aapkikhabar aapkikhabar

क्या यह ऐप कर रहा है आपके व्यक्तितव को खोखला?



क्या यह ऐप कर रहा है आपके व्यक्तितव को खोखला?

aapkikhabar.com



डेस्क (दीप्ता)- एक नए एंड्राइड ऐप का जादू आजकल सबके सर चढ़ के बोल रहा है, युवाओं में तो यह ऐप खासा मैशहूर हो गया है| केवल छ: महीनों में ही यह ऐप एंड्राइड और स्मार्ट फ़ोन इस्तेमाल करने वाले अधिकांश युवाओं के पास है और वो इस ऐप का भरपूर इस्तेमाल भी कर रहे हैं| जी हाँ हम बात कर रहे हैं 'सराहा ऐप' की जिसे करीबन छ: महीने पहले बनाया था सऊदी अरब के एक युवक ने जिसका नाम जायनअल्बदीन तौफ़ीक़ है| इस ऐप्लिकतिओन को बनाते हुए जायन ने कभी सोचा भी नहीं होगा की इतने कम समय में ही इसकी लोकप्रियता इतनी बढ़ जाएगी| 


 

पर यह ऐप लोकप्रीय होने के साथ ही साथ बदनाम भी होता जा रहा है| इस ऐप का नाम सराहा रखा गया क्यिंकि अरबी भाषा में इस शब्द का मतलब है ईमानदारी| लोगों से अपने बारे में उनकी सच्ची राय जानने या किसी को अपने दिल की बात बताने के लिए डिजाईन किआ गया यह ऐप अब लोगों में गलत चीज़ों को बढ़ावा दे रहा है| इस ऐप में सन्देश भेजने वाले की पहचान सामने नहीं आती जिसका गलत फायदा उठा के लोग अपनी दबी कुंठा को बाहर निकाल रहे हैं दूसरों को गाली दे कर और अपशब्द कह कर| इस ऐप का सहारा ले कर बहुत से लोग लड़कियों को अभद्र मेस्सगेस भी भेजते हैं| 

पर सबसे बुरी बात तो यह है की लोग दूसरों कि राय को खुद पर हावी होने दे रहे हैं और डिप्रेशन का शिकार हो जा रहे हैं| इस पीढ़ी के युवा जो अपना ज़्यादातर जीवन वर्चुअल दुनिया में जीते हैं और दूसरों के लाइक्स और कमेंट्स उनके खोखले दंभ को  पोषण देने का काम करती है ऐसे में उनके लिए लोगों के द्वारा किआ गया एक भी नकारात्मक कमेंट या कोई भी कटाक्ष उन्हें खुद के बारे में गहराई से नकारात्मक सोच रखने पे मजबूर कर डेटा है|

 





-



सम्बंधित खबरें



खबरें स्लाइड्स में


खबरें ज़रा हट के