aapkikhabar aapkikhabar

छत्तीसगढ़ : PM मोदी ने कहा हम 2022 तक हर सिर पर छत होगी



छत्तीसगढ़ : PM मोदी ने कहा हम 2022 तक हर सिर पर छत होगी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

छत्तीसगढ़-जनजगीर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि अटल जी ने उत्तराखंड, झारखंड और छत्तीसगढ़ में 3 राज्य बनाए। यह विकास की उनकी दृष्टि के कारण है कि ये सभी राज्य तेजी से प्रगति कर रहे हैं |


घरों को पहले पाने के लिए केवल कुछ चुनिंदा लोगों का इस्तेमाल क्यों किया जाता था गरीबों को घरों का अधिकार रखने का अधिकार नहीं है? भ्रष्टाचार ने शासन प्रणाली को बर्बाद कर दिया था। हम सभी के लिए विकास के लिए प्रतिबद्ध हैं। हम 2022 तक हर सिर पर छत सुनिश्चित करना चाहते हैं |






प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तालचर उर्वरक संयंत्र  का उद्घाटनकिया | वह  आपने पिछली रैलियों के सभी रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं। यह विशाल भीड़ उड़ीसा के लोगों की भावनाओं को चित्रित करती है |


पीएम मोदी ने कहा यह उर्वरक प्लांट तलचर के किसानों के लिए वरदान होगा। मुझे ओडिशा की धरती पर आने का सौभाग्य मिला। तलचर उर्वरक संयत्र विकास की नई कहानी लिखेगा। हमारा लक्ष्य भारत को विकास की नई ऊंचाइयों पर ले जाना है। यहां उर्वरक संयंत्र जैसी परियोजनाएं भारत की विकास कहानी के केंद्र हैं। यह संयंत्र नवीनतम तकनीक का भी उपयोग करेगा।






प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज दौरे पर है और इस ओडिशा पहुंच गए हैं। जंहा पर ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने तलचर में प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी का स्वागत किया ओडिशा पहुचे के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आंगनवाडी कार्यकर्ताओं से मुलाकात की |


इसके बाद वह छत्तीसगढ़ का दौरा करेंगे और कई परियोजनाओं का शुभारंभ करेंगे। पीएमओ की ओर से जारी बयान में बताया गया कि मोदी ओडिशा में तलचर उर्वरक संयंत्र के पुनरुद्धार कार्य के शुरू होने के मौके पर एक पट्टिका का अनावरण करेंगे।


यह कोयला गैस से चलने वाला भारत का पहला उर्वरक संयंत्र होगा। खाद बनाने के अलावा यह संयंत्र प्राकृतिक गैस का उत्पादन भी करेगा जो देश की ऊर्जा जरूरतों को पूरा करने में योगदान देगा।इसके बाद मोदी एक हवाईअड्डे का उद्घाटन करने झारसुगुड़ा जाएंगे। बयान में कहा गया कि प्रधानमंत्री गर्जनबहल कोयला खदानों और झारसुगुड़ा-बारापली-सरदेगा रेल संपर्क को राष्ट्र को समर्पित करेंगे।






-



सम्बंधित खबरें



खबरें स्लाइड्स में


खबरें ज़रा हट के