aapkikhabar aapkikhabar

शनैश्चरी अमावस्या विशेष जानिए



aapkikhabar
+3

डेस्क-शनि अमावस्या के दिन श्री शनिदेव की आराधना करने से समस्त मनोकामनाएं पूर्ण होंती हैं। इस वर्ष 5 जनवरी 2019 को शनिवार के दिन शनैश्चरी अमावस्या का योग बन रहा है |


यह पितृकार्येषु अमावस्या के रुप में भी जानी जाती है. कालसर्प योग, ढैय्या तथा साढ़ेसाती सहित शनि संबंधी अनेक बाधाओं से मुक्ति पाने का यह दुर्लभ समय होता है जब शनिवार के दिन अमावस्या का समय हो जिस कारण इसे शनि अमावस्या कहा जाता है।


इसे भी पढ़े -INDvsAUS Team India ने Australia को 203 रनों पर लिए 6 विकेट


इसे भी पढ़े -बसपा और सपा दोनों पार्टियां 37-37 सीटों पर किया बंटवारा



  • श्री शनिदेव भाग्यविधाता हैं, यदि निश्छल भाव से शनिदेव का नाम लिया जाये तो व्यक्ति के सभी कष्ट दूर हो जाते हैं।

  • श्री शनिदेव तो इस चराचर जगत में कर्मफल दाता हैं

  • जो व्यक्ति के कर्म के आधार पर उसके भाग्य का फैसला करते हैं।

  • इस दिन शनिदेव का पूजन सफलता प्राप्त करने एवं दुष्परिणामों से छुटकारा पाने हेतु बहुत उत्तम होता है।

  • इस दिन शनि देव का पूजन सभी मनोकामनाएं पूरी करता है।


शनिश्चरी अमावस्या पर शनिदेव का विधिवत पूजन कर सभी लोग पर्याप्त लाभ उठा सकते हैं। इस दिन विशेष अनुष्ठान द्वारा पितृदोष और कालसर्प दोषों से मुक्ति पाई जा सकती है. इसके अलावा शनि का पूजन और तैलाभिषेक कर शनि की साढेसाती, ढैय्या और महादशा जनित संकट और आपदाओं से भी मुक्ति पाई जा सकती है |

पिछली स्लाइड     अगली स्लाइड


सम्बंधित खबरें



खबरें स्लाइड्स में


खबरें ज़रा हट के