aapkikhabar aapkikhabar

ईस्ट दिल्ली म्यूनिसपल कारपोरेशन-भाजपा पार्षद ने की अभद्र टिप्पणी, आप के तीन पार्षद सस्पेंड



ईस्ट दिल्ली म्यूनिसपल कारपोरेशन-भाजपा पार्षद ने की अभद्र टिप्पणी, आप के तीन पार्षद सस्पेंड

संजय सिंह और दिलीप पाण्डेय

सांसद संजय सिंह ने कहा कि वैसे तो कांग्रेस भाजपा का विरोध करती है लेकिन जब सही मायने में विरोध करना होता है तो वोभी बीजेपी के साथ खड़ी हो जाती है।


नयी दिल्ली। ईडीएमसी के बजट सत्र के दौरान आप पार्षदों के साथ गाली गलोच अभद्र टिप्पणी करने वाले पार्षद के निलबंन की मांग आज आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद संजय सिंह और प्रदेश अध्यक्ष दिलीप पाण्डे ने की। साथ ही दोनों नेताओं ने कांग्रेस के निराशानजनक व्यवहार पर क्षोभ व्यक्त करते हुए कहा कि भाजपा और कांग्रंेस एक ही सिक्के दो पहलू हैं जो दलितों और अल्पसंख्यकों के साथ सौतेला व्यवहार करने से बाज नहीं आ रहे हैं।


सांसद संजय सिंह ने कहा कि वैसे तो कांग्रेस भाजपा का विरोध करती है लेकिन जब सही मायने में विरोध करना होता है तो वोभी बीजेपी के साथ खड़ी हो जाती है। श्री सिंह ने कहा कि इतना ही नहीं पार्षदों के साथ गाली गलौज करने वाले पार्षद के खिलाफ कार्रवाई करने के बजाय मेयर ने आप पार्षदों को ही ससपेंड कर दिया। इस मामले से भाजपा की ओछी मानसिकता का पता चलता है कि वो दलितों और अल्पसंख्यकों के बारे क्या विचार रखते हैं। आम आदमी पार्टी दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष दिलीप पाण्डेय ने केन्द्र सरकार से यह अपील की है कि सबसे पहले आरोपी पार्षद को तत्काल सस्पेंड किया जाये। दूसरी उसके खिलाफ जांच करायी जाये।


तीसरी अगर उस जांच में वो दोषी हो तो उसे एक सप्ताह तक सदन की कार्रवाई से निलंबित किया जाये। साथ ही मेयर के खिलाफ भी पक्षपातपूर्ण रवैया अपनाने के लिये उन पर भी तत्काल ऐक्शन लिया जाये। पूरे मामले के बारे में पार्षद कुलदीप ने बताया कि 4 फरवरी को बजट सत्र के दौरान जब मैं, पार्षद रेखा त्यागी, हसीबुल हसन चर्चा में भाग लेने के लिये ईडीएमसी पहुंचे तो चर्चा की शुरूआत में ही भाजपा पार्षद रोमेश गुप्ता ने हसीबुल हसन के जातिगत अभद्र टिप्पणी करते हुए कहा कटुए तू तो चुप रहे। इस पर आप पार्षदों इस टिप्पणी ऐतराज जताते हुए मेयर विपिन बिहारी से आपत्ति जतायी। उनसे अकेले में आप पार्षद व सदन के नेता प्रतिपक्ष अनिल वाजपेयी के नेतृत्व में मेयर से मिले तो उन्होंने आश्वासन दिया कि वो आरोपी पार्षद से सार्वजनिक तौर माफी मंगवायेंगे। लेकिन जैसे ही वो सदन में पहुंचे उन्होंने आप पार्षदों को तत्काल प्रभाव से ससपेंड कर दिया। मेयर की इस कार्रवाई से आप सभासदों में रोष छा गया। दिलचस्प बात तो यह रही कि सदन में मौजूद कांग्रेस के पार्षद मूकदर्शक बने खड़े रहे।उन्होंने मेयर की इस पक्षपातपूर्ण कार्रवाई का विरोध नहीं किया। इससे साफ जाहिर हो रहा था कि कांग्रेस भी भाजपा के इस अनीति पूर्ण कार्रवाई में साथ दे रही हैं|


 


LIC के इस Plan में लगाएं पैसा, मिलेगा इतना फायदा


विनय गोयल


-



सम्बंधित खबरें



खबरें स्लाइड्स में


खबरें ज़रा हट के