aapkikhabar aapkikhabar

 Makar Sankranti 2019:मकर संक्रांति के दिन  सूर्य की  किरणों का जाने क्या है महत्व 



aapkikhabar
+3

Makar Sankranti 2019 मकर संक्रांति पर सूर्य देव की पूजा-अर्चना और ध्यान किया जाता है. सूर्य ऊर्जा के स्त्रोत हैं और पृथ्वी पर जीवन सूरज की वजह से ही संभव है. वास्तुशास्त्र में भी सूर्य के महत्व को बताया गया है|


डेस्क-Makar Sankranti 2019 मकर संक्रांति पर सूर्य देव की पूजा-अर्चना और ध्यान किया जाता है. सूर्य ऊर्जा के स्त्रोत हैं और पृथ्वी पर जीवन सूरज की वजह से ही संभव है. वास्तुशास्त्र में भी सूर्य के महत्व को बताया गया है. इसी कारण जब लोग घर बनवाते हैं तो खिड़की और दरवाजे इस तरह बनवाते हैं ताकि सूर्य की रोशनी घर में आए और सकारात्मकता का प्रवाह बना रहे.


आइए जानते हैं घर के वास्तु को किस तरह प्रभावित करती है सूर्य की किरणें



  • वास्तु शास्त्र के अनुसार, ईशान कोण में पूजाघर और स्टडी बनवानी चाहिए.

  • इसकी वजह है कि सुबह 4 से 6 बजे के बीच में सूर्य ईशान कोण (पूर्व-उत्तर) दिशा में रहता है.

  • यह समय पूजा और पढ़ाई-लिखाई के लिए बहुत अच्छा होता है.

  • वास्तुशास्त्र के अनुसार घर के मुख्यद्वार इस तरह बनवाना चाहिए ताकि सूर्य की किरणें सीधे इसमें प्रवेश करें.

  • सूर्योदय से लेकर सुबह 9 बजे तक सूर्य पूर्व दिशा में रहता है.

  • घर की इस दिशा को साफ-सुथरा रखना चाहिए.वास्तु शास्त्र के अनुसार, किचन आग्नेय कोण (पूर्व दक्षिण) में बनवाना चाहिए.

  • सुबह 9 से दोपहर 12 बजे तक सूर्य इसी दिशा में रहता है .

  • इस दौरान खाना बनाने से सूर्य की रोशनी का प्रभाव भी उसमें मिल जाता है.

    Body में है Blood की कमी पूरा करने के लिए इन चीजों का करे सेवन 


 

पिछली स्लाइड     अगली स्लाइड


सम्बंधित खबरें



खबरें स्लाइड्स में


खबरें ज़रा हट के