aapkikhabar aapkikhabar

एक फरवरी को  मोदी सरकार के कार्यकाल का अंतिम बजट पेश करेंगे वित्त मंत्री अरुण जेटली



एक फरवरी को  मोदी सरकार के कार्यकाल का अंतिम बजट पेश करेंगे वित्त मंत्री अरुण जेटली

अरुण जेटली

देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद 31 जनवरी को संसद के दोनों सदनों को संयुक्त रुप से संबोधित कर सकते हैं और उसी दिन आर्थिक सर्वे भी पेश किया जा सकता है। 



 डेस्क-गृह मंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता में कैबिनेट कमेटी ऑन पार्लियामेंट्री अफेयर्स की समिति ने बजट सत्र की तारीखों पर विचार-विमर्श किया, राज्यसभा के स्थगित होने के बाद अंतिम निर्णय की घोषणा होने की संभावना है। इसके बाद सिफारिशें राष्ट्रपति के पास भेजी जाएंगी।


वहीं देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद 31 जनवरी को संसद के दोनों सदनों को संयुक्त रुप से संबोधित कर सकते हैं और उसी दिन आर्थिक सर्वे भी पेश किया जा सकता है। बजट सेशन जो कि आमतौर पर दो चरणों में होता है वो एक चरण का हो सकता है, क्योंकि अप्रैल-मई महीने में देश में आम चुनाव होने हैं। यह वर्तमान लोकसभा का भी आखिरी सत्र हो सकता है।


गौरतलब है कि संसद का शीतकालीन सत्र मंगलवार को समाप्त होने वाला था लेकिन इसे राज्यसभा के लिए एक दिन बढ़ा दिया गया। ऐसा इसलिए क्योंकि नौकरियों और शैक्षणिक संस्थानों में आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के लिए 10 फीसद का आरक्षण प्रदान करने वाले संविधान संशोधन विधेयक को प्रस्तुत किया जाना था और उस पर चर्चा होनी थी।
आपको बता दें कि मोदी सरकार के कार्यकाल का यह अंतिम बजट होगा। अंतरिम बजट में किसानों के मुद्दे को प्राथमिकता दिए जाने की उम्मीद है। इससे पहले फुल बजट पेश किए जाने की खबर आई थी, जिसका सरकार ने खंडन कर दिया था।


संसद का बजट सत्र 31 जनवरी से 13 फरवरी तक चल सकता है वहीं केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली 1 फरवरी 2019 को अपना अंतरिम बजट पेश कर सकते हैं। यह जानकारी सरकारी सूत्रों के जरिए सामने आई है।



जानिए इस वर्ष 15 जनवरी 2019 को क्यों मनेगी मकर संक्रांति एवम जानिए आपकी राशि अनुसार उसका फल


 


-



सम्बंधित खबरें



खबरें स्लाइड्स में


खबरें ज़रा हट के