Top
Aap Ki Khabar

योगी सर कहाँ है गुरु जी

योगी सर कहाँ है गुरु जी
X

रिपोर्ट - मनोहर पटेल - मथुरा - सरकार सरकरी स्कूलों में शिक्षा की स्तिथि बेहतर करने के लिए हर महीने टीचरों पर लाखो करोडो रूपए खर्च करती है जिससे के ये टीचर गरीब और निचले तबके के बच्चों को शिक्षित कर उनके अंदर भी शिक्षा का दीपक जला सके /लेकिन हमने जब सरकारी स्कूलों में जाकर देखा की यहाँ शिक्षा देने के लिए शिक्षा बिभाग द्वारा तैनात किये गए शिक्षक और शिक्षका बिना समय से स्कूल आये ही इनको कैसी शिक्षा दे रहे है उसकी एक तस्बीर देखने को मिली हमको मथुरा के गांव मौरा में बने प्राथमिक विधालय मौरा में जहाँ हमको स्कूल में पड़ने को आने वाले बच्चे तो पड़ने के लिए समय से आठ बजे स्कूल पहुँचते है लेकिन यहाँ पर तैनात शिक्षक और शिक्षका समय से नहीं आने के कारण ये घंटों स्कूल के गेट पर ताला लगा होने की बजह से उसपर झूलते रहते है और जब थक जाते है तो इसी ताले लगे हुए गेट पर चढ़कर स्कूल में अंदर भी जाते है या फिर दीबारों से कूदकर स्कूल में जाना होता है /क्यों की यहाँ पर बैसे तो चार टीचर तैनात है लेकिन अगर बच्चों की और स्थानीय लोगो का कहना है की स्कूल के समय आठ बजे सिर्फ बच्चे आते है और टीचर हमेशा दस ग्यारह बजे ही आती है और उसके वाद भी सिर्फ यहाँ आकर आपस में गप्प लड़ाते रहते है जिसकी बजह से बच्चे खेलकूद कर अपने घर बापस चले जाते है /जब यहाँ कई घंटे लेट आयी एक टीचर सीमा से हमने बात की और पुछा की स्कूल कितने बजे के है तो उन्होंने स्कूल का समय तो आठ बजे काही बताया लेकिन जब उनसे उनके आने का समय पूछा तो वो बगले झाकते हुए बोली की देखकर बताना पड़ेगा /
बही हमने एक और मथुरा के जन्मभूमि के पाश जगन्नाथ पूरी में बने सरकारी स्कूल प्राथमिक विधालय का नजारा देखा जिसमे तब हम पहुंचे तो उस समय बच्चों का लंच का समय था लेकिन जिन बर्तनो में बच्चों ने दोपहर को मिलने बाला मिडडे मिल का खाना खाया उन बर्तनो को भी इन नन्हे नौनिहालों बच्चों से ही दुलबाया जा रहा था बही स्कूल में पिने को आने बाला पानी भी बच्चों से भरभाया जाता था जब हमने बच्चों से बात की तो उन्होंने कहा की टीचर के कहने पर ही बो बर्तन धोते है और उन्ही के कहने पर पानी भरते है हम-/अब जरा सोचने की बात ये है की आखिर बिना टीचर के स्कूल में दरबाजे पर झूलने से जब इन बच्चों को सही समय से शिक्षा नहीं मिलेगी और उनसे झूंटे बर्तन दुलबाये जायेंगे तो आखिर ये कैसी शिक्षा लेकर घर जाते होंगे और कैसे अपने देश का आने का बाला भविष्य सुधरेगा ये तो फिर राम ही जाने /


Next Story
Share it