aapkikhabar aapkikhabar

निपाह वायरस को लेकर बिहार में अलर्ट जारी, सरकार ने जारी की एडवायजरी



निपाह वायरस को लेकर बिहार में अलर्ट जारी, सरकार ने जारी की एडवायजरी

निपाह वायरस

पटना: निपाह वायरस का खतरा केरल के बाद अब  बिहार में भी मंडराने लगा है.निपाह वायरस के खतरे को देखते हुए बिहार में अलर्ट जारी किया गया है. राज्य सरकार ने निपाह वायरस को लेकर एडवायजरी जारी की है. लोगों को बताया गया है कि केरल से आने वाले फलों को अच्छी तरह से धोकर खाएं. 


साथ ही सरकार ने ये भी कहा है कि भीड़-भाड़ वाले इलाके में जाने से परहेज करें और चेहरे पर मास्क लगाकर सफर करें. स्वास्थ्य सेवा के निदेशक प्रमुख डॉ आरडी रंजन ने सभी सिविल सर्जन को निपाह वायरस से बचाव के लिए जागरूकता लाने और प्रचार-प्रसार करने को कहा है. 
निपाह एक तरह का संक्रमण फैलाने वाला वायरस है.डब्लयूएचओ के मुताबिक इस वायरस का नैचुरल होस्ट फ्रूट बैट होता है. ये चमगादड़ों के मूत्र लार और शरीर से निकलने वाले द्रव्यों में होता है.संक्रमित व्यक्ति से बीमारी फैलती है।


इस वायरस से संक्रमित व्यक्त 24 से 48 घंटे के अंदर कोमा में चला जाता है। मरीज को बेहतर इलाज की आवश्यकता होती है। आइसीयू में भी भर्ती करना पड़ सकता है।  केरल में निपाह विषाणु से प्रभावित एक और व्यक्ति की मृत्यु हो गई. इस के साथ राज्य में इस खतरनाक विषाणु से मरने वालों की संख्या बढ़कर 11 हो गई. आगे पढ़िए इससे बचाव के लिए सरकार ने क्या गाइडलाइन जारी की है.


चमगादड़ों वाले इलाके में अधिक सावधानी बरतें
सुअर अथवा सुअरों के संपर्क में रहने वाले लोगों से दूर रहें. 
गिरे हुए या जानवरों के जुठे फल खाने से बचें. 
केरल से आने वाले फलों को अच्छी तरह धोकर खाएं. 
केले, आम एवं खजूर को लेकर विशेष रूप से सतर्क रहें.
प्रकोप कम होने तक ताड़ एवं खजूर के रस का सेवन ना करें. 
अगर सब्जियों पर जानवरों के काटे के निशान हो तो उन्हें खरीदने से बचें. 
जब तक निपाह का प्रकोप कम ना हो तब तक अच्छी तरह से पका हुआ, साफ सुथरा एवं घर का खाना खाएं. 
व्यक्तिगत स्वच्छता का ख्याल रखें. 


-



सम्बंधित खबरें



खबरें स्लाइड्स में


खबरें ज़रा हट के