aapkikhabar aapkikhabar

हर व्यक्ति के कर्म और धर्म के आधार पर उन्हें दंड दिया जाता है



हर व्यक्ति के कर्म और धर्म के आधार पर उन्हें दंड दिया जाता है

र व्यक्ति के कर्म ही उसके जीवन का आधार होते है.

डेस्क-आज हम आपको कुछ ऐसी जानकारी देने वाले है हर व्यक्ति के कर्म ही उसके जीवन का आधार होते है. वह जैसा कर्म करता है उसे वैसा ही फल प्राप्त होता है. किन्तु व्यक्ति के कर्मो का फल उसे तत्काल नहीं मिलता इसमें कुछ समय का अंतर होता है. जिस प्रकार हम किसी बीज को बोते है और उसका फल पाने के लिए हमें कुछ समय इन्तजार करना पड़ता है. बीज बोने के साथ ही हम उसका फल प्राप्त नहीं कर सकते.


यदि व्यक्ति के जीवन में उसके कर्मों का फल उसे तुरंत मिलने लगता तो मानवी विवेक एवं चेतना की विशेषता कुंठित हो जाती. जैसे व्यक्ति के झूंठ बोलने पर उसकी जिह्वा तुरंत कट जाती, चोरी करते ही व्यक्ति का हाँथ अपंग हो जाता आदि. यदि ऐसा होता तो किसी के लिए भी दुष्कर्म करना संभव नहीं होता और केवल एक ही मार्ग शेष बचता. जो निर्जीव मार्ग होता है|


पहली बार माँ बनाने जा रही है तो इन बातो पर ध्यान दे


बस करे ये उपाय अगर आपके मोबाइल इंटरनेट चल रह है धीमा फिर देखिये असर


व्यक्ति के कर्म कभी भी उसका पीछा नहीं छोड़ते. जैसे की मान लीजिए हमारा विवाद किसी अन्य व्यक्ति से हो जाता है और यह मामला कोर्ट तक पहुँच जाता है किन्तु उसी समय हमारी मृत्यु हो जाती है तो देखने में तो यही प्रतीत होगा की हम कोर्ट कचहेरी की परेशानियों से मुक्त हो गए. किन्तु वास्तव में ऐसा नहीं होता क्योंकि उस व्यक्ति के मन में जिससे हमारा विवाद हुआ था हमारी याद निरंतर आती रहती है|
ये विडियो देखे



- प्रेम कुमार



सम्बंधित खबरें



खबरें स्लाइड्स में


खबरें ज़रा हट के