aapkikhabar aapkikhabar

देवी मंदिर में एक युवक दी अपनी बलि



देवी मंदिर में एक युवक दी अपनी बलि

वीपी श्रीवास्तव एसपी

एसपी ने बताया कि लोगों ने उसे बलि देते हुए देखा साथ ही वहीं पर हथियार भी बरामद हुआ है।


बाराबंकी- हमने धर्म ग्रन्थों में पढ़ा है कि कभी रावण ने भगवान को प्रसन्न करने के लिए कई बार अपनी गर्दन काट कर भगवान शिव के चरणों में चढ़ा दिया था मगर आज यह अंधविस्वास की श्रेणी में आता है और उत्तर प्रदेश में अब भी अंधविश्वास लोगों के सिर चढ़ कर बोल रहा है।


21वीं सदी में भी तंत्र-मंत्र और बलि जैसे अंधविश्वास के काम बदस्तूर जारी हैं



  • इसका जीता-जागता सबूत उस समय सामने आया जब मंदिर में एक युवक ने खुद अपनी गर्दन काटकर बलि चढ़ा दी। युवक द्वारा खुद अपनी बलि देने का डरावना नजारा कुछ लोगों ने खुद अपनी आंखों से देखा।

  • जिसके बाद इलाके में समसनी फैल गई।

  • आपको जानकर हैरानी होगी कि आज 21वीं सदी में भी तंत्र-मंत्र और बलि जैसे अंधविश्वास के काम बदस्तूर जारी हैं। बीते दिनों बाराबंकी जिले के ही रामनगर थाना क्षेत्र से एक मामला सामने आया था।

  • जहां तांत्रिक के कहने पर 24 उंगलियों वाले लड़के की उसके ही रिश्तेदार बलि चढ़ाना चाहते थे।

  • हालांकि समय पर पुलिस की कार्रवाई से उसकी जान तो बचा ली गई लेकिन वहां से कुछ किलोमीटर की दूरी पर एक युवक ने खुद गर्दन काटकर अपनी बलि चढ़ा दी। ताजा मामला बाराबंकी जिले के कोटवाधाम का है।

  • जहां अनिरुद्ध यादव नाम के युवक ने अपनी बलि चढ़ा दी।

  • अनिरुद्ध यादव मंदिर पर अपनी गर्दन काट ली, जिसके बाद वहीं उसकी तड़प-तड़पकर मौत हो गई। अनिरुद्ध यादव दरियाबाद थाना क्षेत्र में उड़वा गांव का रहने वाला था।


मृतक के पिता ने बताया कि मृतक अनिरुद्ध यादव बीते एक साल से देवी मंदिर में पूजा करने के लिए आता था और एक साल तक उसने अनाज का एक दाना भी नही छुआ था अर्थात व्रत रहता था । उन्होंने बताया कि एक साल व्रत रहनेके बाद उसने गांव में भंडारा भी कराया था। पिता ने बताया कि आज वह मंदिर आया और अपनी गर्दन काट ली। गर्दन काटने के बाद जब वह तड़प-तड़पकर चिल्लाने लगा तो मेंदिर के बाबा और दूसरे लोगों ने उसे देखा। फिर वह लोग उसे उठाकर मंदिर के बाहर लाए।


पाकिस्तान से 1965 के युद्ध में शहीद हुए थे दादा, अब पुलिस की लापरवही के चलते पोते ने गंवाई जान, परिजनों में मचा कोहराम


ग्रामीणों का कहना है कि अनिरुद्ध यादव काफी आस्थावान व्यक्ति था और सुबह 4 बजे ही मन्दिर आकर मन्दिर का बाज़ा बजा कर आस्था में डूब जाता था और काफी देर तक पूजापाठ करता था । ग्रामीणों को शक तब हुआ जब आज बाज़ा रोज की तरह नही बजा । इसको देखने जब ग्रामीण इकट्ठा हुए तो अनिरुद्ध के धड़ से गर्दन कटी हुई थी । यह सब नज़ारा देख कर पूरे गाँव में कोहराम मच गया ।



  • वहीं इस मामले में बाराबंकी के पुलिस अधीक्षक वीपी श्रीवास्तव ने बताया कि सुबह जानकारी मिली की 18-19 साल के अनिरुद्ध यादव नाम के एक लड़के ने अपनी गर्दन काटकर मंदिर में बलि दे दी।

  • लड़का बीए की पढ़ाई कर रहा था।

  • जानकारी के मुताबिक लड़का रोज मंदिर में पूजा करने के लिए जाया करता था।

  • एसपी ने बताया कि लोगों ने उसे बलि देते हुए देखा साथ ही वहीं पर हथियार भी बरामद हुआ है।

  • वीपी श्रीवास्तव के मुताबिक गांव वाले लड़के के पोस्टमार्टम के लिए तैयार नहीं हैं। इसलिए मैंने एडिश्नल एसपी को मौके पर भेजा है।

  • जिससे वह पोस्टमार्टम के लिए तैयार हो जाएं।

  • उन्होंने बताया कि अगर गांव वाले नहीं मानेंगे तो शव का पंचनामा करवाकर आगे की कार्रवाई की जाएगी।


नए antibiotic तकनीक की हुई खोज,patients को मिलेगा आराम


-



सम्बंधित खबरें



खबरें स्लाइड्स में


खबरें ज़रा हट के