aapkikhabar aapkikhabar

राज्य सरकारों के पास किसानों के संबंध में ईमानदार और पारदर्शी प्रशासनिक तंत्र नहीं



राज्य सरकारों के पास किसानों के  संबंध में ईमानदार और पारदर्शी प्रशासनिक तंत्र नहीं

सरकार की कृषि नीति

एनडीए की नयी कृषि समर्थन मूल्य योजना सकारात्मक परिणाम देने में असफल होगी : लोक गठबंधन पार्टी

नई दिल्ली- लोक गठबंधन पार्टी (एलजीपी) ने  कहा कि एनडीए सरकार कृषि बाजार में हस्तक्षेप के लिए तैयार की गई ताजा योजना जो किसानों को उनके उत्पादन के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) सुनिश्चित कर सके, जो कि उत्पादन की लागत से दोगुनी है, की सफलता की कोई संभावना नहीं है क्योंकि सकारात्मक नतीजे पैदा करने के लिए राज्य सरकारों के पास इस संबंध में ईमानदार और पारदर्शी प्रशासनिक तंत्र नहीं है।


एलजीपी ने कहा कि निजी संस्थाओं के द्वारा अधिक कृषि उत्पादों की खरीद के माध्यम से बाज़ार में हस्तक्षेप के लिए केंद्रीय मंत्रिमंडल के फैसले से किसानों की समस्या को हल करने में कोई मदद नहीं मिलेगी। एलजीपी ने कहा कि कृषि बाजारों में मध्यस्थ लोगों की भूमिका ने किसानों के हित को काफी नुकसान पहुंचाया है।

पार्टी के प्रवक्ता ने शुक्रवार को कहा कि संकुचित दृष्टिकोण कृषि समुदाय की किसी भी समस्या का समाधान नहीं कर सकता । प्रवक्ता ने कहा कि सभी सरकारें किसानों की समस्याओं के बारे में कभी गंभीर नहीं रही हैं और अब केंद्रीय कैबिनेट की नयी योजना भी दिशाहीन है। प्रवक्ता ने कहा,
पीएम के खाद्य उत्पादकों की आय सुरक्षा अभियान , राजनीतिक रूप से एमपी, राजस्थान, छत्तीसगढ़ और 201 9 के लोकसभा चुनावों में आगामी विधानसभा चुनावों को जीतने मात्र के उद्देश्य से प्रेरित है। प्रवक्ता ने आगे कहा कि एशिया में सबसे खराब प्रदर्शन करने वाली मुद्रा के रूप में रूपये के उभरने के साथ एनडीए सरकार अब शनिवार को देश में आर्थिक संकट पर चर्चा करने के लिए मजबूर हो गई है।

प्रवक्ता ने कहा कि एलजीपी कृषि क्षेत्र संकट से निपटने के लिए बहुपक्षीय रणनीति में विश्वास रखता है क्योंकि एमएसपी को दोगुना मात्र कर देने से समस्या हल नहीं होगी । यह बताते हुए कि लगातार सरकारों ने अभी तक टोकनवाद का सहारा लिया है, प्रवक्ता ने कहा कि दिशाहीन नीति ने कृषि के संकट को और भी खराब कर दिया है। प्रवक्ता ने कहा कि एलजीपी लंबे समय से कृषि क्षेत्र में समेकित सुधार की मांग कर रहा है जिसमें बीज,उर्वरक, भूमि को अपग्रेड करने के लिए कार्यक्रम, कृषि उत्पादन की बिक्री में बिचौलियों को खत्म करने और लागत इनपुट के अनुसार किसानों को कृषि उपज का दाम देना  शामिल है ।प्रवक्ता ने कहा कि एलजीपी ग्रामीण क्षेत्रों में कौशल विकास की माँग करता है ताकि युवा शहरी क्षेत्रों को पलायन किए बिना अपनी आय बढ़ाने के लिए गैर-कृषि क्षेत्र में शामिल हो सकें। प्रवक्ता ने कहा कि कृषि क्षेत्र को औद्योगिक क्षेत्र के बराबर रखा जाना चाहिए और स्थिति में सुधार के लिए सभी समान सुविधाएं दी जानी चाहिए।


 


-



सम्बंधित खबरें



खबरें स्लाइड्स में


खबरें ज़रा हट के