aapkikhabar aapkikhabar

नहाने गये 3 कावरियों बच्चों की कुवांनो नदी में डूबने से मौत



नहाने गये 3 कावरियों बच्चों की कुवांनो नदी में डूबने से मौत

aapkikhabar.com

गोण्डा - बलरामपुर जिले के बार्डर पर स्थित गुमड़ी पुल का है मामला


गोंडा । नहाने गये 3 कावरियों (बच्चों) की कुवांनो नदी में डूबने से बुधवार को दर्दनाक मौत हो गई। इनमे 3 गोण्डा जिले के व एक बलरामपुर जिले का बताया जाता है।


सूचना पर पहुंची दोनों जिले के पुलिस टीम ने संयुक्त रूप से प्रयास कर आसपास के लोगो की मदद से नदी से इनको निकालकर अस्पताल भेजवाया जहाँपर चिकित्सक ने तीनों कावरियों को मृत्यु घोषित कर दिया। इनके मौत से चारो तरफ कोहराम मच गया।
बताते चले की गोण्डा बलरामपुर जिले के बार्डर पर स्थित गुमड़ी पुल के नीचे से होकर बलरामपुर जिले से निकलने वाली कुवांनो नदी बहती है। बुधवार को कजली तीज के मौकेपर हर साल दोनों जिलों के बार्डर क्षेत्र के श्रद्धालु इस नदी में स्नानकर अपनी मन्नत के अनुसार अलग- अलग शिवालयों में जलाभिषेक करने जाते हैं।


Ganesh Chaturthi 2018 पर चांद देखना माना जाता है अशुभ



  • बुधवार को कजलीतीज के मौकेपर आसपास के सैकड़ो कावंरिये गुमड़ी स्थित इस कुवांनो नदी में स्नान कर रहे थे।

  • इसी बीच नहाते समय गहरे पानी में यह तीनो चले गये जहां अचानक डूबने लगे।

  • जबतक इनको निकालने का प्रयास किया गया तबतक इनकी मौत हो चुकी थी।

  • मौकेपर मौजूद उतरौला पुलिस ने आसपास लोगों की मदद से डूब गये कावंरियों को बाहर निकाला तबतक बहुत देर हो चुकी थी।

  • हालांकि इन्हे आनन फानन में अस्पताल ले जाया गया जहाँपर चिकिसको ने इन्हें मृत घोषित कर दिया।


शिवपाल के समाजवादी सेकुलर मोर्चा के प्रवक्ताओं की लिस्ट जारी



बताया जाता है की मृतकों में गोण्डा जिले के धानेपुर थाना क्षेत्र के हिमांशु 15 वर्ष और शेखर 14 वर्ष निवासीगण कस्बा बाबागंज, विकास उम्र 14 वर्ष निवासी रेतवागाड़ा है। उधर मामले की सूचना पाकर डायल 100 और स्थानीय थाने की पुलिस ने पहुंचकर सहयोग किया। इस घटना से सम्पूर्ण क्षेत्र में कोहराम मचा हुुुआ है। बतादे की सभी मृत कावरिये थाना धानेपुर क्षेत्र अन्तर्गत आते है। वहीं स्थानीय लोगों का आरोप है कि प्रशासन द्वारा जानकारी होते हुए भी उस नदी पर किसी प्रकार की कोई व्यवस्था नहीं की गई थी जिससे इतना बड़ा हादसा हो गया ।
इस संबंध में थानाध्यक्ष धानेपुर अतुल चतुर्वेदी ने दूसरे जनपद का क्षेत्र बताते हुए व्यवस्था के नाम पर पल्ला झाड़ लिया ।


 


 



-



सम्बंधित खबरें



खबरें स्लाइड्स में


खबरें ज़रा हट के