aapkikhabar aapkikhabar

चमगादड़ से निकला खतरनाक वायरस निपाह इस तरीके से करे इसका बचाव



चमगादड़ से निकला खतरनाक वायरस निपाह इस तरीके से करे इसका बचाव

चमगादड़ की नस्ल में मिलता है निपाह

डेस्क-केरल के कोझीकोड में एक मौत का वायरस मिला है. इस अज्ञात इन्फेक्शन के चलते हाई अलर्ट घोषित किया गया है. केरल में हुई रहस्यमयी मौतों का कारण 'निपाह वायरस को बताया गया है. अभी तक 11 लोग इसकी चपेट में आकर जान गंवा चुके हैं. नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी, पुणे ने निपाह वायरस की पुष्टि की है. तीन नमूनों की जांच के बाद यह पुष्टि की गई है. विश्व स्वास्थ्य संगठन ने निपाह को एक उभरती बीमारी करार दिया है और कहा है कि यह एक महामारी की तरह फैल सकता है. निपाह वायरस पहली बार 1998 में मलेशिया और सिंगापुर में पहचाना गया, जब यह सुअरों और मनुष्यों में बीमारी का कारण बना था


चमगादड़ की नस्ल में मिलता है निपाह
निपाह वायरस चमगादड़ की एक नस्ल में पाया जाता है. यह वायरस उनमें प्राकृतिक रूप से मौजूद होता है. चमगादड़ जिस फल को खाती है, उनके अपशिष्ट जैसी चीजों के संपर्क में आने पर यह वायरस किसी भी अन्य जीव या इंसान को प्रभावित कर सकता है. ऐसा होने पर ये जानलेवा बीमारी का रूप ले लेता है |


निपाह वायरस के लक्षण
मनुष्‍यों में निपाह वायरस, से जुड़ा हुआ है, जिसकी वजह से ब्रेन में सूजन आ जाती है. बुखार, सिरदर्द, चक्‍कर, मानसिक भ्रम, कोमा और आखिर में मौत, इसके प्रमुख लक्षणों में शामिल हैं. 24-28 घंटे में यदि लक्षण बढ़ जाए तो इंसान को कोमा में जाना पड़ सकता है. कुछ केस में रोगी को सांस संबंधित समस्‍या का भी सामना करना पड़ सकता है |


कैसे निपाह वायरस से खुद को बचाएं
निपाह वायरस एक इंसान से दूसरे इंसान में फैलता है. इसे रोकने के लिए संक्रमित रोगी से दूरी बनाए रखें. स्वास्थ्य कर्मियों को अस्पताल में निपाह वायरस से बचने के लिए संक्रमित मरीजों की देखभाल करते समय या प्रयोगशाला के नमूनों को संभालने और जमा करते समय उचित सावधानी बरतनी चाहिए |


- प्रेम कुमार



सम्बंधित खबरें



खबरें स्लाइड्स में


खबरें ज़रा हट के