aapkikhabar aapkikhabar

जानिए भगवान शिव का नाम त्रिपुरारी कैसे पड़ा



aapkikhabar
+3

डेस्क-पुराणों बहुत से असुर बताये गए जो बड़े शिव भक्त थे. रावण भी एक महान शिव भक्त था परंतु जब भगवान का भक्त ही अधर्म का कारण बन जाये तो भगवान को स्वयं अपने भक्तो का उद्धार करना पड़ता है. ऐसा ही तारक पुत्रो के साथ हुआ. सभी देवतागण ब्रह्मा और विष्णु को साथ में लेकर शिवजी की शरण में चले गए और शिवजी से तारकासुर के पुत्रों के विनाश के लिए प्राथना की |


उस समय शिवजी ने देवताओं से कहा जब तक वह तीन महान दैत्य मेरे भक्त है में उनका अहित नहीं करूँगा फिर भी वह तीनो मेरी भक्ति से बलवान होकर सृष्टि में अधर्म का फैलाव कर रहे है इसलिए तुम सब मिलकर ऐसा कुछ उपाय करो कि वह तीनों मेरी भक्ति से विमुख हो जाए।शिवजी की आज्ञा के अनुसार देवताओं का यह कार्य करने के लिए भगवान विष्णु ने एक सुंदर दिव्य स्वरूप धारण किया. वह मुनि वेश में तीनो नगरों में गए और वहां वेदों के विरुद्ध उपदेश किया |


AsianGames2018 पीवी सिंधू ने Japan की Yamaguchi को हारा कर फाइनल में प्रवेश किया


AsianGames2018 साइना नेहवाल सेमीफाइनल में हारी मिला Bronze medal



  • उन नगरों के असुरों को अपने वाणी से शिव भक्ति से दूर कर दिया |

  • उस वेद विरुद्ध उपदेश से प्रभावित होकर उन नगरों की स्त्रियों ने पतिव्रत धर्म छोड़ दिया |

  • जब वह तीनो नगर शिव भक्ति से विमुख हो गए तब पुनः देवता गण शिवजी की पास आये |

  • उन्हें उन तीन असुरों का उनके नगर के साथ नष्ट करने के लिए प्राथना की |

पिछली स्लाइड     अगली स्लाइड


सम्बंधित खबरें



खबरें स्लाइड्स में


खबरें ज़रा हट के