aapkikhabar aapkikhabar

करोड़ो रूपये जमा कराने वाली इस कम्पनी का पुलिस ने किया भंडाफोड़



करोड़ो रूपये जमा कराने वाली इस कम्पनी का पुलिस ने किया भंडाफोड़

अपर पुलिस अधीक्षक बाराबंकी

कोलकाता की यह कम्पनी देती थी 4 प्रतिशत मासिक ब्याज का झांसा 



बाराबंकी-विजय माल्या , ललित मोदी मेहुल चौकसी और नीरव मोदी ने बैंक को झांसा देकर हज़ारों करोड़ रुपये के साथ देश से फरार हो गए मगर अभी देश के अन्दर और भी बहुत से लोग ऐसे मौजूद है जो भोले - भाले लोगों को लालच देकर अवैध तरीके से उनका धन हड़प लेते है । कुछ ऐसी ही कहानी बाराबंकी में देखने को मिली जब पश्चिम बंगाल राज्य के कोलकाता शहर की एक कम्पनी के कई कर्ताधर्ता आज पुलिस के हत्थे चढ़ गए । पुलिस ने इनके खिलाफ मुकदमा दर्ज कराकर जेल रवाना कर दिया है । पुलिस ने अपनी प्रारम्भिक जाँच में इस कम्पनी को अवैध माना है जो सिर्फ बाराबंकी से ही करोड़ो रूपये जुटा चुकी है । पुलिस की इस कार्यवाई नें अपना पैर पसार रही एक फ्रॉड कम्पनी से लोगों को इसका शिकार होने से बचा लिया। हालांकि तीन हज़ार से ज्यादा लोगों को इसने अपना शिकार बना लिया था ।



बाराबंकी पुलिस की गिरफ्त में आये यह तीनों लोग पश्चिम बंगाल के कोलकाता शहर के निवासी है और यहाँ राजधानी लखनऊ में अपना कार्यालय खोलकर पूरे प्रदेश में अपना जाल फैला रखे थे । यह अपने मंसूबों में कामयाब हो पाते इससे पहले ही बाराबंकी पुलिस की कुदृष्टि इन पर पड़ गयी और इनका भंडाफोड़ हो गया । इनकी कामयाबी का अंदाज़ा आप इसी बात से लगा सकते है कि सिर्फ बाराबंकी के 3000 से भी ज्यादा लोगों का शिकार यह लोग कर चुके थे और आगे भी अपना पैर पसारने में लगे हुए थे । पुलिस की गिरफ्त में आने के बाद यह माना जा सकता है कि जनपद में अपना पैर जमा रही इस कम्पनी से लाखों लोगों को पुलिस ने इनकी ठगी से बचा लिया है ।



हालाकि पुलिस की गिरफ्त में खड़े इन आरोपियों की अगर माने तो यह कोई गलत काम नही कर रहे थे जिनसे पैसा लिया जा रहा था उन्हें समय से पैसा वापस दे दिया जाता । यह आरोपी यह जरूर मानते है कि इस कम्पनी के पास मल्टी लेवल मार्केटिंग का अधिकार नही था जो वह अवैध तरीके से कर रहे थे । आरोपियों ने यह भी बताया कि उनके द्वारा लोगों से लिया जा रहा पैसा शेयर मार्केट में लगाया जा रहा था और मुनाफा पैसा देने वाले व्यक्ति को दिया जा रहा था । जिसमे कुछ भी अवैध नही है ।



बाराबंकी के अपर पुलिस अधीक्षक दिगम्बर कुशवाहा ने बताया कि हैदरगढ़ निवासी सावले शर्मा के द्वारा विस्वास ट्रेडिंग प्राइवेट लिमिटेड कम्पनी के विरुद्ध दर्ज कराई गई शिकायत पर गोपनीयता से जाँच की गयी तो पता लगा कि यह कम्पनी पश्चिम बंगाल के कोलकाता शहर की है । यह लखनऊ के विभूति खण्ड में अपना ऑफिस बना कर बाराबंकी व आसपास के जनपदों में अपना काम कर रही थी । इसके लोग लोगों को 4 प्रतिशत मासिक ब्याज का लालच देकर लोगों से पैसा इकट्ठा कर रहे थे और पैसा शेयर बाजार में ग्राहक के नाम से न लगाकर अपने नाम से लगा रहे थे ।कम्पनी के द्वारा मल्टी लेवल मार्केटिंग की जा रही थी । इस कम्पनी के लोगों ने सिर्फ बाराबंकी से तीन हज़ार से ज्यादा लोगों को ठगने का काम किया है । इन लोगों के द्वारा किया जा रहा काम पूरी तरह से अवैध है और यह लोग कभी भी बड़ी रकम लेकर यहाँ से भाग सकते है । इन लोगों की प्रारंभिक जाँच के दौरान लखनऊ स्थित इनके कार्यालय को सील कर दिया गया है और इनका डेटा भी सेव कर लिया गया है । इस कम्पनी में शामिल कोलकाता के प्रेसनजीत ,शंकर गायन और धीरज श्रीवास्तव को गिरफ्तार किया गया है ।


 


रिपोर्टर, सैफ मुख्तार


-



सम्बंधित खबरें



खबरें स्लाइड्स में


खबरें ज़रा हट के