aapkikhabar aapkikhabar

मोदी सरकार दे रही है 10 लाख रूपये ये 4 बिजनेस शुरू के लिए



मोदी सरकार दे रही है 10 लाख रूपये ये 4 बिजनेस शुरू के लिए

लोगों को बिजनेस करने के लिए प्रेरित कर रही है

डेस्क-मोदी सरकार बेरोजगारी कम करने के लिए लोगों को बिजनेस करने के लिए प्रेरित कर रही है। सरकार नया बिजनेस शुरू करने पर आसान शर्तों पर लोन के साथ साथ सब्सिडी भी दे रही है। ऐसी योजनाओं के बारे में जानकारी न होने के कारण लोग इसका लाभ नहीं उठा पाते। ऐसी ही एक योजना के तहत सरकार 40 फीसदी तक सब्सिडी देती है और कम ब्‍याज दर पर 55 फीसदी लोन तक दिया जाता है। इस योजना का नाम है क्वॉयर उद्यमी योजना। इस योजना के मुताबिक, क्‍वॉयर से जु़ड़े बिजनेस शुरू करने पर सरकार आपको लोन, सब्सिडी के अलावा कई तरह की सुविधाएं देती है। आज हम आपको इन बिजनेस के बारे में विस्‍तार से बताएंगे, ताकि आप भी ये बिजनेस शुरू करने पर विचार कर सकें।


फांसी की सजा सुनते ही जज क्या तोड़ देते है पेन की निब


एलियंस कहाँ रहते हैं खोज निकाला वैज्ञानिकों ने


क्‍वॉयर बोर्ड, मिनिस्‍ट्री ऑफ माइक्रो, स्‍मॉल एंड मीडियम एंटरप्राइजेज (एमएसएमई) के अधीन काम करता है। बोर्ड द्वारा नारियल जटा से बनने वाले प्रोडक्‍ट्स को प्रमोट करता है। बोर्ड द्वारा क्‍वॉयर उद्यमी योजना शुरू की गई है, जिसमें 10 लाख रुपए तक के प्रोजेक्‍ट्स को क्रेडिट लिंक्‍ड सब्सिडी दी जाती है। अगर आप भी बिजनेस शुरू करना चाहते हैं तो केवल 5 फीसदी पैसा होने के बाद आप इस स्‍कीम में अप्‍लाई कर सकते हैं। आपका प्रोजेक्‍ट्स अप्रूव होने पर आपको बैंक 55 फीसदी लोन सात साल के लिए देते हैं, जबकि क्‍वॉयर बोर्ड द्वारा 40 फीसदी सब्सिडी दी जाती है।


रेडमी नोट 5 इन जगहों पर दे रह है 70% छुट जानिए कहा कहा


बीबी और गर्लफ्रेंड में क्या अंतर होते है जानिए


इस स्‍कीम के तहत सरकार लोन और सब्सिडी के साथ साथ और भी सर्विसेजे देती है। जैसे कि बोर्ड मार्केटिंग सपोर्ट असिस्‍टेंस भी देती है। यानी कि, क्‍वॉयर बिजनेस करने वाले उद्यमियों को एक साथ जोड़ कर कलस्‍टर बनाया जाता है और उन्‍हें मार्केटिंग सपोर्ट दिया जाता है। इतना ही नहीं, यदि आप अपने प्रोडक्‍ट्स की मार्केटिंग के लिए किसी एग्‍जीबिशन या फेयर में जाते हैं तो बोर्ड द्वारा खर्च का वहन किया जाता है। आपके प्रोडक्‍ट्स का शोरूम हायर करने में भी बोर्ड सपोर्ट करता है। कंसोटोरियम में काम कर रहे कर्मचारियों की सैलरी बोर्ड द्वारा दी जाती है।


 


- प्रेम कुमार



सम्बंधित खबरें



खबरें स्लाइड्स में


खबरें ज़रा हट के