aapkikhabar aapkikhabar

Politics में भी #MeeToo अभियान कि जरुरत



Politics में भी #MeeToo अभियान कि जरुरत

अब पॉलिटिक्स में भी #MeeToo

राजनीति में भी #MeToo अभियान की सख़्त ज़रूरत -लोक गठबंधन पार्टी 

नई दिल्ली, 10 अक्टूबर: #MeToo अभियान के तहत विभिन्न जगहों पर महिलाओं द्वारा हो रहे शोषण के ख़िलाफ़ भारत में किए जा रहे ख़ुलासों ने मनोरंजन और मीडिया उद्योगों को हिला कर रख दिया हैं |


वहीं महिलाओं की इज़्ज़त से खिलवाड़ करने वाले ऐसे“शिकारियों" के कारण मौजूदा स्थिति नागरिक समाज के लिए चिंता का विषय बन गई है। लोक गठबंधन पार्टी (एलजीपी) ने आज कहा कि आज के हालात में जो महिलाएं राजनीति में भी इस तरह के शोषण की शिकार हुई हों तो उन्हें भी अब इस मुद्दे पर राजनीति के अंदर ऐसे भेड़िए के खिलाफ ज़ोरदार ढंग से आवाज़ उठनी चाहिए क्योंकि इस क्षेत्र में भी महिलाओं के शोषण की तमाम कहानी समय समय पर सामने आती रही हैं ।


एलजीपी ने कहा कि यौन शोषण सहित सभी प्रकार के भ्रष्टाचार से राजनीति में सफाई प्रक्रिया ईमानदार, पारदर्शी और सुशासन के लिए जरूरी है।


पार्टी के प्रवक्ता ने यहां बुधवार को राजनीति में इस गंभीर आयाम को समझने की ज़रूरत बताते हुए कहा कि महिला राजनेता पुरुष वर्चस्व वाली भारतीय राजनीति में शोषण का आसान लक्ष्य बन गए हैं और इसी कारण से महिलाएं इसमें शामिल होने के लिए अनिच्छुक हैं। राजनीति में महिलाओं के अति खराब प्रतिनिधित्व के लिए प्रमुख कारण राजनीति में महिलाएं के साथ होने वाले यौन दुर्व्यवहार को बताते हुए प्रवक्ता ने कहा कि राजनीति में हर स्तर पर शोषण के लिए दलालों की एक बड़ी श्रृंखला है जो राजनीतिक मालिकों को खुश करने के लिए इस प्रकार की घृणास्पद गतिविधियों में शामिल रहते है।


प्रवक्ता ने कहा कि चूंकि # MeToo  भारत में सिर्फ क्षणिक नहीं बल्कि आंदोलन में बदल रहा है, और अब तो इसकी चाप एनडीए सरकार के दरवाजे पर भी पहुंच चुकी है। हालांकि कई और बड़े नाम इस बारे में बाहर आने बाक़ी हैं , प्रवक्ता ने कहा कि लोक गठबंधन पार्टी इस अभियान का जोरदार समर्थन करती है और आशा करती है कि शोषण की शिकार महिलाएँ आगे आकर ऐसे सफ़ेद पोश नेताओं को बेनक़ाब करेंगी । प्रवक्ता ने कहा कि राजनेता महिलाओं की "गरिमा और सम्मान" के बारे में बात तो ज़रूर करते हैं लेकिन जमीन की वास्तविकताएँ बिल्कुल अलग हैं। दशकों से राजनीति में महिलाओं को उत्पीड़न का शिकार होना पड़ा है इस लिए प्रवक्ता ने कहा कि सिस्टम में नैतिक मूल्यों की बहाली और शोषण की समाप्ति करने का समय अब आया है।


यह इंगित करते हुए कि यह बुराई केवल मनोरंजन और मीडिया उद्योगों तक ही सीमित नहीं है, प्रवक्ता ने कहा कि इसमें ऑक्टोपस की तरह अपनी पकड़ जीवन के हर पहलू पर बना ली है इसलिए यह समाज को इस सड़ांध से मुक्त करने के लिए यह सबसे सही क्षण है। प्रवक्ता ने कहा कि # Me too तूफान आने वाले दिनों में उम्मीद है कि और आगे बढ़ेगा। एलजीपी का मानना है कि भ्रष्टाचार मुक्त शासन के लिए यह आवश्यक है। 


                                                                                                                                                                                                                                                     


-



सम्बंधित खबरें



खबरें स्लाइड्स में


खबरें ज़रा हट के