Top
Aap Ki Khabar

अपडेट - मोदी के इस मन्त्र से सोचने को मजबूर हुए प्रशासनिक अधिकारी

अपडेट - मोदी  के इस मन्त्र से सोचने को मजबूर हुए प्रशासनिक अधिकारी
X

अपडेट

आप अभावग्रस्त व्यवस्था में हैं तो आप का कोई मूल्याङ्कन नहीं होता है | प्रभावस्त व्यवस्था में ही सही आकलन होता है |

  • सफलता तभी मिलती है जब जिम्मेदारी का अहसास होता है
  • अभाव के बीच कैसे रास्ते खोजने हैं इसे सीखना चाहिए
  • काम के दौरान खुद का प्रचार करना उचित नहीं
  • सिविल सर्वेंट का काम देश के हित में निर्णय होना चाहिए यह उसकी ड्यूटी है उसमे कमी नहीं आनी चाहिए |
  • ताकत का इस्तेमाल विवेक से हो
  • सोशल मीडिया सबसे बड़ी ताकत
  • जो निर्णय 24 घंटे में लिए गए वह 15 साल से क्यों अटके पड़े थे इसपर सोचने का विषय है |

लखनऊ- प्रशासनिक अधिकारियों के सिविल सम्मलेन दिवस पर बोलते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा सरकारी अधिकारियों को जिम्मेदारी और चुनौतियों का अहसास है लेकिन पिछले बीस वर्षों में परिस्थितियों में काफी बदलाव आया है | जरुरत है अपनी कार्यशैली को बदलने की आज जो हमें चुनौती लग रहिओ है वह अवसर बन जायेगी | पीएम ने कहा कि व्यवस्था को बदलने की जरुरत है |

और क्या कहा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने

  • सोचने का तरीका बदलने की जरुरत
  • चुनौतियों को अवसर में बदलने की जरुरत है
  • एक साल में qwalitetive jump होना चाहिए
  • excellencies का ठप्पा आप पर लगा है तो quality भी ऐसी ही होनी चाहिए |
  • आज का जमाना कम्पटीशन का है
  • सरकार के लिए बोझ नहीं होना चाहिए


Next Story
Share it