aapkikhabar aapkikhabar

श्री कृष्ण जन्माष्टमी का मुहूर्त जानिए



aapkikhabar
+4

भारतीय भी इसे पूरी आस्था व उल्लास से मनाते हैं


डेस्क-जन्माष्टमी जिसके आगमन से पहले ही उसकी तैयारियां जोर शोर से आरंभ हो जाती है पूरे भारत वर्ष में जन्माष्टमी पर्व पूर्ण आस्था एवं श्रद्धा के साथ मनाया जाता है।श्री कृष्णजन्माष्टमी भगवान श्री कृष्ण का जनमोत्स्व है। योगेश्वर कृष्ण के भगवद गीता के उपदेश अनादि काल से जनमानस के लिए जीवन दर्शन प्रस्तुत करते रहे हैं।


जन्माष्टमी भारत में हीं नहीं बल्कि विदेशों में बसे भारतीय भी इसे पूरी आस्था व उल्लास से मनाते हैं। श्रीकृष्ण ने अपना अवतार भाद्रपद माह की कृष्ण पक्ष की अष्टमी को मध्यरात्रि को अत्याचारी कंस का विनाश करने के लिए मथुरा में लिया। चूंकि भगवान स्वयं इस दिन पृथ्वी पर अवतरित हुए थे अत: इस दिन को कृष्ण जन्माष्टमी के रूप में मनाते हैं। इसीलिए श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के मौके पर मथुरा नगरी भक्ति के रंगों से सराबोर हो उठती है।


AsiaCup में दिखेगा टीम इंडिया में यह नया चेहरा


AsiaCup2018 रोहित शर्मा AsiaCup के बने कप्तान और धवन की भी बढ़ी जिम्मेदारी



  • श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के पावन मौके पर भगवान कान्हा की मोहक छवि देखने के लिए दूर दूर से श्रद्धालु इस दिन मथुरा पहुंचते हैं।

  • श्रीकृष्ण जन्मोत्सव पर मथुरा कृष्णमय हो जात है। मंदिरों को खास तौर पर सजाया जाता है।

  • ज्न्माष्टमी में स्त्री-पुरुष बारह बजे तक व्रत रखते हैं। इस दिन मंदिरों में झांकियां सजाई जाती है |

  • भगवान कृष्ण को झूला झुलाया जाता है। और रासलीला का आयोजन होता है।


पौराणिक मान्यता
पौराणिक धर्म ग्रंथों के अनुसार भगवान विष्णु ने पृथ्वी को पापियों से मुक्त करने हेतु कृष्ण रुप में अवतार लिया, भाद्रपद माह की कृष्ण पक्ष की अष्टमी को मध्यरात्रि को रोहिणी नक्षत्र में देवकी और वासुदेव के पुत्ररूप में हुआ था। जन्माष्टमी को स्मार्त और वैष्णव संप्रदाय के लोग अपने अनुसार अलग-अलग ढंग से मनाते हैं. श्रीमद्भागवत को प्रमाण मानकर स्मार्त संप्रदाय के मानने वाले चंद्रोदय व्यापनी अष्टमी अर्थात रोहिणी नक्षत्र में जन्माष्टमी मनाते हैं तथा वैष्णव मानने वाले उदयकाल व्यापनी अष्टमी एवं उदयकाल रोहिणी नक्षत्र को जन्माष्टमी का त्यौहार मनाते हैं।


AsianGames2018 भारतीय मुक्केबाज अमित पंघल ने पुरुषों की 49 किलो में Gold medal जीते


AsianGames2018 ब्रिज में प्रणव बर्धन और शिबनाथ सरकार की जोड़ी ने भारत एक और Gold medal मिला


जन्माष्टमी का मुहूर्त
अष्टमी तिथि प्रारंभ - 2 सितंबर,को रात्रि 04:49 बजे से


अष्टमी तिथि समाप्त - 3 सितंबर, को शाम 07:21 बजे तक


रोहिणी नक्षत्र प्रारंभ - 2 सितंबर, को रात्रि 08:50 बजे से


रोहिणी नक्षत्र समाप्त - 3 सितंबर, को रात्रि 08:05 बजे तक


निशीथ काल पूजन - 2 सितंबर, को रात्रि 11:50 से 12:40 तक।


वृषभ लग्न 2 सितंबर को रात्रि 10:30 से 00:05 तक


 

पिछली स्लाइड     अगली स्लाइड


सम्बंधित खबरें



खबरें स्लाइड्स में


खबरें ज़रा हट के