aapkikhabar aapkikhabar

कभी भी हो सकता है ब्लैक आउट



कभी भी हो सकता है ब्लैक आउट

बिजली संकट

नई दिल्ली: कभी भी हो सकता है ब्लैक आउट यह संकेत उर्जा मंत्री ने दिए हैं |  दिल्ली अंधेरे में डूब सकती है, यह जानकारी दी है आम आदमी पार्टी सरकार में ऊर्जा मंत्री सत्येंद्र जैन ने, उन्होंने कहा है कि दिल्ली के बिजली संयंत्रों के पास एक दिन से ज्यादा की खपत के लिए कोयले का आरक्षित भंडार नहीं है. इसलिए उन्होंने दिल्ली में ब्लैक आउट की आशंका जताई है. इस भीषण गर्मी में बिजली का न होना दिल्ली वालों के लिए परेशानी का सबब बन सकता है.


इससे पहले ऊर्जा मंत्री सत्येंद्र ने 17 मई को केंद्रीय कोयला मंत्री पीयूष गोयल को पत्र लिखकर उन्हें कोयले की कमी के बारे में अवगत कराया था, लेकिन पियूष गोयल की तरफ से कोई जवाब नहीं आया. गौरतलब है कि , दिल्ली को कोयले से चलने वाले थर्मल जनरेटिंग स्टेशनों दादरी, झज्जर और बदरपुर से 2325 मेगावाट बिजली मिलती है और मौजूदा समय में 1355 मेगावाट ही बिजली मिल पा रही है. अगर कोई पावर प्लांट बंद हो जाता है तो फिर दिल्ली-एनसीआर में हालात खराब हो सकते हैं.


सत्येंद्र जैन के मुताबिक डिस्कॉम की ओर से दिल्ली सरकार को पावर प्लांट में कोयले के स्टॉक की कमी के बारे में लगातार जानकारी दी जा रही है, जैन ने केंद्रीय मंत्री को बताया कि बढ़ती गर्मी के साथ बिजली की डिमांड बढ़ रही है और तुरंत जरूरी कदम उठाए जाने की जरूरत है, नहीं तो देश की राजधानी दिल्ली अंधेरे में डूब जाने को मजबूर हो जाएगी. 


-



सम्बंधित खबरें



खबरें स्लाइड्स में


खबरें ज़रा हट के