aapkikhabar aapkikhabar

शनि प्रदोष व्रत आज ऐसे करें शिव और शनि की पूजा  मिलेंगे शुभफल 



शनि प्रदोष व्रत आज ऐसे करें शिव और शनि की पूजा  मिलेंगे शुभफल 

शनि प्रदोष व्रत

शनि प्रदोष व्रत:जब यह व्रत जब शनिवार को पड़ता है तो उसे शनि प्रदोषम् कहा जाता है।


 


डेस्क-हमारे हिन्दू धर्म में हर दिन भगवान की पूजा की जाती है और हर माह में भगवान के व्रत रखें जाते हैं। बताया जाता है कि जो इंसान भगवान की पूजा सच्चे दिल से करते हैं उनके जीवन में सभी कष्ट समाप्त हो जाते हैं।


 यह व्रत प्रत्येक माह के कृष्ण पक्ष और शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी वाले दिन किया जाता है। जब यह व्रत जब शनिवार को पड़ता है तो उसे शनि प्रदोषम् कहा जाता है। शनिवार के दिन इस पावन व्रत को पुत्र की कामना से किया जाता है।प्रदोष काल में की जाने वाली साधना, व्रत एवं पूजन को प्रदोष व्रत या अनुष्ठान कहा गया है।


तिथि के अनुसार शनिवार को रहेगा प्रदोष व्रत



ज्योतिषशास्त्र के अनुसार पौष शुक्ल त्रयोदशी 18 जनवरी के दिन केवल 8 मिनट तक है। त्रयोदशी रात 8:23 मिनट से 8:31 मिनट तक ही है। 19 जनवरी को पूरे दिन सूर्योदय से प्रदोषकाल से कुछ पूर्व ही समाप्त होएगी है। अत: शुक्ल प्रदोषकाल दूसरे दिन 19 जनवरी को ही माना जायेगा।


पौराणिक महत्व
कहते हैं कि प्रदोषकाल में भगवान शिव कैलाश पर्वत पर प्रसन्न मुद्रा में नृत्य करते हैं। ऐसे में इस पावन तिथि पर भगवान शिव की पूजा करने से वे जल्दी प्रसन्न होकर अपने भक्तों को सुख-समृद्धि का वरदान देते हैं। धर्म और मोक्ष से जोड़ने वाले, अर्थ और काम से मुक्त करने वाले इस व्रत को शास्त्रों में आरोग्य और लंबी आयु प्रदान करने वाला बताया गया है।


व्रत विधि
त्रयोदशी के दिन भगवान शिव को समर्पित प्रदोष व्रत पुत्र की कामना, कर्ज से से मुक्ति, सुख-समृद्धि-सौभाग्य और आरोग्य आदि की कामना से किया जाता है। इस व्रत के दिन साधक को सुबह उठकर स्नान-ध्यान के पश्चात् इस व्रत का संकल्प करना चाहिए। पूरे दिन व्रत रखते हुए सायंकाल सूर्यास्त के बाद एक बार फिर स्नान करने के पश्चात् भगवान शिव का विधि-विधान से पूजन एवं साधना करना चाहिए।


व्रत का फल
पौराणिक मान्यता के अनुसार प्रदोष व्रत करने वाले साधक पर सदैव भगवान शिव की कृपा बनी रहती है और उसका दु:ख दारिद्रय दूर होता है और कर्ज से मुक्ति मिलती है। प्रदोष व्रत में शिव संग शक्ति यानी माता पार्वती की पूजा की जाती है, जो साधक के जीवन में आने वाली सभी बाधाओं को दूर करते हुए उसका कल्याण करती हैं।



शुक्रवार को लक्ष्मीजी की पूजा से होती है धन वर्षा, जाने कैसे करे पूजा


-



सम्बंधित खबरें



खबरें स्लाइड्स में


खबरें ज़रा हट के