aapkikhabar aapkikhabar

कुछ ही दिनों में बोलने लगेंगे फर्राटेदार इंग्लिश, यह हैं टिप्स



कुछ ही दिनों में बोलने लगेंगे  फर्राटेदार इंग्लिश, यह हैं टिप्स

इंग्लिश बोले अब आसानी से

डेस्क- सभी लोग आज के इस समय में हर कोई अपने करियर और लाइफ में आगे बढ़ने की चाहत रखता है दुनिया में वैश्विक स्तर पर हुए बदलाव के साथ-साथ लोगों को आपस में जोड़ने में का काम भाषा ने किया है किसी भी व्यक्ति को साथ जोड़ने में उनकी भाषा यानि वह भाषा में बात करता है बहुत महत्वपूर्ण है आज के वैश्विक युग में इंग्लिश को ग्लोबल लैंगवेज के रुप में उभरी है इसलिए लोग अपने आप को लोगों से जोड़ने को लिए इंग्लिश सीखने और बोलने का प्रयास कर है,और धीरे धीरे वह अग्रेजी बोलना सीख भी लेते है लेकिन इस बीच कई बार अनजाने में वह कई सारी ऐसी गलतियां कर बैठते है तो हम आपको कुछ ऐसे टिप्स को फॉलो करके आप बेहतर अग्रेंजी बोल सकते है।


पढ़े:-इस चीज को खाकर आपका दिमाग बन जायेगा कंप्यूटर


भारत में अक्सर लोग अमेरिकन या ब्रिटिश एक्सेंट को सीखना पंसद करते है ऐसे में जिस भी एक्सेंट को सीखना चाहते है उसे अच्छे से सीखें क्योंकि हर एक्सेंट का उच्चारण ग्रामर और स्पेलिंग अलग-अलग होते है ऐसे में इस बात का ध्यान रखें।


पढ़े:- इन राशियों को 14 फरवरी यानी वैलेंटाइन डे के दिन मिलने वाला है प्यार


आपने कभी बोलते वक्त अपने माउथ मूवमेंट पर गौर किया है अगर नहीं तो आप एक काम कर सकते हैं कुछ दिनों तक जब भी टीवी देखें, किसी न्यूज चैनल पर अपने किसी पसंदीदा होस्ट के माउथ मूवमेंट पर ध्यान दें इससे आपको समझ आने लगेगा कि आपकेमाउथ मूवमेंट किस तरह के होने चाहिए उसके बाद अपने फोन में वीडियो रिकॉर्डर ऑन करके या शीशे के सामने जाकर अंग्रेजी में कुछ भी बोलना शुरू कर दें फिर आप खुद को परखें कि आपकेमाउथ मूवमेंट कैसे हैं आप जो भी बोल रहे हैं कहीं वह बनावटी तो साउंड नहीं कर रहा इसके लिए आप चाहें तो खुद का एक छोटा-सा टेस्ट भी ले सकते हैं अगर अधिकतर शब्द सही निकले, तो इसका मतलब है कि आप सही दिशा में जा रहे हैं और अगर अधिकतर शब्द गलत निकले, तो फिर आप इस टेस्ट को कुछ दिन और प्रैक्टिस करें इससे आपको समझ आएगा कि किस शब्द के उच्चारण में आपको कितना मुंह खोलना है।


पढ़े:-इस डेली रूटीन से आप हमेशा रहेंगे एकदम फिट


कई बार जब लोग अग्रेंजी में बात करते है तो बात करके समय अपनी मातृभाषा के किसी शब्द को इंग्लिश में ट्रांसलेट करते बता देते है जो कई बार सही नहीं होता इसके अलावा कई बार बात समय मातृभाषा का प्रभाव दिख जाता है जैसे कई बार लोग 'I' और 'N' के इस्तेमाल वाले शब्दों पर ज्यादा देर रुकते हैं।


 


 


- शेख मो अब्दुल्ला



सम्बंधित खबरें



खबरें स्लाइड्स में


खबरें ज़रा हट के