Top
Aap Ki Khabar

अल्पसंख्यक आयोग अलगाववादी मानसिकता

अल्पसंख्यक आयोग अलगाववादी मानसिकता
X

अहमदाबाद। अल्पसंख्यक आयोग इस प्रकार का वातावरण बनाता है जैसे भारत में मुस्लिम व ईसाई समाज पीड़ित है। इससे 'अलगाववादी मानसिकता को विश्वसनीयता मिलती है'। अल्पसंख्यक आयोग को तत्काल भंग किया जाए गुजरात के खेड़ा जिले के वडताल में 24-25 जून को हुई विहिप की केंद्रीय शासी परिषद की बैठक में प्रस्ताव पारित किया गया.

क्या है प्रस्ताव
"

  • वास्तव में ये न केवल हिंदू समाज अपितु अन्य अल्पसंख्यकों जैसे बौद्ध व सिख समाज पर भी बर्बर अत्याचार करते हैं।
  • इसलिए जेहादी व मिशनरी पीड़ित नहीं अत्याचारी हैं।
  • ये अल्पसंख्यक आयोग जैसी संस्थाओं का लाभ लेकर अपने लिए सहानुभूति अर्जित करते हैं, जिससे ये अपने हिंदू विरोधी व देश विरोधी षडयंत्रों को निर्बाध रूप से चलाते रहते हैं।
  • विहिप ने इस प्रस्ताव में केंद्र सरकार से यह भी मांग की है कि संसद में अविलंब कानून लाकर राम मंदिर के निर्माण की दिशा में सार्थक कदम उठाए जाएं।

Next Story
Share it