aapkikhabar aapkikhabar

धोखा देना या झूठ बोलना पड़े तो जूता मारकर राजनीति छोड़ दूंगा



 धोखा देना या झूठ बोलना पड़े तो जूता मारकर राजनीति छोड़ दूंगा

वरुण गांधी

डेस्क -सुल्तानपुर से भाजपा सांसद वरुण गांधी ने जनसभा को सम्बोधित करते हुए देश की वर्तमान राजनीति पर अफसोस जाहिर किया। उन्होंने कहा कि मुझे राजनीति में उसूल निभाना आता है। मैं राजनीति में देश का मान बढ़ाने के लिए हूं। मैं पूरे देश में जिले का नाम रोशन करना चाहता हूं। उन्होंने कहा कि जिस दिन मुझे लगेगा कि मुझे झूठ बोलकर या धोखा देकर राजनीति करनी है उस दिन मैं जूता मार कर राजनीति छोड़ दूंगा। वो अलीगंज चौपाल में जनता को सम्बोधित कर रहे थे।


वरुण गांधी अपने भाषण के दौरान कई बार भावुक हुए और कहा कि मेरा जीवन मेरी मां से है। पर, कुछ लोगों के जीवन में मिलावट और झूठ है, जिससे मुझे सख्त नफरत है। उन्होंने देश के विकास में गांवों का जिक्र करते हुए कहा कि देश की दशा व दिशा तय करने में गांवों का खास योगदान है। गांवों में ही हमें ज्यादा प्यार मिलता है। इसलिए जरूरी है कि हम लोगों में प्यार बांटें।


वरुण गांधी सुल्तानपुर के दो दिवसीय दौरे पर हैं। उन्होंने गणेशगंज शिव मंदिर बहमापुर विनायकपुर राजापुर में आयोजित ग्राम चौपालों को भी संबोधित किया और कहा कि मैं आपसे वोट मांगने के लिए नहीं आया हूं बल्कि रिश्ता मजबूत करने आया हूं। उन्होंने पं. दीन दयाल उपाध्याय, राष्ट्रपिता महात्मा गांधी एवं विनोबा भावे को अपनी प्रेरणा बताया और कहा कि हमें समाज के अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्ति के जीवन को खुशहाल बनाना है।
'मेरी राजनीति का लक्ष्य अगली पीढ़ी को खड़ा करना है'
सांसद ने कहा कि राजनीति में गैर बराबरी की कोई जगह नहीं है। मैं चाहता हूं कि हमारे बच्चों एवं आम लोगों के बच्चों में बराबरी हो। सभी के बच्चों का शिक्षा का स्तर भी बराबर हो। मेरी राजनीति का लक्ष्य अगली पीढ़ी को खड़ा करना है। मैंने अपना वेतन नहीं लेने का वादा किया था। अपने वेतन से गरीबों का घर बनवाया, रिक्शा, ठेला व महिलाओं को सिलाई मशीन देकर लोगों को आत्मनिर्भर बनाने का प्रयास किया है। वरुण ने स्वच्छता का संदेश देते हुए लोगों को पन्नी व प्लास्टिक के उपयोग से बचने की सलाह दी।


 


-



सम्बंधित खबरें



खबरें स्लाइड्स में


खबरें ज़रा हट के