aapkikhabar aapkikhabar

Air pollution से कैसे करे अपना बचाव जाने



Air pollution से कैसे करे अपना बचाव जाने

Air pollution

खराब वेंटिलेशन से फेफड़ों में कई तरह की बीमारियां हो सकती हैं।


डेस्क-घर के अंदर Air pollution  दूसरा सबसे बड़ा हत्यारा है, जो भारत में हर साल लगभग 13 लाख मौतों का कारण बनता है। यह एक सीरिअस health प्रॉब्लम है|


भारत जैसे देश में, जहां घर के अंदर खाना पकाने से लेकर हानिकारक रसायनों और अन्य सामग्रियों की वजह से मकान के अंदर की हवा की गुणवत्ता भी खराब हो जाती है और यह बाहरी वायु प्रदूषण की तुलना में 10 गुना ज्यादा  नुकसान कर सकती है।


 Anemia की प्रॉब्लम को दूर करता है नाशपाती


क्यों होता है Air pollution 



  • लोग अपनी लाइफ का 90 प्रतिशत से ज्यादा हिस्सा मकानों के अंदर बिताते हैं।

  • 50 प्रतिशत से ज्यादा  कामकाजी वयस्क कार्यालयों या समान गैर-औद्योगिक वातावरण में काम करते हैं।

  • यह बड़े लेवल पर प्रदूषण के कारण इमारत से संबंधित बीमारियों का कारण बनता है।

  • कुछ अन्य कारकों में विषैले रसायनों, जैसे सफाई उत्पादों, अस्थिर कार्बनिक यौगिकों, धूल, एलर्जेंस, संक्रामक एजेंट, सुगंध, तंबाकू का धुआं, अत्यधिक

  • तापमान और आद्र्रता शामिल हैं। 

  • घर के अंदर प्रदूषण से आंखों, नाक और गले में जलन, सिरदर्द, चक्कर आना और थकान शामिल है।

  • इसके अलावा, यह लंबी अवधि में हृदय रोग और कैंसर का कारण बन सकता है।

  • इनडोर Air pollution की प्रॉब्लम साल्व करने में एक मुश्किल आ सकती है।

  • सौल्युशन यही है कि सभी खिड़कियों को खोला जाए और इनडोर प्रदूषकों से बचने की सलाह दी जाए।

  • प्रदूषित शहरों में यह मुश्किल है, क्योंकि बाहरी प्रदूषक घर में भी प्रवेश कर सकते हैं।


Breast cancer की प्रॉब्लम को कैसे रोका जा सकता है जाने


जाने कैसे करे Air pollution से बचाव



  • घरेलू सजावट में ज्यादा से ज्यादा पौधे शामिल करें और अपने घर में होने वाले प्रदूषण पर निगाह रखें।

  • अरेका पाम, मदर-इन-लॉज टंग और मनी प्लांट जैसे पौधे ताजा हवा का अच्छा स्रोत हो सकते हैं।

  • घर के अंदर धूम्रपान से बचें और सुनिश्चित करें कि जहरीली गैसों और पदार्थों को घर के अंदर सर्द-गर्म मौसम में न छोड़ा जाए।

  • रिसाव को ठीक करके और गर्मी व ठंड के दौरान अंदरूनी कमियों को दुरुस्त करने तथा उचित रखरखाव व मरम्मत से हवा की गुणवत्ता सुनिश्चित की जा सकती है।

  • आपके रेफ्रिजरेटर और ओवन जैसे उपकरण नियमित रखरखाव के बिना हानिकारक गैसों को उत्सर्जित कर सकते हैं। सुनिश्चित करें कि आप नियमित अंतराल पर उनकी सर्विस करवाते हैं।

  • नियमित रूप से डस्टिंग का अपना ही महत्व है। हर घर धूल और गंदगी को अंदर खींच सकता है।

  • जबकि आप नियमित रूप से अपने फर्श और सामान को साफ करते हैं, लेकिन घर के कई सारे कोने और फर्नीचर सेट के नीचे अक्सर सफाई

  • नहीं हो पाती है।

  • घर पर कीटनाशकों का उपयोग कम से कम करें।

  • इसके बजाय जैव-अनुकूल उत्पादों का उपयोग करें।

  • वायु में घुले जहरीले रसायनों की संख्या सीमित करने से घर के अंदर प्रदूषण को कम किया जा सकता है।


-



सम्बंधित खबरें



खबरें स्लाइड्स में


खबरें ज़रा हट के