aapkikhabar aapkikhabar

यहाँ जिस्म बेचने वाली महिला को मिलता है सम्मान खुद भेजते हैं अपनी लड़कियां



यहाँ जिस्म बेचने वाली महिला को मिलता है सम्मान खुद भेजते हैं अपनी लड़कियां

aapkikhabar.com

डेस्क - दुनिया कहाँ से कहाँ पहुची जा रही है लेकिन अभी भी कुछ ऐसी जनजातियाँ हैं जो देह व्यापार को ही अपना पेशा बनाते हैं और सबसे बड़ी शर्मनाक स्थिति यहाँ यह होती है की जो परिवार अपने घरों की लड़कियों की सुरक्षा में लगाना चाहिए वही उसे देह व्यापर के दलदल में धकेल देता है और यही परम्परा बन गई |


मध्य प्रदेश में बाछड़ा नाम की एक जनजाति है जो मध्य प्रदेश के मंदसौर नीमच और रतलाम किले में पाई जाती है | इस भयानक सामाजिक बीमारी से लगभग 75 गाँव के 23 हजार लोग प्रभावित हैं |
सबसे बड़ी बात यह है की इस समुदाय की बड़ी लड़की को देह व्यापार के पेशे में लगाया जाता है और अचम्भा कर देने वाली बात यह है कि इस समुदाय में ऐसे लोग जो देह व्यापर से जुड़े होते हैं उनको उनके समाज में बहुत ही सम्मान की नजर से देखा जाता है और यही देह व्यापार के कारण उनका लोगों का घर चलता है |सभी को पता है की यह सामजिक बुराई है लेकिन उसके बाद सरकार द्वारा कदम उठाये जाने के बाद भी देह व्यापार का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है |



सरकार ने इस बीमारी नो दूर करने के लिए 1983 में इस अभिशाप को दूर करने के लिए सभी ने एक जुटता दिखाई लेकिन उसके बावजूद अभी तक नासूर बन चुके इस समस्या का कोई भी हल नहीं निकल पाया है |
आपको जानकार यह भी ताज्जुब होगा कि इस समुदाय में महिलाओ की इज्जत ज्यादा होती है पुरुषों से क्यों की महिलाएं ही वह साधन बनती है जो परिवार का पेट पाल सके | 


-



सम्बंधित खबरें



खबरें स्लाइड्स में


खबरें ज़रा हट के