aapkikhabar aapkikhabar

खोई हुई याददाश्त को वापस लाने का तरीका मिल गया



खोई हुई याददाश्त को वापस लाने का तरीका मिल गया

खोई हुई याददाश्त को वापस लाने का तरीका मिल गया

वाशिंगटन- खोई हुई याददाश्त को वापस लाने का तरीका मिल गया  है |  किसी वजह से अपनी याददाश्त खो चुके लोगों की जिंदगी में उम्मीद की नई किरण दिखी है। वैज्ञानिकों ने दिमागी चोट, तनाव या फिर अल्जाइमर जैसी बीमारियों के कारण खोई याददाश्त को वापस लाने का तरीका खोज निकाला है। वैज्ञानिकों ने "ऑप्टोजेनेटिक्स" तकनीक से खोई याददाश्त को पुनः सक्रिय करने में सफलता हासिल की है।


मैसाच्यूसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के जीव विज्ञान विभाग के प्रोफेसर सुसुमु टोनेगावा ने कहा कि इस शोध ने न्यूरोसाइंस में विस्मरण की प्रकृति को लेकर लंबे समय से चल रहे विवादित प्रश्न का उत्तर दिया है। इस बात पर लंबे समय से शोध हो रहा है कि याददाश्त दिमाग की किन्हीं विशेष कोशिकाओं के क्षतिग्रस्त होने के कारण जाती है या फिर दिमाग में संग्रहित याददाश्त से संपर्क का रास्ता किसी कारण बंद हो जाता है।


पहले के अध्ययनों में वैज्ञानिकों ने पाया था कि दिमाग में कुछ न्यूरॉन होते हैं जो किसी बात को याद करते समय सक्रिय हो जाते हैं। अगर इन न्यूरॉन को किसी तरीके से बाद में फिर सक्रिय किया जा सके तो पूरी याददाश्त लौट आती है। शोधकर्ताओं में टॉमस रेयान, मिशेल पिग्नाटेली तथा भारतीय मूल के धीरज रॉय शामिल हैं


-



सम्बंधित खबरें



खबरें स्लाइड्स में


खबरें ज़रा हट के