aapkikhabar aapkikhabar

आंखें खोल कर पढ़े आर्टिकल हिंदुस्तान में रहकर पाकिस्तान की गाने वाले



आंखें खोल कर पढ़े आर्टिकल  हिंदुस्तान में रहकर पाकिस्तान की गाने वाले

मोहजीरिओं का दर्द

जन्नत की हकीकत सामने आरही है, दीन पर आधारित वह जन्नत जिसका सपना किसी समय मोहम्मद अली जिन्ना की मुस्लिम लीग ने मुसलमानों को दिखाया। इसी हसीन ख्वाब में आकर जिन लोगों ने अपने ही मादरे वतन हिंदुस्तान के खिलाफ तलवारें उठाईं, अपने ही पुरखों की भूमि को खुद के ही निर्दोष हिंदू-सिख बंधुओं के खून से सींचा अब वे पछता रहे हैं। आज उनके दिलों में आक्रोश वैसा ही है परंतु नारे बदल रहे हैं। 'हर हाल में लेंगे पाकिस्तान' का नारा अब 'हमें पाकिस्तान से बचाओ' और 'हंस के लिया है पाकिस्तान, लड़ कर लेंगे हिंदुस्तान' का नारा अब 'फ्री कराची' में बदल चुका है। मुहाजिर अपनी जन्नत पाकिस्तान से दुखी हैं, वही मुहाजिर जिन्होंने भारत को छोड़ कर पाकिस्तान को अपना खुदा की धरती माना और मारकाट मचाते हुए यहां से विदा हुए। आज वे दुखी हैं, पाकिस्तान के रूप में जन्नत मिले को 70 साल हो गए परंतु अभी तक वहां के लोगों ने उन्हें हमवतन नहीं माना। उनकी पहचान है मुहाजिर यानि अपना देश छोड़ कर दूसरे देश में रहने वाला। पाकिस्तानी मानते हैं कि इन मुहाजिरों का अपना देश भारत है और वह दूसरे वतन में आए हुए हैं। अमेरिका में 15 जनवरी को आयोजित मार्टिन किंग लूथर दिवस पर 'फ्री कराची' नाम का अभियान शुरू किया गया जिसमें मुहाजिरों के  अधिकारों की आवाज उठाई गई है। भारत से आजादी मांगने और भारत के टुकड़े करने वाले नए युग के मुस्लिम लीगियों व जेएनयू के वामपंथियों को इन मुहाजिरों की हालत जरूर देखनी चाहिए।


अमेरिका में चले इस अभियान में वॉशिंगटन शहर में 100 टैक्सियों के ऊपर फ्री कराची लिखे हुए बैनर और पोस्टर लगाए गए हैं। बैनर पर लिखा है-पाकिस्तान के मुहाजिरों को बचाएं। ये टैक्सियां शहर भर के अहम इलाकों जैसे व्हाइट हाउस, अमरीकी कांग्रेस और विदेश मंत्रालय समेत सांसदों और सीनेटरों के दफ़्तरों के आसपास गश्त लगाती रहती हैं। अमरीका में रहने वाले कुछ पाकिस्तानी मुहाजिर लोग इस मुहिम में शामिल हैं।

फ्री कराची मुहिम के प्रवक्ता नदीम नुसरत इस अभियान के बारे में कहते हैं, इसका उद्देश्य यह है कि दुनिया को कराची में और सिंध के दूसरे इलाकों में रहने वाले शांतिप्रिय मुहाजिरों के हालात के बारे में जानकारी दी जाए, जिन्हें पाकिस्तान के सैन्य और सुरक्षा बल प्रताडि़त कर रहे हैं। अमरीकी कांग्रेस की विदेशी मामलों की समिति की बैठक में भी इस मुहिम के प्रतिनिधि शामिल हुए और कराची में मुहाजिरों के साथ अत्याचारों के बारे में बयान दर्ज कराए। अमरीकी कांग्रेस की प्रतिनिधि सभा की विदेश मामलों की समिति के एक सदस्य डेना रोरबाकर ने भी कराची में रहने वाले मुहाजिरों के पक्ष में बात की। डेना रोरबाकर ने कहा, हमें उन सभी गुटों की मदद करनी चाहिए जिन्हे पाकिस्तान में प्रताडि़त किया जा रहा है। हमें बलोचों और मुहाजिरों की मदद करनी चाहिए। 

अभियान के कर्ताधर्ता नदीम नुसरत बताते हैं कि सन 1992 से अब तक पाकिस्तान के सिंध प्रांत में 22 हजार उर्दू बोलने वाले मुहाजिरों को सुरक्षा बलों ने मौत के घाट उतारा है। उनका कहना है कि सन 2013 से अब तक मुहाजिरों की सैकड़ों लाशें सड़कों पर फेंकी हुई मिली हैं जिनको प्रताडि़त करके मार डाला गया था।

कराची शहर में प्रतिबंधित गुटों के लोग खुले आम नफरत की सोच का प्रचार करते हैं और सुरक्षा बल उनको सुरक्षा भी प्रदान करते हैं, वहीं मुहाजिरों की मुख्य राजनीतिक पार्टी मुत्तहिदा कौमी मूवमेंट या एमक्यूएम पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। कराची में करीब डेढ़ करोड़ लोग रहते हैं और इनमें सबसे बड़ी संख्या मुहाजिरों की है। कराची शहर से ही पाकिस्तान को 70 प्रतिशत राजस्व मिलता है, लेकिन सरकारों द्वारा मुहाजिरों के साथ भेदभाव किया जाता है। मुहाजिरों को न तो पुलिस में और न ही अर्ध-सैन्य बलों में नौकरी मिलती है। कराची में मुहाजिरों को सुरक्षा बल अगवा कर लेते हैं और फिरौती देने के बाद रिहा करते हैं और जो न दे सकें उनको या तो फर्जी केस में फंसा दिया जाता है या बेरहमी से मार दिया जाता है।

यह अभियान निराधार व राजनीतिक नहीं, दुनिया में मानवाधिकारों पर नजर रखने वाली एमनेस्टी इंटरनैशनल भी पाकिस्तान में मुहाजिरों व बलोचों पर चिंता जता चुकी है। अमेरिका के सांसद ब्रैंड शर्मन ने पाकिस्तान के सिंध प्रांत में मानवाधिकारों के घोर उल्लंघन पर अपनी चिंता जाहिर की है। पिछले एक साल में संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार समिति, एमनेस्टी इंटरनेशनल, ह्यमून राइट वाच और विदेश विभाग की रिपोर्ट में मानवाधिकारों के उल्लंघन पर पाकिस्तान और उसमें भी सिंध में लोगों के लापता होने पर गंभीर चिंता जताई गई है। शर्मन ने कहा है कि इस तरह से मानवाधिकारों के उल्लंघन को अनुत्तरित नहीं किया जा सकता।

ऐसे ही पाकिस्तान के बलूचिस्तान में हजारों बलूच नागरिकों के लापता होने की समस्या गंभीर बनी हुई है। पिछले कई वर्षों से उनका कुछ अता-पता नहीं लग रहा। इसके पीछे पाक सेना और खुफिया एजेंसी आईएसआई का हाथ बताया जा रहा है। पाकिस्तान में न तो अल्पसंख्यक हिंदू-इसाई सुरक्षित हैं और न ही अहमदीया व शीया मुसलमान। इनको न तो समान अवसर मिले हैं और आस्था को आधार बना कर अत्याचार भी होते रहते हैं। फ्री कराची अभियान से आंखें खुल जानी चाहिएं उन वामपंथियों व नव मुस्लिम लीगियों विशेषकर कश्मीरियों की जो उस भारत से आजादी की मांग करते हैं जहां दुनिया की सर्वश्रेष्ठ स्वतंत्र व्यवस्था का लाभ उठा रहे हैं। हंस कर लिया है पाकिस्तान और लड़ कर लेंगे हिंदुस्तान नारे लगाने वाले आज रो-रो कर कह रहे हैं उस डाली को कभी न काटो जिस पर तुम पले बढ़े हो। 

- राकेश सैन

-



सम्बंधित खबरें



खबरें स्लाइड्स में


खबरें ज़रा हट के


Latest news with Aapkikhabar

"आज के ताज़े समाचार' के साथ आपकी ख़बर

भारत के सबसे लोकप्रिय समाचार के स्रोत में आपका स्वागत है ताजा समाचार और रोज के ताजा घटनाक्रम के लिए दैनिक समाचार को पढने के लिए हमारी वेबसाइट सही और प्रमाणिक समाचारों को खोजने के लिए सबसे अच्छी जगह है। हम अपने पाठकों को पूरे देश और उसके मुख्य क्षेत्रों में नवीनतम समाचारों के साथ प्रदान करते हैं। हमारा मुख्य लक्ष्य खबरों को एक उद्देश्य के साथ मूल्यांकन भी देना है और इस तरह के क्षेत्रों में राजनीति, अर्थव्यवस्था, अपराध, व्यवसाय, स्वास्थ्य, खेल, धर्म और संस्कृति के रूप में क्या हो रहा है, इस पर भी प्रकाश डालना है। हम सूचना की खोज करते हैं और सबसे महत्वपूर्ण ग्लोबल घटनाओं से संबंधित सामग्री को तुरंत प्रकाशित करते हैं।.

Trusted Source for News

ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए सबसे विश्वसनीय स्रोत है आपकी खबर

आपकी खबर उन लोगों के लिए एक बेहतरीन माध्यम है जिनके कई मुद्दों पर अपनी अलग राय है हम अपने पाठकों को भी एक माध्यम उपलब्ध कराते हैं जो ख़बरों का विश्लेषण कर सकें निर्भीक रूप से पत्रकारिता कर सकें | आपकी खबर का प्रयास रहता है की ख़बरों के तह तक जाएँ पुरी सच्चाई पता करें और रीडर को वह सब कुछ जानकारी दें जो अमूमन उन्हें नहीं मिल पाती है | यह प्रयास मात्र इस लिए है कि रीडर भी अपनी राय को पूरी जानकारी से व्यक्त कर सके |
खबर पढने वाले पाठकों की सुविधा के लिए हमने आपकी खबर में विभिन्न कैटेगरी में बात है जैसे कि विशेष , बड़ी खबर ,फोटो न्यूज़ , ख़बरें मनोरंजन,लाइफस्टाइल, क्राइम ,तकनीकी , स्थानीय ख़बरें , देश की ख़बरें उत्तर प्रदेश , दिल्ली , महाराष्ट्र ,हरियाणा ,राजस्थान , बिहार ,झारखण्ड इत्यादि |

Develop a Habit of Reading

अब अखबार नहीं डिजिटल अखबार पढ़िए “आप की खबर” के साथ

आपकी खबर सामाचार ताजा सामाचारों का एक डिजिटल माध्यम है जो जनता को सच्चाई देने में समाचारों का एक विश्वसनीय स्रोत बनने का प्रयास है। हमारे दर्शकों के पास समाचार पर टिप्पणी करने और अन्य पाठकों के साथ अपनी स्वतंत्र राय साझा करने का अंतिम अधिकार है। हमारी वेबसाइट ब्राउज़ करें और आप की खबर (आज की ताजा खबर) की जाँच करें, साथ ही आपको मिलेगा आपकी खबर के एक्सपर्ट्स की टीम खबरों की तह तक जाने का प्रयास करती है और कोशिस करती है कि सही विश्लेषण के साथ खबर को परोसा जाए जिसमे वीडियो और चित्र की भी प्रमंकिता हो । इसके लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें और भारत में कुछ भी नया घटनाक्रम को घटित होने पर अपने को रखें अपडेट |