aapkikhabar aapkikhabar

 बच्चों के स्कूल में आवारा जानवरों का कब्जा, बर्बाद हो रही फसल



 बच्चों के स्कूल में आवारा जानवरों का कब्जा, बर्बाद हो रही फसल

छुट्टा जानवर

बर्बाद हो रही फसल से आजिज किसानों ने प्राइमरी स्कूल में भरे छुट्टा सांड, प्रशासन के फूले हाथ-पैर



 बाराबंकी-बाराबंकी से आज एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। छुट्टा जानवरों से बर्बाद हो रही फसल से आजिज आकर यहां के कुछ किसानों ने उन्हें गांव के एक प्राइमरी स्कूल में बंद कर दिया। इससे स्कूल में हड़कंप मच गया और बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हुई। दरअसल ये किसान आवारा जानवरों की वजह से परेशान हैं। जिसको लेकर कई बार इसकी शिकायत अधिकारियों से भी कर चुके हैं, लेकिन कोई सुनवाई न होने पर उन्होंने ये कदम उठाया।



शिक्षा के मंदिर में जानवर सुनकर आप चौक जरूर जाएंगे लेकिन ये सच है। आज बाराबंकी जिले की सिरौलीगौसपुर तहसील के प्राथमिक विद्यालय कमरौली में ग्रामीणों ने आवारा जानवरों को लाकर बंद कर दिया। नाराज ग्रामीणों का कहना है कि ये जानवर क्षेत्र की सड़कों, खेतों में घूमते हैं और हमारी की फसल खराब कर देते हैं। हम लोग इन आवारा जानवरों से बहुत परेशान हैं। वैसे तो ग्रामीण खुद ही अपने खेतों की रखवाली करते हैं लेकिन आजकल ठंड के चलते रात में खेतों की रखवाली करना मुश्किल हो रहा है। जिसके चलते आवारा जानवर खेतों में घुस कर पूरी फसल तबाह कर देते हैं। कई बार अधिकारियों से गुहार लगाने पर भी किसी के कान पर जू नहीं रेंगी। जिसके चलते गुस्साए किसानों आवारा जानवरों को पकड़ कर प्राइमरी स्कूल परिसर में बंद कर दिया।



किसान शिव कैलाश ने बताया कि आवारा जानवर खेतों में आतंक मचाए हुए हैं। पहले तो हम लोग बाढ़ के चलते टूट चुके हैं और अब आवारा जानवर उनकी फसलों को बर्बाद कर रहे हैं। आवारा जानवरों ने कई लोगों को घायल भी किया है। किसानों का कहना है कि जब खेत में कुछ होगा ही नहीं तो हम लोग क्या खाएंगे। हमारे बच्चे भूखों मरने की कगार पर पहुंच चुके हैं। जब तक इन छुट्टा जानवरों का कोई इंतजाम नहीं किया जाएगा, हम लोगों की परेशानी ऐसे ही बनी रहेगी।



वहीं विद्यालय के प्रधानाध्यापक शिव कैलाश ने बताया कि जब वह आए तो देखा कि गांव वालों ने स्कूल का ताला तोड़कर आवारा जानवरों को अंदर बांध दिया है। प्रधानाध्यापक ने गांव वालों से जब बात की तो उन लोगों ने साफ कहा कि जानवर स्कूल में ही रहेंगे, आप बच्चों को कहां और जाकर पढाइये।



 ग्रामीणों द्वारा विद्यालय में आवारा जानवरों के बांधे जाने की सूचना पर जब एसडीएम सिरौलीगौसपुर संतोष कुमार मौके पर पहुंचे तो नजारा देखकर हैरान रह गए। उन्होंने बताया कि जानकरी मिलने पर वह यहां आए। एसडीएम ने बताया कि वह आवारा जानवरों को ले जाकर गौशालाओं में ले जाएंगे। जहां-जहां से इस तरह की शिकायतें आ रही हैं, वहां से जानवरों को ले जाकर गौशालाओं में सुरक्षित ले जाया जा रहा है। एसडीएम ने बताया कि आवारा जानवरों से जिन किसानों का नुकसान हुआ नियम के मुताबिक उनकी मदद की जाएगी। सारे ग्रामाीणों से बात करके उन्हें समझा लिया गया है और छुट्टा जानवरों के संबंध में उनकी पूरी मदद की जाएगी।



रिपोर्टर ,सैफ मुख्तार


-



सम्बंधित खबरें



खबरें स्लाइड्स में


खबरें ज़रा हट के