aapkikhabar aapkikhabar

नेत्रहीनों के जीवन में सूरज की रोशनी बनकर उजाला करेगी नेत्रदानी शंकर लाठ की आंखे



नेत्रहीनों के जीवन में सूरज की रोशनी बनकर उजाला करेगी नेत्रदानी शंकर लाठ की आंखे

शंकर लाल

सीतापुर - जिनकी आंखे नहीं होती, उन्हें कुछ नजर भले नहीं आता, पर ख्वाब वो भी देखते हैं। यह जानते हुए कि उनका ख्वाब हकीकत में बदले। यह बहुत कठिन कार्य है, फिर भी वह सूरज की रोशनी, सावन की हरियाली और अपनो की सूरत देखने का ख्वाब देखते हैं।


सीतापुर की सक्षम संस्था ने उनके सपनों को सच करने का बीड़ा उठाया। कठिन डगर पर भी धीरे-धीरे लगातार मेहनत के बाद सीतापुर के लोग नेत्रदान के प्रति जागरूक हुए। अब तो शहर में लगातार नेत्रदान हो रहा है, जिसमें एक नेत्रदानी शंकर लाठ का नाम भी जुड़ गया।
सक्षम संस्था के मीडिया प्रभारी विकास अग्रवाल ने बताया |


शंकर लाल लाठ उम्र 75 वर्ष का निधन कल शाम 6 बजे हो गया था
कि स्टेशन रोड़ निवासी शंकर लाल लाठ उम्र 75 वर्ष का निधन कल शाम 6 बजे हो गया था। उनके पुत्र अंजनी लाठ व मनीष लाठ ने सक्षम संस्था को फोन कर नेत्रदान करवाने हेतु कहा। संस्था के सुभाष चन्द्र अग्निहोत्री, संदीप भरतिया, मुकेश अग्रवाल व अक्षत अग्रवाल ने आंख अस्पताल सीतापुर जाकर डाक्टरों की टीम का गठन करवाया



  • डाक्टरों की कुशल टीम ने रात 10 बजे स्व0 लाठ की दोनों कार्निया सुरक्षित कर ली।

  • जो दो लोगों के जीवन में सूरज की रोशनी बनकर उजाला करेगी।

  • अध्यक्ष संदीप भरतिया ने बताया कि नेत्रदानी के परिवार ने बहुत ही दुखद घड़ी में भी परोपकार की भावना से दो लोगों के जीवन में खुशियां भर दी।

  • महामंत्री मुकेश अग्रवाल ने कहा कि सीतापुर के लोग ही नहीं, अपितु पूरे जनपद से व आस-पास के जिलों से भी संस्था नेत्रदान करवा रही है।

  • अक्षत अग्रवाल ने बताया कि यह 173वां नेत्रदान हुआ है।


-



सम्बंधित खबरें



खबरें स्लाइड्स में


खबरें ज़रा हट के