aapkikhabar aapkikhabar

जानिए कौन से ग्रह बनाते हैं नौकरी का योग



जानिए कौन से ग्रह बनाते हैं नौकरी का योग

नौकरी का योग

ज्योतिष से भविष्य संवारा जा सकता है, यह कोई अतिशयोक्ति नहीं वरन सत्य है।


हिन्दू डेस्क- नौकरी करवाना और नौकरी करना दो अलग अलग बातें है। जन्म कुन्डली में अगर शनि नीच का है तो नौकरी करवायेगा,और शनि अगर उच्च का है तो नौकरों से काम करवायेगा। तुला का शनि उच्च का होता है और मेष का शनि नीच का होता है। मेष राशि से जैसे जैसे शनि तुला राशि की तरफ़ बढता जाता है उच्चता की ओर अग्रसर होता जाता है,और तुला राशि से शनि जैसे जैसे आगे जाता है नीच की तरफ़ बढता जाता है,अपनी अपनी कुन्डली में देख कर पता किया जा सकता है कि शनि की स्थिति कहां पर है। और जिस स्थान पर शनि होता है उस स्थान के साथ शनि अपने से तीसरे स्थान पर,सातवें स्थान पर और दसवें स्थान पर अपना पूरा असर देता है। इसके साथ ही शनि पर राहु केतु मन्गल अगर असर दे रहे है तो शनि के अन्दर इन ग्रहों का भी असर शुरु हो जाता है,मतलब जैसे शनि नौकरी का मालिक है,और शनि वृष राशि का है,वृषभ राशि धन की राशि है और भौतिक सामान की राशि है,वृष राशि से अपनी खुद की पारिवारिक स्थिति का पता किया जाता है।


जानिए नोकरी लगने के कुछ अन्य प्रमुख योग



पण्डित दयानन्द शास्त्री के अनुसार ज्योतिष शास्त्र में सूर्य तथा चंद्र को राजा या प्रशासन से सम्बंध रखने वाले ग्रह के रूप में जाना जाता है। सूर्य या चंद्र का लग्न, धन, चतुर्थ तथा कर्म से सम्बंध या इनके मालिक के साथ सम्बंध सरकारी नौकरी की स्थिति दर्शाता है। सूर्य का प्रभाव चंद्र की अपेक्षा अधिक होता है। जन्म कुंडली में सूर्य तथा चंद्र की विभिन्न स्थिति इस प्रकार फलदायी होती है-



  • लग्न पर बैठे किसी ग्रह का प्रभाव व्यक्ति के जीवन में सबसे अधिक प्रभाव रखने वाला माना जाता है। लग्न पर यदि सूर्य या चंद्र स्थित हो तो व्यक्ति शाषण से जुडता है और अत्यधिक नाम कमाने वाला होता है।

  • चंद्र का दशम भाव पर दृष्टी या दशमेश के साथ युति सरकारी क्षेत्र में सफलता दर्शाता है। यधपि चंद्र चंचल तथा अस्थिर ग्रह है जिस कारण जातक को नौकरी मिलने में थोडी परेशानी आती है। ऐसे जातक नौकरी मिलने के बाद स्थान परिवर्तन या बदलाव के दौर से बार बार गुजरते है।

  • जब कुंडली में सूर्य या चन्द्रमा में से कोई एक मजबूत हो

  • जब कुंडली में पञ्च महापुरुष योग में से एक या ज्यादा योग हों

  • जब शनि की स्थिति मजबूत हो और शनि की साधे साती या ढैया चल रही हो

  • सूर्य धन स्थान पर स्थित हो तथा दशमेश को देखे तो व्यक्ति को सरकारी क्षेत्र में नौकरी मिलने के योग बनते है।

  • ऐसे जातक खुफिया ऐजेंसी या गुप चुप तरीके से कार्य करने वाले होते है।


सूर्य तथा चंद्र की स्थिति दशमांश कुंडली के लग्न या दशम स्थान पर होने से व्यक्ति राज कार्यो में व्यस्त रहता है ऐसे जातको को बडा औहदा प्राप्त होता है।
यदि ग्रह अत्यधिक बली हो तब भी वें अपने क्षेत्र से सम्बन्धित सरकारी नौकरी दे सकते है। मंगल सैनिक, या उच्च अधिकारी, बुध बैंक या इंश्योरेंस, गुरु- शिक्षा सम्बंधी, शुक्र फाइनेंश सम्बंधी तो शनि अनेक विभागो में जोडने वाला प्रभाव रखता है। पैसा कमाने की इच्‍छा रखने वाले लोग करें इनका पूजन


यदि लग्न में शुभ ग्रहों की स्थिति और लग्न का स्वामी एक शुभ भाव में स्थापित हो तो वह अपनी दशा में जातक को उच्च पद तक पंहुचा सकता है, परन्तु शर्त यह है की उस गृह की दशा आपकी मध्यम उम्र में आनी चाहिए, यदि ये दशा आपके बुढ़ापे में आयगी को ज्यादा फायदा नहीं दे पायगी। जन्म कुंडली का पहला, दूसरा, चौथा, सातवा, नौवा, दसवा, ग्यारहवा घर तथा इन घरों के स्वामी अपने कार्य काल में जातक को कामयाबी प्रदान करते है ।


कुछ ज्योतिषी छटवे भाव या इसके स्वामी को स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं मानते और यह बात सत्य भी है परन्तु और भी कई परिस्थियों के आधार पर ही हम ऐसा कह सकते है अन्यथा छठा भाव तथा इसका स्वामी गृह अपनी दशा में आपको एक उच्च पद का अधिकारी बना सकता है क्योकि छठा भाव और इसका स्वामी जातक के नौकरी पेशा से सम्बन्ध रखता है।


दसवा और ग्यारहवा भाव तथा इनके स्वामी ग्रहों का भी जातक की तरक्की से गहरा सम्बन्ध होता है क्योकि दसवा भाव हमारे रोजगार से और ग्यारहवा भाव हमारी आय से सम्बन्ध रखता है । अब यदि इन भावो में शुभ ग्रहों की स्थिति और इन भावो के स्वामी शुभ स्थिति में हो और इन ग्रहों की दशा आपकी मध्यम उम्र में आ जाये तो आप एक बेहतरीन जीवन शैली, नौकरी और उच्च पद के अधिकारी बन सकते है और एक अच्छी आय कमा सकते है ।


सूर्य चंद्र का चतुर्थ प्रभाव जातक को सरकारी क्षेत्र में नौकरी प्रदान करता है। इस स्थान पर बैठे ग्रह सप्तम दृष्टि से कर्म स्थान को देखते है।


हाथ में सूर्य की दोहरी रेखा हो


हाथ में बृहस्पति के पर्वत पर क्रास हो



सूर्य यदि दशम भाव में स्थित हो तो व्यक्ति को सरकारी कार्यो से अवश्य लाभ मिलता है। दशम स्थान कार्य का स्थान हैं। इस स्थान पर सूर्य का स्थित होना व्यक्ति को सरकारी क्षेत्रो में अवश्य लेकर जाता है। सूर्य दशम स्थान का कारक होता है जिस कारण इस भाव के फल मिलने के प्रबल संकेत मिलते है।


जानिए उन कारणों को जिनके कारण आपको नोकरी का बुलाया नही आता हें


आपके पास बार बार नौकरी के बुलावे आते है और आप नौकरी के लिये चुने नहीं जाते है,तो इसमे इन कारणों का विचार आपको करना पडेगा



  • यह कि नौकरी की काबलियत आपके अन्दर है,अगर नहीं होती तो आपको बुलाया नहीं जाता।

  • यह कि नौकरी के लिये परीक्षा देने की योग्यता आपके अन्दर है,अगर नहीं होती तो आप सम्बन्धित नौकरी के लिये पास की जाने वाली परीक्षायें ही उत्तीर्ण नहीं कर पाते।

  • नौकरी के लिये तीन बातें बहुत जरूरी है,पहली वाणी,दूसरी खोजी नजर,और तीसरी जो नौकरी के बारे में इन्टरव्यू आदि ले रहा है उसकी मुखाकृति और हाव भाव से उसके द्वारा प्रकट किये जाने वाले विचारों को उसके पूंछने से पहले समझ जाना,और जब वह पूंछे तो उसके पूंछने के तुरत बाद ही उसका उत्तर दे दे।

  • वाणी के लिये बुध,खोजी नजर के लिये मन्गल और बात करने से पहले ही समझने के लिये चन्द्रमा।

  • नौकरी से मिलने वाले लाभ का घर चौथा भाव है,इस भाव के कारकों को समझना भी जरूरी है,चौथे भाव में अगर कोई खराब ग्रह है और नौकरी के भाव के मालिक का दुश्मन ग्रह है तो

  • वह चाह कर भी नौकरी नहीं करने देगा,इसके लिये उसे चौथे भाव से हटाने की क्रिया पहले से ही करनी चाहिये।


अगर जातक का मंगल चौथे भाव मे है और नौकरी के भाव का मालिक बुध है तो मन्गल के लिये शहद चार दिन लगातार बहते पानी में बहाना है,और अगर शनि चौथे भाव में है, और नौकरी के भाव का मालिक सूर्य है तो चार नारियल लगातार पानी मे बहाने होते है,इसी प्रकार से अन्य ग्रहों का उपाय किया जाता है।
जब कुण्डली में बृहस्पति की स्थिति काफी ज्यादा मजबूत हो


जब कुंडली में ग्रहण योग या गुरु गुरु चांडाल योग हो


जब कुंडली में शनि का सम्बन्ध धन स्थान से हो


ग्रह क्या नौकरी करवाने के लिये मजबूर करता है
शनि कर्म का दाता है,और केतु कर्म को करवाने के लिये आदेश देता है,लेकिन बिना गुरु के केतु आदेश भी नही दे सकता है,गुरु भी तभी आदेश दे सकता है जब उसके पास सूर्य का बल है,और सूर्य का बल भी तभी काम करता है जब मंगल की शक्ति और उसके द्वारा की जाने वाली सुरक्षा उसके पास है,सुरक्षा को भी दिमाग से किया जाता है,अगर सही रूप से किसी सुरक्षा को नियोजित नही किया गया है तो कहीं से भी नुकसान हो सकता है,इसके लिये बुध का सहारा लेना पडता है,बुध भी तभी काम करता है जब शुक्र का दिखावा उसके पास होता है,बिना दिखावा के कुछ भी बेकार है,दिखावा भी नियोजित होना जरूरी है,बिना नियोजन के दिखावा भी बेकार है,जैसे कि जंगल के अन्दर बहुत बढिया महल बना दिया जाये तो कुछ ही लोग जानेंगे,उसमे बुध का प्रयोग करने के बाद मीडिया में जोड दिया जाये तो महल को देखने के लिये कितने ही लोग लालियत हो जावेंगे,अगर वहां पर मंगल का प्रयोग नही किया है तो लोग जायेंगे और बिना सुरक्षा के देखने के लिये जाने वाले लोग असुरक्षित रहेंगे और उनके द्वारा यह धारण दिमाग में पैदा हो जायेगी कि वहां जाकर कोई फ़ायदा नही है वहा तो सुरक्षा ही नही है। शुक्र वहां पर आराम के साधन देगा,शुक्र ही वहां आने जाने के साधन देगा,शुक्र से ही आने जाने के साधनों का विवेचन करना पडेगा,जैसे राहु शुक्र अगर हवा की राशि में है तो वाहन हवाई जहाज या हेलीकाप्टर होगा,शुक्र अगर शनि के साथ है,और जमीन की राशि में है तो रिक्से से या जानवरों के द्वारा खींचे जाने वाले अथवा घटिया वाहन की तरफ़ सूचित करेगा।


ग्रह कभी भी नौकरी करवाने के लिये मजबूर नही करता है,नौकरी तो आलस से की जाती है,आलस के कारण कोई रिस्क नही लेना चाहता है,हर आदमी अपनी सुरक्षा से दालरोटी खाना चाहता है,और चाहता है कि वह जो कर रहा है उसके लिये एक नियत सुरक्षा होनी चाहिये,जैसे के आज के युवा सोचते है कि शिक्षा के बाद नौकरी मिल जावे और नौकरी करने के बाद वे अपने भविष्य को सुरक्षित बना लें,जिससे उनके लिये जो भी कमाई है वह निश्चित समय पर उनके पास आ जाये।


यह एक गलत धारणा भी हो सकती और सही भी,जैसे कि हर किसी के अन्दर दिल मजबूत नही होता है,चन्द्रमा अगर त्रिक भाव मे है तो वह किसी प्रकार से रिस्क लेने में सिवाय घाटे के और कोई बात नही सोच पायेगा,किसी के लगनेश अगर नकारात्मक राशि में है तो वह केवल नकारात्मक विचार ही दिमाग में लायेगा।


दरअसल, ज्योतिष भविष्य नहीं बताता, बल्कि ग्रह-नक्षत्रों के अध्ययन से जातक के भविष्य में घटने वाले शुभ-अशुभ योग-संयोग के बारे में अवगत कराता है। इसके अनुरूप अगर सावधानी बरती जाए तो निश्चित ही फायदा होता है। यह लगभग वैसा ही है, जैसे मौसम की भविष्यवाणी करना।


ज्योतिष के अनुसार ग्रहों के प्रभाव प्रतिकूल या अनुकूल हो सकते है। ज्योतिषशाचार्य पण्डित दयानन्द शास्त्री से जानिए की किस ग्रह की महादशा और अंतरदशा में जातक को नौकरी या रोजगार का अवसर प्राप्त हो सकता है।
नौकरी के लिए उत्तम दशाएं -

लग्न के स्वामी की दशा और अंतरदशा में



नवमेश की दशा या अंतरदशा में
षष्ठेश की दशा या अंतरदशा में
प्रथम, षष्ठम, नवम और दशम भावों में स्थित ग्रहों की दशा या अंतरदशा में
राहु और केतु की दशा या अंतरदशा में
दशमेश की दशा या अंतरदशा में
द्वितीयेष और एकादशेष की दशा में

नवम भाव भाग्य का भाव माना जाता है। भाग्य का बलवान होना अति आवश्यक है अतः नवमेश की दशा या अंतरदशा में भी नौकरी मिल सकती है।

छठा भाव प्रतियोगिता का भाव माना जाता है। दशम भाव से नवम अर्थात भाग्य और नवम भाव से दशम अर्थात व्यवसाय का निर्देश करता है अतः षष्ठेश की दशा या अंतरदशा में भी नौकरी मिल सकती है। जो ग्रह प्रथम, षष्ठम, नवम और दशम में स्थित हों वे भी अपनी दशा या अंतरदशा में नौकरी दे सकते हैं।


नौकरी के लिये शनि के उपाय
नौकरी का मालिक शनि है लेकिन शनि की युति अगर छठे भाव के मालिक से है और दोनो मिलकर छठे भाव से अपना सम्बन्ध स्थापित किये है तो नौकरी के लिये फ़लदायी योग होगा,अगर किसी प्रकार से छठे भाव का मालिक अगर क्रूर ग्रह से युति किये है,अथवा राहु केतु या अन्य प्रकार से खराब जगह पर स्थापित है,अथवा नौकरी के भाव का मालिक धन स्थान या लाभ स्थान से सम्बन्ध नही रखता है तो नौकरी के लिये फ़लदायी समय नहीं होगा।


 


पण्डित दयानन्द शास्त्री


-



सम्बंधित खबरें



खबरें स्लाइड्स में


खबरें ज़रा हट के