों को भांपने में सक्षम स्वाथी, आकाश वेपन सिस्टम और धनुष गन सिस्टम जैसी आधुनिक सैन्य ताकत की झलक यहां दिखी.

परेड में मेकैनाइज्ड इन्फैन्ट्री रेजीमेंट, बिहार रेजीमेंट, गोरखा ट्रेनिंग सेंटर और पंजाब रेजीमेंटल सेंटर, सिख रेजीमेंटल सेंटर, मद्रास इंजीनियरिंग ग्रुप, इन्फैन्ट्री, बटालियन (क्षेत्रीय सेना) सिख लाइट इन्फैन्ट्री का संयुक्त बैंड भी दिखा. इसके बाद नौसेना की मार्चिंग टुकड़ी और नौसेना की भी एक झांकी दिखी. वायु सेना के मार्चिंग टुकड़ी के बाद वायु सेना की भी एक झांकी दिखाई गई, जिसमें भारतीय वायुसेना के सैन्य कौशल को प्रदर्शित किया गया.

सेना की मोटरसाइकिल टीम ने आज राजपथ पर ऐसा अदभुत करतब दिखाया कि लोग हैरान रह गए. परेड के बड़े आकर्षण में से एक एमआई-35 हेलिकॉप्टरों, स्वदेशी हल्के लड़ाकू विमान तेजस, जगुआर और सुखोई की सलामी रही.

परेड में 17 राज्यों 6 मंत्रालयों की झांकियां भी दिखीं. 25 वो बच्चे भी परेड का हिस्सा थे जिन्हें साल 2016 का राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार दिया गया है. सबसे आखिरी में एयरफोर्स का फ्लाइंग पास्ट आकर्षण का केंद्र रहा.

गणतंत्र दिवस के सम्मान में दुनिया की सबसे इमारतों में से एक बुर्ज खलीफा भी तिरंगे के रंग में रंगी नजर आई. विदेश मंत्रालय के मुताबिक आज भी 6:30, 7:30 और 8:30 बजे बुर्ज खलीफा ने तिंरगे में रंगा नजर आएगा. इस बार गणतंत्र दिवस की परेड में शिरकत करने वाले 90 फीसद सामान पर मेड इन इंडिया की छाप होगी. परेड में देश में निर्मित एडवांस्ड टोड आर्टिलरी गन और धनुष तोप का जैसे कई स्वदेशी सामानों का प्रदर्शन किया जाएगा.


Next Story
Share it